Connect with us

देश

Farmani Naaz: शिव के बाद अब कृष्ण का भजन गाने वाली फरमानी नाज का कट्टरपंथियों को जवाब, बोलीं- हम किसी को…

उन्होंने कहा कि कलाकार को किसी धर्म से जोड़ना ठीक नहीं है। कोई अपनी खुशी से कोई काम नहीं करता। मजबूरी उसे काम कराने पर मजबूर करती है। फरमानी नाज ने कहा कि मेरा बच्चा छोटा था। उसे पालने के लिए गाने लगी। मैं बचपन से तो नहीं गाती थी।

Published

singer farmani naaz with brother farman

नई दिल्ली। भगवान शिव का भजन गाकर कट्टरपंथियों और मौलानाओं के निशाने पर आने वाली यूपी की सिंगर फरमानी नाज ने अब भगवान कृष्ण का भजन गाया है। इसके साथ ही उन्होंने हिंदू देवी-देवताओं का भजन गाने पर निशाना बनाने वाले कट्टरपंथियों को तगड़ा जवाब भी दिया है। न्यूज चैनल एबीपी न्यूज के प्रोग्राम में फरमानी ने साफ कहा कि हिंदू देवी देवताओं के भजन गाकर वो किसी के साथ न तो गलत कर रही हैं और न ही किसी को दुख पहुंचा रही हैं। फरमानी ने कहा कि हिम्मत होनी चाहिए कि हम कहें कि कलाकार हैं और कलाकार का कोई धर्म नहीं होता।

singer farmani naaz

फरमानी ने आगे कहा कि भजन सुनने वालों का भी एक धर्म होता है और हर हिंदुस्तानी को अपनी तरह से जिंदगी जीने का हक है। उनसे जब पूछा गया कि तमाम मौलाना कहते हैं कि इस्लाम में गाने या डांस को मंजूरी नहीं है, तो फरमानी ने कहा कि वक्त ऐसी चीज है, जो हर तरह के काम करा देती है। उन्होंने कहा कि कलाकार को किसी धर्म से जोड़ना ठीक नहीं है। कोई अपनी खुशी से कोई काम नहीं करता। मजबूरी उसे काम कराने पर मजबूर करती है। फरमानी नाज ने कहा कि मेरा बच्चा छोटा था। उसे पालने के लिए गाने लगी। मैं बचपन से तो नहीं गाती थी। मजबूरी में ये काम किया, लेकिन कुछ लोग सवाल उठाने लगे।

बता दें कि फरमानी का शिव भजन जब यूट्यूब पर अपलोड हुआ था, तो देवबंद के एक मौलवी तक ने इसके खिलाफ फतवा दिया था। उस वक्त भी फरमानी ने कहा था कि मेरे खिलाफ फतवा देने और भजन गाने को गलत बताने वाले उस वक्त कहां थे, जब मेरे पति ने मुझे छोड़ दिया। वहीं, फरमानी के भाई फरमान ने कहा था कि कोई कुछ भी कहे, मेरी बहन गीत संगीत नहीं छोड़ेगी और किसी से हम नहीं डरते हैं।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement