#Tokyo2020: टोक्यो ओलंपिक में इतिहास रचने वाली भारत की बेटी मीराबाई का आया रिएक्शन, सिल्वर जीतने पर कही ये बात

#Tokyo2020: खास बात ये है कि उन्होंने ओलंपिक के महिला वेटलिफ्टिंग में 21 साल के पदक को सूखे को खत्म किया है। मीराबाई भरोत्तोलन में पदक जीतने वाली भारत की दूसरी महिला हैं। इससे पहले 2000 के सिडनी ओलंपिक में कर्णम मल्लेश्वरी ने कांस्य पदक जीता था।

Written by: July 24, 2021 1:40 pm

नई दिल्ली। भारत के लिए आज गर्व का दिन है क्योंकि टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) में भारत की बेटी मीराबाई चानू (Mirabai Chanu) ने बड़ा इतिहास रच दिया है। शनिवार को मीराबाई चानू ने भारत को टोक्यो ओलंपिक में पहला पदक दिलाया है। मीराबाई ने 49 किग्रा वर्ग में दूसरा स्थान हासिल किया। खास बात ये है कि उन्होंने ओलंपिक के महिला वेटलिफ्टिंग में 21 साल के पदक को सूखे को खत्म किया है। मीराबाई भरोत्तोलन में पदक जीतने वाली भारत की दूसरी महिला हैं। इससे पहले 2000 के सिडनी ओलंपिक में कर्णम मल्लेश्वरी ने कांस्य पदक जीता था।

इस बीच टोक्यो ओलंपिक में सिल्वर मेडल जीतने वाली मीराबाई चानू की पहली प्रतिक्रिया सामने आई है। मीराबाई चानू ओलंपिक खेलों में रजत पदक जीतने के बाद कहा, मैं बहुत खुश हूं, पिछले पांच साल से यही सपना देख रही थी।

मीराबाई चानू ने कहा कि, मैं बहुत खुश हूं कि मैंने मेडल जीता। पूरा देश मुझे देख रहा था और उनकी उम्मीदें थीं, मैं थोड़ा नर्वस थी लेकिन मैंने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने की ठान ली थी। मैंने इसके लिए कड़ी मेहनत की।

परिवार में जश्न का माहौल

वहीं टोक्यो ओलंपिक में वेटलिफ्टिंग में भारत के लिए रजत पदक जीतने पर इंफाल में मीराबाई चानू के परिवार के सदस्यों ने खुशी जाहिर की है।

टोक्यो ओलंपिक में भारत के लिए वेटलिफ्टिंग में रजत पदक जीतने वाली मीराबाई चानू के रिश्तेदार ने कहा, “मैं बहुत खुश हूं। मेरी बहन को रजत पदक मिला है। उसे उसकी मेहनत का फल मिला है।”

Support Newsroompost
Support Newsroompost