Connect with us

खेल

Janaki Easwar: जानिए, कौन है 13 वर्षीय जानकी ईश्वर, जिसने PAK-ENG मैच से पहले अपनी गायिका का जलवा बिखेरा, बजी जमकर तालियां

जानकी ईश्वर की मधुर वाणी के सभी कायल हो गए। मानो किसी कोयल की भांति उनके कंठ से स्वर प्रवाहित हो रहे थे। उनके द्वारा गाए गए गीत को काफी सराहा जा रहा है। भारतीय से लेकर विलायती लोगों तक ने जानकी ईश्वर के गीत को सराहा है।

Published

नई दिल्ली। बतौर हिंदुस्तानी तो यह हम सभी के लिए अफसोसजनक ही है कि टी-20 वर्ल्ड कप में भारतीय टीम का सफर सेमीफाइनल में इंग्लैंड से मिली हार के बाद ही समाप्त हो गया। अगर इंग्लैंड को मात देने में भारतीय टीम सफल रहती तो आज फाइनल में भारतीय टीम होती, लेकिन अफसोस ऐसा हो नहीं पाया। खैर, खेल है, तो खेल में हार-जीत लगी ही रहती है, लिहाजा हमें ज्यादा निराश होने की जरूरत नहीं है। वहीं, आज फाइनल मुकाबला है। फाइनल में पाकिस्तान और इंग्लैंड के बीच भिड़ंत हो रही है। ऐसे में कौन किसे मात देने में सफल रहता है। यह तो फिलहाल आने वाला वक्त ही बताएगा, लेकिन इससे पहले मैच के बीच मेलबर्न मैदान में भारतीय मूल की गायिका जानकी ईश्वर एकाएक आकर्षण का केंद्र बन गईं। इन्होंने इंग्लैंड-पाकिस्तान के मैच से पहले अपनी शानदार गायिकी से पूरी महफिल लूट ली।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by thndo ✨ (@thndo.music)


जानकी ईश्वर की मधुर वाणी के सभी कायल हो गए। मानो किसी कोयल की भांति उनके कंठ से स्वर प्रवाहित हो रहे थे। उनके द्वारा गाए गए गीत को काफी सराहा जा रहा है। भारतीय से लेकर विलायती लोगों तक ने जानकी ईश्वर के गीत को सराहा है, लेकिन इस बीच कुछ भारतीय लोगों में इस बात का भी मलाल दिखा कि काश अगर भारतीय टीम फाइनल में पहुंचने में सफल रहती तो आज बतौर भारतीय हमारी यह खुशी दोगुनी हो जाती, लेकिन अफसोस ऐसा हो नहीं पाया है, मगर जिस तरह की गायिका का जलवा जानकी ईश्वर ने बिखेरा है, उसके सभी कायल हो गए। बता दें कि जानकी ईश्वर का वीडियो भी प्रकाश में आया है, जिस पर लोग अलग-अलग तरह से अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए नजर आ रहे हैं।

वहीं, जानकी ईश्वर के परिवार की बात करें, तो उनके माता-पिता मूल रूप से केरल से हैं। हालांकि, पिछले कई सालों से जानकी के माता-पिता ऑस्ट्रेलिया में ही रह रहे हैं, लेकिन ऑस्ट्रेलिया में रहने के बावजूद भी उन्होंने अपनी भारतीय संस्कृति की तिलांजलि नहीं दी। वे आज भी अपनी भारतीय संस्कृति को सहर्ष आत्मसात करते हैं और अपनी बेटी को भी ऐसा करने के लिए प्रेरित हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, जानकी का खेलों से विशेष लगाव है। विशेषतौर पर क्रिकेट। क्रिकेट के अलावा इन्हें फुटबॉल से भी बेइंतहा इश्क है। वहीं, भारी संख्या में लोगों के बीच प्रदर्शन करना जानकी के लिए गर्व का पल रहा।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement