Connect with us

देश

Ujjain: शादी का झांसा देकर NRI दूल्हे ने युवती को लगाई 67 लाख की चपत, पुलिस ने किया गिरफ्तार

Ujjain: उज्जैन राज्य साईबर सेल को एक अंतराष्ट्रीय ठग गिरोह के चार सदस्यों को गिरफ्तार करने में कामयाबी मिली है। गिरोह पर आरोप है की छह साल पहले फेसबुक पर दोस्ती कर संत नगर की एक युवती को शादी का झांसा देकर फंसाया और कस्टम से सामान छुड़ाने के नाम पर 67 लाख की चपत लगाई दी।

Published

on

नई दिल्ली। उज्जैन राज्य साईबर सेल को एक अंतराष्ट्रीय ठग गिरोह के चार सदस्यों को गिरफ्तार करने में कामयाबी मिली है। गिरोह पर आरोप है की छह साल पहले फेसबुक पर दोस्ती कर संत नगर की एक युवती को शादी का झांसा देकर फंसाया और कस्टम से सामान छुड़ाने के नाम पर 67 लाख की चपत लगाई दी। पुलिस चारो आरोपियों को दिल्ली से पकड़ कर लाई है। सभी को टीम ने तीन दिन के रिमांड पर लिया है। इसमें से ठगी में दो विदेशी नागरिक भी शामिल है।

संत नगर निवासी युवती को वर्ष 2016 से फेसबुक पर लूईस डर्क नामक विदेशी युवक ने फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी। दोनों के बिच सोशल मीडिया पर दोस्ती होने पर डर्क और युवती फेसबुक व वाट्स अप पर संपर्क में रहे। डर्क ने युवती के सामने शादी का प्रस्ताव रखा जिस पर युवती ने मंजूरी दे दी। कुछ समय बाद डर्क ने फोन कर बताया कि वह शादी के लिए अपने देश से ज्वेलरी,करंसी महंगे गिफ्ट लेकर लेकर आया, लेकिन कस्टम ड्यूटी,मनी लांड्रींग की वजह से एयरपोर्ट पर माल फंस गया। सामान निकालने के लिए रुपयों की जरूरत है। इस पर युवती ने उसके बताए बैंक खातों में पैसे डालने शुरू किए और 2016 से 2018 तक तीन वर्षों में करीब 67 लाख रुपए का चुना लगने के बाद उसे ठगी का एहसास हुआ।


वीजा अवधि खत्म होने के बाद भी अवैध रूप से रह रहे थे

सोमालिया और नाइजीरिया के दोनों विदेशी नागरिकों का वीजा खत्म हो चुका है इसके बाद भी दोनों अवैध रूप से इंडिया में रह रहे थे। दोनों इतने शातिर है की लगातार अपने ठिकाने बदलते रहते थे। और इस दौरान कई लोगो को सोशल मीडिया पर फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजते थे जो फस जाता उसको बातों में फंसाकर उसके साथ ठगी की वारदात को अंजाम देते थे। ठगी के रुपए लेने के लिए गरीब लोगो के अकाउंट खुलवाते और उसमे ट्रांजेक्शन करते थे।


शिकायत पर राज्य साईबर सेल ने 2017 में केस दर्ज कर खोजबीन की। ठग गिरोह का पता चलने पर टीम भेजी। नतीजतन उत्तराखंड के रुद्रपुर से मोहित उसके जीजा सोहन सुखपाल,दिल्ली से नाईजीरिया निवासी एडीके नौउका व सोमालिया के फौजी ओमार को गिरफ्तार कर लिया गया । चारों को उज्जैन लाकर टीम ने सोमवार को कोर्ट से 7 अप्रैल तक रिमांड पर ले लिया है। टीआई रीमा यादव ने बताया कि आरोपियों का मुख्य काम ठगी ही है। उन्होंने किराए के मकान, फर्जी दस्तावेजों के आधार से बैंकों में गरीब अनपढ़ लोगो के खाते खुलवाए । ठगी के लिए अब तक 20 खातों के उपयोग का पता चला है।आरोपियों के खातों में 2016 से 2019 तक करीब 6 करोड़ का ट्रांजेक्शन हुआ है। मामले में चार आरोपी पकड़ में आये है इसमें और भी आरोपी बढ़ने की संभावना है।

Advertisement
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Advertisement