धोनी हमेशा परिणामों से भावनात्मक रूप से अलग रहते थे : लक्ष्मण

धोनी(MS Dhoni) की कप्तानी में भारत ने 2007 में पहला टी 20 विश्व कप(T20 World Cup) जीता था। इसके बाद 2011 में 50 ओवर विश्व कप और 2013 में चैंपियंस ट्रॉफी जीती थी। भारत ने साथ ही 2010 और 2016 का एशिया कप भी धोनी की कप्तानी में जीता था।

Avatar Written by: August 19, 2020 3:16 pm

नई दिल्ली। पूर्व भारतीय बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण ने महेंद्र सिंह धोनी की प्रशंसा करते हुए कहा है कि पूर्व कप्तान लाखों भारतीयों के लिए प्रेरणा का स्रोत हैं और उन्होंने पूरी दुनिया में खूब प्यार और सम्मान पाया है। धोनी ने 15 अगस्त की संध्या पर अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा की थी। वह आईपीएल में खेलना जारी रखेंगे। लक्ष्मण ने क्रिकेट कनेक्टेड शो में कहा, ” क्रिकेट प्रशंसकों का प्यार आपकी क्रिकेट उपलब्धियों के लिए मिलता है। लेकिन, सम्मान इस चीज से मिलता है कि आपका आचरण कैसा रहा।”

VVS Laxman
उन्होंने कहा, ” मेरा हमेशा से मानना रहा है कि भारत की कप्तानी करना संभवत: किसी के लिए भी सबसे कड़ी चुनौती है क्योंकि दुनिया भर में सभी की आपसे इतनी अधिक उम्मीदें होती हैं। सभी भारतीय चाहते हैं कि भारतीय टीम अच्छा करे, इसलिए भारतीय कप्तान पर काफी जिम्मेदारी होती है।”

dhoni3

लक्ष्मण ने कहा, “लेकिन, धोनी हमेशा परिणामों से भावनात्मक रूप से अलग रहते थे। उन्होंने खेल प्रशंसकों को ही नहीं बल्कि लाखों भारतीयों को प्रेरित किया और बताया कि किस तरह का आचरण करना चाहिए और कैसे अपने देश का दूत बनना चाहिए, सार्वजनिक जीवन में खुद को कैसे रखना चाहिए। यही कारण है कि वह इतने सम्मानित हैं।”

धोनी की कप्तानी में भारत ने 2007 में पहला टी 20 विश्व कप जीता था। इसके बाद 2011 में 50 ओवर विश्व कप और 2013 में चैंपियंस ट्रॉफी जीती थी। भारत ने साथ ही 2010 और 2016 का एशिया कप भी धोनी की कप्तानी में जीता था। लक्ष्मण ने कहा, ” जब आप सोशल मीडिया पोस्ट देखें तो सिर्फ पूर्व खिलाड़ियों या क्रिकेट प्रशंसकों ने ही टिप्पणी नहीं की बल्कि सभी भारतीयों ने की जिसमें फिल्मी सितारे, जाने माने उद्योगपति और राजनेता शामिल रहे।”

VVS Laxman
उन्होंने कहा, ” दुनिया भर के पूर्व क्रिकेटरों, क्रिकेट जगत ने भारतीय क्रिकेट ही नहीं बल्कि विश्व क्रिकेट में योगदान के लिए महेंद्र सिंह धोनी को शुक्रिया कहा।” 39 वर्षीय धोनी ने 2004 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण करने के बाद 350 वनडे, 90 टेस्ट और 98 टी 20 अंतर्राष्ट्रीय मैच खेले।