हिन्दू त्योहारों को बदनाम करने की साजिश!, नवरात्रि स्पेशल के नाम पर महिला अंतःवस्त्रों का घटिया विज्ञापन, Boycott की उठी मांग

नवरात्रि पर बधाई देते हुए या किसी ऐसे प्रोडक्ट का प्रचार जिसका नवरात्रि से कोई लेना देना हो, ऐसे विज्ञापन आपने देखे भी होंगे और इससे किसी को कोई परेशानी भी नहीं होती! लेकिन अगर कोई नवरात्रि के बीच में “नवरात्रि ब्रा” का विज्ञापन बनायें और उसे एक ऑफर से जोड़कर प्रचार करें तो हंगामा तो मचना तय है!

Written by: October 13, 2021 6:26 pm

नई दिल्ली। वैसे आपने त्योहारों से पहले तमाम तरह के प्रचार, विज्ञापन देखे होंगे लेकिन अक्सर हिन्दू त्योहारों के आस-पास कुछ ऐसे विज्ञापन बना दिए जाते हैं जिनपर विवाद होना लाजमी होता है। इस वक्त पूरा देश नवरात्रि का त्यौहार बड़े ही धूम-धाम से मना रहा है। नवरात्रि पर बधाई देते हुए या किसी ऐसे प्रोडक्ट का प्रचार जिसका नवरात्रि से कोई लेना देना हो, ऐसे विज्ञापन आपने देखे भी होंगे और इससे किसी को कोई परेशानी भी नहीं होती! लेकिन अगर कोई नवरात्रि के बीच में “नवरात्रि ब्रा” का विज्ञापन बनायें और उसे एक ऑफर से जोड़कर प्रचार करें तो हंगामा तो मचना तय है!

आपको बता दें कि ई कामर्स वेबसाइट में शामिल शाइअवे को आप जानते ही होंगे। इस वेबसाइट ने महिलाओं के अंग वस्त्र ‘ब्रा’ पर एक विज्ञापन बनाया है। जिसे नाम दिया है “नवरात्रि ब्रा”। इतना ही नहीं, पूरी जानकारी के साथ इस विज्ञापन में लिखा गया है कि, “नवरात्रि लिंगरी कलेक्शन- खास दिन पर खूबसूरत दिखने के लिए सबसे अच्छी लिंगरी की तलाश है, शाइअवे सबसे अच्छी जगह है एक बार लिंगरी कलेक्शन की वेराइटी पर नजर डालिए और नवरात्रि लिंगरी तो ऑफर देती है कि आप ज्यादा खरीदते वक्त ज्यादा बचत करें। आपके लिए स्ट्रैपलेस ब्रा है, सीमलेस ब्रा है, प्लंज ब्रा है, पुश अप ब्रा है और भी बहुत कुछ है। लिंगरी कलेक्शन में आपको नए डिजाइन और स्टाइल कलेक्शन मिलेंगे। बिलकुल नए नवरात्रि अधोवस्त्र संग्रह मिलेंगे शाइअवे पर वो भी उचित दामों पर।”

अब नवरात्रि के बीच शाइअवे के “नवरात्रि ब्रा” वाले विज्ञापन पर लोगों का गुस्सा फूट रहा है। देखिये कैसे लोगों ने प्रतिक्रिया दी है!

ये कोई पहला मौका नहीं है जब इस तरह के पवित्र त्योहार के बीच इस तरह के घटिया विज्ञापन चलाए जा रहे हो। हाल ही में नायका ने नवरात्रि का नाम लेकर कंडोम बेचने की कोशिश की थी लेकिन तब लोगों ने कड़ी फटकार लगाईं थी। इतना ही नहीं, शाइअवे ने ही रक्षा बंधन के त्यौहार पर भी इसी तरह की घटिया विज्ञापन का उदाहरण दे चुका है। अब लोगों का मानना है कि अगर इन लोगों को सबक नहीं सिखाया गया तो इनके कदम रुकेंगे नहीं।

Support Newsroompost
Support Newsroompost