Connect with us

देश

Manish Kashyap: कौन हैं त्रिपुरारी कुमार तिवारी उर्फ मनीष कश्यप, जिन्हें अब करना पड़ा है पुलिस के सामने आत्मसमर्पण

Manish Kashyap: इस वक्त मनीष कश्यप पुलिस के सामने सरेंडर करने पहुंच गए हैं। मनीष कश्यप ने बेतिया के जगदीशपुर थाने में आकर आत्मसमर्पण किया है। उन्होंने पुलिस के सामने आत्मसमर्पण अपने खिलाफ कुर्की जब्त करने के आदेश के जारी होने के बाद किया है।

Published

Manish Kashyap Surrender...

नई दिल्ली। कहते हैं समय बदलते देर नहीं लगती…आज आप जो मौज कर रहे हैं कब वो सजा बन जाए कहा नहीं जा सकता। देखते ही देखते आपके लिए की जाने वाली तारीफे कभी तंज में बदल जाए इसका अंदाजा लगा पाना तो और भी मुश्किल है। अब आप लोग सोच रहे होंगे कि हम ये सारी भूमिका क्यों बना रहे हैं तो आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मनीष कश्यप ने थाने में सरेंडर कर लिया है। जो लोग नहीं जानते उन्हें बता दें कि मनीष कश्यप एक फेमस यूट्यूबर हैं। इनके वीडियोज भी सोशल मीडिया पर काफी वायरल होते रहते हैंं। अपने वीडियो को लेकर ये लोगों के बीच खासा चर्चा में भी रहते हैं। हालांकि इस वक्त मनीष कश्यप पुलिस के सामने सरेंडर करने पहुंच गए हैं। मनीष कश्यप ने बेतिया के जगदीशपुर थाने में आकर आत्मसमर्पण किया है। उन्होंने पुलिस के सामने आत्मसमर्पण अपने खिलाफ कुर्की जब्त करने के आदेश के जारी होने के बाद किया है।

Manish Kashyap Surrender..

क्यों किया है यूट्यूबर ने सरेंडर

यूट्यूबर मनीष कश्यप पर झूठी और विवादास्पद खबरें फैलाने का आरोप लगा है। यूट्यूबर के खिलाफ ये आरोप उन सोशल मीडिया पोस्ट के बाद लगे हैं जिसमें उन्होंने दावा किया था कि तमिलनाडु में बिहार के मजदूरों पर हमले किए जा रहे हैं और इन हमलों की वजह से दो की मौत भी हो गई है। यूट्यूबर मनीष कश्यप की फैन फॉलोइंग काफी है ऐसे में इनकी पोस्ट के बाद से ही माहौल गर्माने लगा था। यहां तक की बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी मामले पर संज्ञान लेते हुए जांच के आदेश दे दिए थे। हालांकि जब तमिलनाडु में जांच के बाद पाया गया कि बिहार के मजदूरों के साथ इस तरह की कोई घटना ही नहीं हुई है तो मनीष कश्यप के खिलाफ झूठी खबरें फैलाने के आरोप में मामला दर्ज हुआ। पुलिस ने कई बार यूट्यूबर को पूछताछ के लिए बुलवाया लेकिन जब वो पेश नहीं हुए तो उनके खिलाफ कुर्की जब्त करने के आदेश दे दिए गए। अब कुर्की का आदेश जारी होने के बाद मनीष कश्यप ने खुद थाने में सरेंडर कर दिया है। बिहार पुलिस की तरफ से भी ट्वीट कर यूट्यूबर के सरेंडर किए जाने की जानकारी दी गई है।


कौन हैं मनीष कश्यप

झूठी खबरें फैलाने के आरोपों में घिरे मनीष कश्यप का जन्म 9 मार्च 1991 को बिहार के पश्चिम चंपारण के डुमरी महनवा गांव में हुआ था। बहुत कम लोग ही ये जानते हैं कि मनीष कश्यप नहीं बल्कि त्रिपुरारी कुमार तिवारी उनका असली नाम है। गांव से ही शुरुआती शिक्षा करने के बाद 2009 में उन्होंने 12 वीं की। इसके बाद उन्होंने महारानी जानकी कुंवर महाविद्यालय से उच्च शिक्षा हासिल कर साल 2016 में पुणे की सावित्रीबाई फुले यूनिवर्सिटी से सिविल इंजीनियरिंग में BE किया। सिविल इंजीनियरिंग के बाद उन्होंने यूट्यूब पर आने का फैसला लिया। यूट्यूब पर आने के बाद वो चर्चा में भी रहे।

Manish Kashyap Surrender.

इसके अलावा राजनीति में भी उन्होंने हाथ आजमाया है। मनीष कश्यप ने साल 2020 में बिहार की चनपटिया विधानसभा सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ा था। मनीष कश्यप की मां एक गृहणी हैं जब्कि उनके पिता उदित कुमार तिवारी भारतीय सेना में रह चुके हैं।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement