चीनी सोशल मीडिया से हटाए गए पीएम मोदी और भारतीय विदेश मंत्रालय के सीमा विवाद पर दिए बयान

पीएम मोदी जब 2015 में चीन की यात्रा पर गए थे तो उन्होंने वेइबो पर अकाउंट बनाया था और इसके जरिये चीनी जनता से संवाद जारी रखे हुए हैं। हालांकि, इस अकाउंट पर हालिया सैन्य झड़प संबंधी कोई पोस्ट नहीं डाली गई है।

Avatar Written by: June 21, 2020 2:34 pm

नई दिल्ली। वेइबो सहित दो चीनी सोशल मीडिया साइटों ने 18 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा मुख्यमंत्रियों की बैठक में दिए गए भाषण और विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता की टिप्पणी को हटा दिया है। ये जानकारी चीन स्थित भारतीय दूतावास के अधिकारियों ने दी। चीनी सोशल मीडिया साइटों ने ये कदम भारत और चीन के रिश्तों में आए तनाव के बीच उठाया है।

weibo

भारतीय दूतावास के अधिकारियों ने बताया कि विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव की टिप्पणी को 18 जून को ‘साइना वेइबो’ पर बने दूतावास के अकाउंट से हटा दिया गया। उन्होंने बताया कि इसके बाद भारतीय अधिकारियों ने 19 जून को श्रीवास्तव की टिप्पणी के स्क्रीन शॉट को दोबारा प्रकाशित किया। साइना वेइबो ट्विटर की तरह है और चीन में लाखों लोग और बीजिंग स्थित विभिन्न देशों के दूतावास इसका इस्तेमाल करते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित दुनिया के कई नेताओं ने चीनी जनता से संवाद करने के लिए इस सोशल मीडिया साइट पर अपना अकाउंट बनाया है।

chines social media

बयानों को हटाने का काम सिर्फ साइना वेइबो तक ही नहीं है, इसे वीचैट पर बने दूतावास के आधिकारिक अकाउंट से भी हटा दिया गया। इसे रिमूव करने के साथ वीचैट ने कारण में लिखा कि, ‘नियमों का उल्लंघन करने की वजह से यह सामग्री नहीं देखी जा सकती।’

प्रधानमंत्री मोदी की गलवान घाटी में भारतीय सैनिकों की शहादत को लेकर 18 जून को की टिप्पणी भी वीचैट पर उपलब्ध नहीं है। उस पृष्ठ पर लिखा गया है कि यह सामग्री लेखक ने हटा ली है’ जबकि दूतावास के अधिकारियों ने कहा कि उन्होंने इसे नहीं हटाया है। उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि लद्दाख की गलवान घाटी में भारतीय सैनिकों की शहादत जाया नहीं जाएगी। उन्होंने कहा कि भारत शांति चाहता है लेकिन उकसाने पर मुहंतोड़ जवाब देने में भी सक्षम है। भारतीय दूतावास के वेइबो और वीचैट पेज का हजारों लोग अनुकरण करते हैं। भारतीय दूतावास ने वेइबो पेज पहले शुरू किया था जबकि वीचैट ग्रुप की दूतावास ने इस साल जनवरी में बनाया था।

weibo pm modi account

दरअसल पीएम मोदी जब 2015 में चीन की यात्रा पर गए थे तो उन्होंने वेइबो पर अकाउंट बनाया था और इसके जरिये चीनी जनता से संवाद जारी रखे हुए हैं। हालांकि, इस अकाउंट पर हालिया सैन्य झड़प संबंधी कोई पोस्ट नहीं डाली गई है।