Connect with us

देश

अमेरिकी हाथियारों के साथ तालिबानी सेना ने किया शक्ति प्रदर्शन, आसमान में उड़ाए हेलीकॉप्टर

Afagnistan : अब इसी बीच तालिबानियों को लेकर ऐसी खबर सामने आई है, जिसे लेकर चर्चा अपने चरम पर है। दरअसल, कुछ वीडियो और तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं, जिसमें तालिबानी सेना अमेरिकी हथियारों से लैस नजर आ रहे हैं। बताया जा रहा है कि ये तालिबानी अमेरिकी हथियारों से लैस होकर शक्ति प्रदर्शन कर रहे हैं।

Published

on

Taliban

नई दिल्ली।  15 अगस्त…जी हां…उस दिन जब भारत में स्वतंत्रता का उत्सव मनाया जा रहा था, तो हमारा पड़ोसी मुल्क अफगानिस्तान गुलाम बन चुका था। वहां कुछ ऐसा हो चुका था जिसकी कल्पना भर से हमारी रूह कांप सकती है। राष्ट्रपति अशरफ गनी देश को बेहाल छोड़कर दूसरे देश में शरण ले चुके थे। वहीं उनके खुद के देश में खून की होली खेली जा रही थी। पूरे अफगिस्तान में तालिबानियों का कब्जा हो चुका था। अफगानिस्तान के सेना तालिबानियों के आगे घुटने टेक चुके थे। उनके लिए तालिबानियों से लड़ने के लिए कोई हथियार शेष नहीं था। मौजूदा हथियार उनके लिए नाकाफी साबित हो रहे थे। हालांकि जब तक अमेरिकी सेना ने साथ निभाया, तब तक अफगानी सेना भी तालिबानियों का सामना करती रही, लेकिन लगातार मारे जा रहे सैनिकों से चिंतित अमेरिका ने अंत में अपने सारे सैनिक अफगानिस्तान से वापस बुला लिए। जिसके बाद अफगानी सेनाओं ने तालिबानियों के आगे घुटने टेक देना ही मुनासिब समझा। तब से लेकर अब तक वहां तालिबानियों का राज है।

तालिबान

अब इसी बीच तालिबानियों को लेकर ऐसी खबर सामने आई है, जिसे लेकर चर्चा अपने चरम पर है। दरअसल, कुछ वीडियो और तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं, जिसमें तालिबानी सेना अमेरिकी हथियारों से लैस नजर आ रहे हैं। बताया जा रहा है कि ये तालिबानी अमेरिकी हथियारों से लैस होकर शक्ति प्रदर्शन कर रहे हैं। ऐसे में यह सवाल उठना स्वाभाविक है कि आखिर इन तालिबानियों के पास अमेरिकी हथियार कैसे आए। इसके बारे में हम आपको सब कुछ बताएंगे , लेकिन उससे पहले आप यह जान लीजिए कि अफगानिस्तानी सैनिकों की तुलना में तालिबानियों के पास अधिक मारक वाले हथियार मौजूद हैं। यह उसी का नतीजा है कि आज की तारीख में  वे पूरे अफगानिस्तान को अपने कब्जे में कर चुके हैं।

अब बात तालिबानियों के पास आए अमेरिकी हथियारों की करते हैं। ऐसा बताया जा रहा है कि जब अफगानिस्तान में अमेरिकी सैनिक तैनात थे, उस वक्त तालिबानियों ने अमेरिकी सैनिकों से छल से ये हथियार हासिल कर लिए जिसके दम पर आज ये तालिबानी पूरी दुनिया के बीच ये संदेश देने की कोशिश कर रहे हैं कि उनके पास अधिक मारक क्षमता वाले हथियार मौजूद हैं। रक्षा विशेषज्ञों के मुताबिक, तालिबानी ये जताने की भी कोशिश कर रहे हैं कि अगर विश्व का कोई भी देश उनके खिलाफ कोई कदम उठाने से पहले ये सोच लें कि सामरिक मोर्चे पर वे भी किसी से कम नहीं हैं। विदित हो कि  तालिबान के क्रूर रवैये के बाद से लगातार विश्व के कुछेक देश उसके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई करने पर विचार कर रहे हैं और तालिबानियों को इस बात की काफी पहले से ही भनक है कि उनके खिलाफ कभी कोई भी कदम उठा सकता है। शायद यह उसी का नतीजा है कि आज तालिबानी पूरी दनिया में अमेरिकी हथियारों से होकर अपना शक्ति प्रदर्शन कर रहे हैं।

अमेरिकी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने इस संदर्भ में विस्तृत जानकारी देते हुए कहा कि, ‘इनायतुल्लाह ख्वारज़मी ने कहा कि 250 नए प्रशिक्षित नौसैनिकों के लिए परेड का आयोजन किया गया था। इस अभ्यास में यूएस निर्मित एम117 हथियार भी शामिल थे। तालिबानियों के अधिकारियों ने कहा कि आगामी दिनों में  हम अपने सामारिक मोर्चे को दुरूस्त करने की दिशा में काम करते हुए अमेरिकी निर्मित हथियारों का भी उपयोग करेंगे। वहीं, ताबिलानियों ने अपने सैनिकों को खास विशेष पहचान उपलब्ध करवाने हेतु वर्दी करने की बात भी कही है। फिलहाल, वैश्विक मंच पर तालिबानियों के खिलाफ साजिश तैयार करने पर जोर दिया जा रहा है। अब देखना होगा कि आगे चलकर तालिबानियों के खिलाफ क्या कुछ कदम उठाए जाते हैं।

Advertisement
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Advertisement