भारत के तेज गेंदबाजी आक्रमण में अच्छा संतुलन : पोलक

उन्होंने कहा, “अगर आप तीन तेज गेंदबाजों और चार गेंदबाजों के साथ खेलना चाहते हैं तो आपके पास वो खिलाड़ी हैं जो खेल सकते हैं। वो दिन गए जब आपके पास जवागल श्रीनाथ और वेंकटेश प्रसाद थे, लेकिन उनके विकल्प नहीं..जैसे दक्षिण अफ्रीका में थे। तीसरा गेंदबाज और बैकअप गेंदबाज..वो हो सकता है कि उस समय उस स्तर के न रहे हों। मुझे यही लगता कि इसी कमी को भारत ने सुधारा है।”

Written by: June 15, 2020 9:25 am

मुंबई। दक्षिण अफ्रीका के पूर्व क्रिकेट कप्तान शॉन पोलक ने रविवार को कहा कि भारतीय टीम इस समय बहुत मजबूत स्थिति में है क्योंकि उसका तेज गेंदबाजी आक्रमण अच्छा है। पोलक ने साथ ही कहा कि टीम में स्थान पाने के लिए स्वस्थ प्रतिस्पर्धा है जो भारतीय टीम के लिए और भी अच्छी बात है। पोलक ने सोनी नेटवर्क पर पिट स्टॉप शो पर कहा, “भारतीय टीम इस समय काफी मजबूत स्थिति में है (जहां तक तेज गेंदबाजी की बात है)। गेंदबाजी में गहराई, आपके पास जितनी विविधता है, आपके पास कुछ लंबे खिलाड़ी हैं तो कुछ छोटे, तेज, योग्य, गेंद को हिलाने वाले गेंदबाज हैं। आप उन लोगों के बीच में से चुन सकते हैं, आपके पास अच्छा संतुलन है।”

Shaun Pollock

उन्होंने कहा, “अगर आप तीन तेज गेंदबाजों और चार गेंदबाजों के साथ खेलना चाहते हैं तो आपके पास वो खिलाड़ी हैं जो खेल सकते हैं। वो दिन गए जब आपके पास जवागल श्रीनाथ और वेंकटेश प्रसाद थे, लेकिन उनके विकल्प नहीं..जैसे दक्षिण अफ्रीका में थे। तीसरा गेंदबाज और बैकअप गेंदबाज..वो हो सकता है कि उस समय उस स्तर के न रहे हों। मुझे यही लगता कि इसी कमी को भारत ने सुधारा है।”

Shaun Pollock

दाएं हाथ के पूर्व गेंदबाज ने कहा, “मुझे लगता है कि आप लोग अच्छी स्थिति में हैं और आपके पास क्वालिटी है। टीम में जगह बनाने के लिए प्रतिस्पर्धा भी है। मेरी कल जसप्रीत बुमराह से बात हुई थी और वह कह रहे थे कि यह अच्छी बात है कि हर कोई प्रतिस्पर्धा कर रहा है, खेलने को तैयार है, आपको लगातार अच्छा प्रदर्शन करना होता है। अगर आपके कुछ मैच अच्छे नहीं जाते हैं तो कोई और आकर आपका स्थान ले सकता है। इसलिए भारत में स्थिति अच्छी है।”

सलाइवा पर बैन को लेकर पोलक ने कहा कि उम्मीद है कि यह ज्यादा दिन नहीं चलेगा। उन्होंने कहा, “आप गेंद पर पसीने का उपयोग कर सकते हैं। उम्मीद है कि हमें इसे लंबे समय तक नहीं करना पड़े। उम्मीद है कि यह तीन-छह महीने से ज्यादा नहीं होगा और इसके बाद हम सामान्य स्थिति में आ सकते हैं। उदाहरण के तौर पर न्यूजीलैंड, उन्होंने घरेलू लीग शुरू कर दी है और वहां यह मुद्दा नहीं होगा क्योंकि उनके यहां वायरस नहीं है।”