Connect with us

देश

PM Modi: 2024 के चुनाव से पहले आई ऐसी खबर, विपक्षी दलों को लग सकता है सदमा, क्योंकि…

PM Modi: दरअसल, अभी एक रिपोर्ट सार्वजनिक हुई है, जिसमें बताया गया है कि आगामी वित्त वर्ष 2022-23 में भारत एशियाई देश में सर्वाधिक बढ़ती हुई अर्थव्यवस्था की फेहरिस्त में शुमार होने जा रहा है। अब आप इस बात का अंदाजा सहज ही लगा सकते हैं कि जिस मसले को लेकर पिछले कई सालों से विपक्षी दल केंद्र की मोदी सरकार को घेरने की कोशिश कर रहे हैं।

Published

नई दिल्ली। कुछ सियासी पंडित बस यही कहने में मशगूल रहते हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में विपक्ष कमजोर हो चुका है। विपक्षी दल केंद्र की मोदी सरकार को घेर नहीं पा रही है, लेकिन शायद  आप इस बात से अनिभिभ हों कि मौजूदा वक्त में बेशुमार ऐसे मसले हैं, जिसे लेकर विपक्षी दल मोदी सरकार को सवालों के सैलाब में सराबोर कर दे रही हैं। मसलन, हिंदुस्तानी अर्थव्यवस्था की माली हाल, चरम पर पहुंची बेरोजगारी, महंगाई दर और ना जाने कितने ही ऐसे मसले हैं, जिसे लेकर विपक्षी दल केंद्र पर हमलावर रहे हैं, लेकिन इस रिपोर्ट में हम आपको केंद्र की मोदी सरकार से जुड़े एक ऐसे मसले के बारे में विस्तार से बताने जा रहे हैं, जिसे अगर बीजेपी के किसी आलोचक ने जान लिया, तो उसे बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगेगा या फिर यूं कहें कि ये रिपोर्ट उसे तनिक भी रास नहीं आएगी। आइए, अब आपको पूरा मजारा जरा विस्तार से बताते हैं।

दरअसल, अभी एक रिपोर्ट सार्वजनिक हुई है, जिसमें बताया गया है कि आगामी वित्त वर्ष 2022-23 में भारत एशियाई देश में सर्वाधिक बढ़ती हुई अर्थव्यवस्था की फेहरिस्त में शुमार होने जा रहा है। अब आप इस बात का अंदाजा सहज ही लगा सकते हैं कि जिस मसले को लेकर पिछले कई सालों से विपक्षी दल केंद्र की मोदी सरकार को घेरने की कोशिश कर रहे हैं, अब उसी को लेकर केंद्र सरकार के लिए राहतभरी खबर सामने आ रही है, तो यह विपक्षी दलों के लिए किसी सदमे से तो कम होगा नहीं। आइए, जरा आपको इसके बारे में थोड़ा विस्तार से बताते हैं।

दरअसल, मॉर्गन स्टेनली के विश्लेषकों के अनुसार, इस अवधि के दौरान भारत के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में औसतन 7 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की जा सकती है। अगर इस आंकड़े को एशियाई चश्मे के लिहाज से देखे तो एशियाई देशों की तुलना में भारतीय अर्थव्यवस्था 28 फीसद के विकास दर की संभावना व्यक्त की जा सकती है और वैश्विक स्तर पर 22 फीसद की तेजी देखने को मिल सकती है। इतना ही नहीं, कई अर्थशास्त्रियों ने आगामी दिनों में भारतीय अर्थव्यवस्था में मांग में तेजी भी देखने को मिल सकती है। बहरहाल, अब इस खबर के प्रकाश में आने के बाद देश के विपक्षी दलों की क्या कुछ प्रतिक्रिया रहती है। इस पर सभी की निगाहें टिकी रहेंगी। तब तक के लिए आप देश दुनिया की तमाम बड़ी खबरों से रूबरू होने के लिए आप पढ़ते रहिए ।न्यूज रूम पोस्ट.कॉम

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement