Connect with us

देश

Delhi: जामा मस्जिद में लड़कियों की एंट्री पर यू-टर्न, बैन का फैसला लिया वापस

गौरतलब है कि मस्जिद की दीवारों पर एक प्लेट चस्पा दी गई थी। जिसमें लिखा हुआ था कि, ”जामा मस्जिद में लड़की या लड़कियों का अकेले दाखिला मना है।” मस्जिद प्रशासन के इस फैसले की चौतरफा आलोचना भी हुई।  हिंदू सगंठनों ने भी जामा मस्जिद के इस फैसले की घोर निंदा की थी।

Published

on

jama masjid women

नई दिल्ली। दिल्ली की जामा मस्जिद विवाद पर बड़ी खबर सामने आ रही है। जामा मस्जिद में लड़कियों की एंट्री पर लगाए गए बैन को हटा लिया गया है। जामा मस्जिद में महिलाओं की एंट्री पर लगाई गई पाबंदी को 24 घंटे के भीतर ही वापस ले लिया गया है। दिल्ली एलजी के सूत्रों के अनुसार, दिल्ली उपराज्यपाल वीके सक्सेना (Delhi LG VK Saxena) ने जामा मस्जिद के शाही इमाम बुखारी (Shahi Imam Bukhari) से बात की और जामा मस्जिद में महिलाओं के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने वाले आदेश को रद्द करने का अनुरोध किया। जिसके बाद इमाम बुखारी ने आदेश को रद्द करने पर सहमति जताई है। बता दें कि इससे पहले मस्जिद प्रशासन ने फरमान जारी किया था। जिसमें लड़कियों के जामा मस्जिद आने पर रोक लगा दी थी जिसको लेकर काफी बवाल भी मचा। लेकिन अब विवाद को बढ़ता देख लड़कियों के जामा मस्जिद में एंट्री पर रोक लगाने वाले फैसले को वापस ले लिया गया है।

गौरतलब है कि मस्जिद की दीवारों पर एक प्लेट चस्पा दी गई थी। जिसमें लिखा हुआ था कि, ”जामा मस्जिद में लड़की या लड़कियों का अकेले दाखिला मना है।” मस्जिद प्रशासन के इस फैसले की चौतरफा आलोचना भी हुई।  हिंदू सगंठनों ने भी जामा मस्जिद के इस फैसले की घोर निंदा की थी।

Jama Masjid

इससे पहले आज सुबह दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने जामा मस्जिद में लड़कियों की एंट्री पर रोक लगाने पर गुस्सा जाहिर किया और महिलाओं के प्रवेश पर रोकने के फैसले को गलत बताया। इसके साथ ही स्वाति मालीवाल ने जामा मस्जिद के इमाम को नोटिस भी भेजने की बात भी कही।

Advertisement
Advertisement
Advertisement