Connect with us

दुनिया

Indonesia Earthquake: भूकंप से दहला इंडोनेशिया, अब तक 44 की मौत, 300 लोग जख्मी

दक्षिण जकार्ता में एक कर्मचारी विडी प्रिमाधनिया ने कहा, ‘भूकंप के झटके इतने भयावह थे कि मैंने अपने साथियों से नौवीं मंजिल पर रहने के बावजूद भी आपातकालीन दफ्तर  में जाने का फैसला किया, ताकि विषम परिस्थिति से निपटा जा सकें।

Published

on

नई दिल्ली। इंडोनेशिया से एक बड़ी खबर सामने आ रही है। जहां भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए है। भूकंप की वजह से इंडोनेशिया भारी नुकसान की भी खबर है। इसके अलावा बताया जा रहा है कि भूकंप की वजह से जर्काता में कई इमारतें हिल गई। भूकंप की वजह से अबतक 44 लोगों की मौत हो गई है, जबकि 300 लोग घायल बताए जा रहे हैं। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 5.6 मापी गई है। इंडोनेशिया में आए भूकंप की विकरालता का अंदाजा आप महज इसी से लगा सकते हैं कि राजधनी जकार्ता में स्थित गगनचुंबी इमारतें अनवरत तीन मिनट तक हिलती रही। ऐसी स्थिति में लोगों की सांसें ही अटक गई थी। लेकिन राहत की बात रही कि किसी को नुकसान नहीं पहुंचा।

वहीं, दक्षिण जकार्ता में एक कर्मचारी विडी प्रिमाधनिया ने कहा, ‘भूकंप के झटके इतने भयावह थे कि मैंने अपने साथियों से नौवीं मंजिल पर रहने के बावजूद भी आपातकालीन दफ्तर में जाने का फैसला किया, ताकि विषम परिस्थिति से निपटा जा सकें। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक,  राजधानी जकार्ता में भूकंप के झटके महसूस करने के बाद कई लोग दूसरे स्थानों पर रवाना हो चुके हैं। घर, मकान, ऑफिस को खाली कर चुके हैं, ताकि विषम परिस्थिति से निपटा जा सकें। इस बात की भी संभावना जताई जा रही है कि आगामी दिनों में भी इडोनेशिया में भूकंप के झटके महसूस किए जा सकते हैं। ऐसी स्थिति में लोगों का सतर्क हो जाना जरूरी है।

जनवरी 2021 में, पश्चिम सुलावेसी प्रांत में 6.2 तीव्रता के भूकंप से 100 से अधिक लोगों की मौत हो गई और लगभग 6,500 लोग घायल हुए थे. 2004 में एक शक्तिशाली हिंद महासागर भूकंप और सूनामी ने एक दर्जन देशों में लगभग 230,000 लोगों की जान ले ली। ऐसी स्थिति में लोगों का सतर्क होना जरूरी है, अन्यथा आगामी दिनों में लोगों का भारी कीमत चुकानी पड़ सकी है। बता दें कि बीते दिनों भारत में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। दिल्ली एनसीआर में लोगों ने भूकंप के झटके महसूस किए थे।

Advertisement
Advertisement
Advertisement