Connect with us

देश

अफगानिस्तान में बने हालात पर केंद्र सरकार ने दिया भरोसा, कहा- भारत और भारतीयों की सुरक्षा लिए हर उपाय करेंगे

Afghanistan: इस संबंध में मीडिया को जानकारी देते हुए विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि अफगानिस्तान में रह रहे अफगान सिख और हिंदू समुदायों के प्रतिनिधियों के संपर्क भारत सरकार बनी हुई है और जो लोग अफगानिस्तान को छोड़ना चाहते हैं, उन्हें जो भी सुविधाएं चाहिए, वो मिलेंगी।

Published

on

नई दिल्ली। अफगानिस्तान में तालिबान द्वारा काबुल पर नियंत्रण पा लेने के बाद अब वहां मौजूद भारतीयों की सुरक्षा को लेकर केंद्र सरकार लगातार अपनी पैनी नजर बनाए हुए है। बता दें कि सोमवार को अफगानिस्तान में चल रहे घटनाक्रम पर भारत सरकार ने अपनी पहली प्रतिक्रिया दी है। भारत सरकार ने कहा कि अफगानिस्तान में बनी स्थिति पर हम लगातार स्थिति पर अपनी नजर बनाए हुए है। अपने नागरिको की सुरक्षा करने की जिम्मेदारी हमारी प्राथमिकता है। सरकार की तरफ से कहा गया है कि, अफगानिस्तान में भारतीयों के हितों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए केंद्र सरकार सभी आवश्यक कदम उठाएगी। इस संबंध में मीडिया को जानकारी देते हुए विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि अफगानिस्तान में रह रहे अफगान सिख और हिंदू समुदायों के प्रतिनिधियों के संपर्क भारत सरकार बनी हुई है और जो लोग अफगानिस्तान को छोड़ना चाहते हैं, उन्हें जो भी सुविधाएं चाहिए, वो मिलेंगी।

अरिंदम बागची ने कहा, “पिछले कुछ दिनों में काबुल में सुरक्षा की नजर से हालात काफी खराब हो गए हैं। यहां तक कि यह स्थिति और तेजी से बदल रही है।” उन्होंने कहा कि कई अफगानी ऐसे भी हैं, जोकि काफी लंबे समय से पारस्परिक विकास, शिक्षा और आपसी मेलजोल बढ़ाने के लिए भारत के सहयोगी रहे हैं। भारत उनके साथ खड़ा है।

बागची ने सरकार की तरफ से उठाए गए कदमों की जानकारी देते हए कहा कि, जो भारतीय अफगानिस्तान में फंसे हैं उनकी सुरक्षा के लिए लगातार एडवायजरी जारी कर रहे हैं, जिनमें उनसे कहा जा रहा है कि वो तुरंत भारत वापस आएं। उन्होंने कहा कि हमने लोगों की सुरक्षा और सहायता के लिए इमरजेंसी नंबर बांटे हैं। हम जानते हैं कि अफगानिस्तान में अभी भी कुछ भारतीय नागरिक हैं जो वापस लौटना चाहते हैं और हम उनके संपर्क में हैं।

Advertisement
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Advertisement