Lalu Prasad Yadav CBI raid: फिर खड़ी हो गई लालू की खटिया, CBI ने मारा छापा, 17 ठिकानों पर पड़ी रेड

Lalu Prasad Yadav CBI raid: दरअसल, 2004 से लेकर 2009 तक जब लालू यादव रेल मंत्री थे, उस वक्त उन्होंने लोगों की जमीन को लिखवाकर उन्हें नौकरी दी थी। जिसे लेकर 7 जुलाई 2017 को भी सीबीआई ने उनके खिलाफ छापेमारी की थी। बहरहाल, अब आगे चलकर इस पूरे मामले सीबीआई द्वारा लालू के खिलाफ क्या कुछ कार्रवाई की जाती है।

सचिन कुमार Written by: May 20, 2022 9:03 am

नई दिल्ली।  लालू प्रसाद यादव के यहां एक बार फिर मुश्किलों ने अपनी आमद दर्ज कराई है। एक बार फिर लालू यादव की खटिया खड़ी होती हुई नजर आ रही है। दरअसल, सीबीआई ने राजद सुप्रीमो के 17 ठिकानों पर आज सुबह ही छापेमारी की है। सीबीआई अधिकारियों की टीम में पुरुष महिला समेत कुल 10 लोग शामिल थें। बताया जा रहा है कि मौजूदा वक्त में राबड़ी देवी के आवास की सीबीआई अधिकारी जांच कर रहे हैं। हालांकि, अभी सीबीआई की तरफ से रेड के संदर्भ में कोई भी जानकारी साझा नहीं की गई है। बता दें कि रेल  भर्ती घोटाला मामले को लेकर सीबीआई ने उनके खिलाफ यह कार्रवाई की है। लालू पर आरोप है कि उन्होंने रेल मंत्री रहने के दौरान रेल भर्ती में भ्रष्टाचार किया था। जिसकी जांच अभी सीबीआई कर रही है।

बीते दिनों लालू समेत उनकी बेटी के खिलाफ उक्त मसले को लेकर केस भी दर्ज किया गया था। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, जब लालू प्रसाद यादव रेल मंत्री थे, उस वक्त रेल भर्ती में बड़ा घोटाला हुआ था, जिसे ध्यान में रखते हुए सीबीआई ने बड़ी कार्रवाई की गई है। अब ऐसे में देखना होगा कि आगे चलकर यह पूरा माजरा क्या रुख अख्तियार करता है। लेकिन सीबीआई की उक्त कार्रवाई के बाद माना जा रहा है कि आगामी दिनों में बिहार की राजनीति का पारा अपने चरम पर पहुंचेगा। ध्यान रहे कि अभी हाल ही में उन्हें चारा घोटाला मामले में जमानत मिली थी। ऐसी स्थिति में अब उनकी चौखट पर रेलवे भर्ती कथित घोटाला मामले ने अपनी आमद दर्ज कराकर उनकी मुश्किलों में इजाफा कर दिया है। बता दें कि राबड़ी देवी के आवास के बाहर भी सीबीआई ने छापेमारी की है, जहां मौजूदा वक्त में भारी संख्या में पुलिसकर्मियों की तैनाती है। पिछले लंबे समय से लालू यादव स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से भी जूझ रहे हैं। सीबीआई ने रेल भर्ती घोटाले के मामले में उनके दिल्ली समेत बिहार स्थित आवास पर छापेमारी की है।

जानिए पूरा माजरा 

दरअसल, राजद सुप्रीमो पर आरोप है कि 2004 से लेकर 2009 तक, जब लालू यादव रेल मंत्री थे, उस वक्त उन्होंने लोगों की जमीन को लिखवाकर उन्हें नौकरी दी थी। जिसे लेकर 7 जुलाई 2017 को भी सीबीआई ने उनके खिलाफ छापेमारी की थी। बहरहाल, अब आगे चलकर इस पूरे मामले में सीबीआई द्वारा लालू के खिलाफ क्या कुछ कार्रवाई की जाती है। इस पर सभी की निगाहें टिकी रहेंगी। तब तक के लिए आप देश-दुनिया की तमाम बड़ी खबरों से रूबरू होने के लिए पढ़ते रहिए। न्यूज रूम पोस्ट. कॉम