Connect with us

देश

Uttar Pradesh: संत कबीर की साधना स्थली पर राष्ट्रपति के कार्यक्रम की तैयारियों का मुख्यमंत्री ने लिया जायजा, अफसरों को दिए निर्देश, अचूक सुरक्षा व्यवस्था के बीच न होने पाए किसी को दिक्कत

Uttar Pradesh: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 5 जून को संत कबीर की धरा पर मगहर आएंगे। संत कबीर की समाधि पर मत्था टेकने के साथ ही वह यहां संत कबीर अकादमी व शोध संस्थान तथा विभिन्न विकास कार्यों का लोकार्पण करेंगे।

Published

on

नई दिल्ली। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को महान समाज सुधारक संत कबीर की साधना स्थली मगहर में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के 5 जून के कार्यक्रम की तैयारियों जायजा लिया। इस दौरान उन्हें समूचे कबीर चौरा परिसर का निरीक्षण करते हुए अधिकारियों को निर्देशित किया कि समय रहते सभी कार्य पूर्ण कर लिए जाएं। अचूक सुरक्षा व्यवस्था के बीच किसी को भी कोई दिक्कत नहीं आनी चाहिए। सीएम योगी रविवार दोपहर मगहर पहुंचे। उन्होंने संत कबीर की समाधि स्थली पर जाकर अपनी श्रद्धा निवेदित की। साथ ही राष्ट्रपति के यहां आने को लेकर हो रही तैयारियों की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि संत कबीरनगर में राष्ट्रपति का आगमन बहुत महत्वपूर्ण और सौभाग्य की बात है। उनके कार्यक्रम को लेकर किसी भी स्तर पर चूक नहीं होनी चाहिए।

sant kabir nagar

अधिकारियों को निर्देशित किया कि हमें राष्ट्रपति की भव्य अगवानी करनी है। मगहर में मुख्यमंत्री ने संत कबीर की साधना स्थली कबीर चौरा का सघन भ्रमण व निरीक्षण कर सुरक्षा और अन्य संबंधित व्यवस्थाओं के बारे में हुई तैयारियों के बारे में जानकारी ली और अधिकारियों को आवश्यक दिशानिर्देश दिए। सीएम योगी ने राष्ट्रपति के आगमन को लेकर तैयारियों से जुड़े हर पहलू को खुद परखा। इसके साथ ही उन्होंने अधिकारियों के साथ बैठक कर अब तक हुए इंतजामों की समीक्षा की। बैठक में उन्होंने कहा कि सभी कार्यों को टीमवर्क के साथ सुव्यवस्थित तरीके से पूरा करें।

5 जून को संत कबीर की धरा पर आएंगे राष्ट्रपति

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 5 जून को संत कबीर की धरा पर मगहर आएंगे। संत कबीर की समाधि पर मत्था टेकने के साथ ही वह यहां संत कबीर अकादमी व शोध संस्थान तथा विभिन्न विकास कार्यों का लोकार्पण करेंगे।

कबीर की साधना स्थली को पर्यटन केंद्र के रूप में विकसित कर रही योगी सरकार

योगी सरकार संत कबीर की साधना स्थली को महत्वपूर्ण पर्यटन केंद्र के रूप में विकसित कर रही है। इसके दृष्टिगत यहां संतकबीर अकादमी, शोध संस्थान, गजवे, पार्क, म्यूरल गैलरी, इग्जीविशन सेंटर, पाथवे, कैफेटेरिया, लाइफ एंड साउंड, व्याख्यान केंद्र, घाटों का विकास, संगीतमय फव्वारा, प्रदर्शनी क्षेत्र, सार्वजनिक सुविधाए, मार्ग, प्रदर्शनी गलियारा, प्रकाश व ध्वनि कार्यक्रम, सोलर लाइटें, रंगीन रोशनी, चहारदीवारी, स्मारकों की रोशनी, हाई मास्ट लाइट, नावें, दुकानें, बोटिंग के समय सुरक्षा उपकरण, बेंच, कूड़ेदान, पार्को की ग्रीनरी आदि कार्य कराए गए हैं।

Advertisement
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Advertisement