Russia-Ukraine War: ‘राजधानी कीव छोड़ने की करें तैयारी’, रूसी हमले तेज होने पर यूक्रेन के राष्ट्रपति ने किया आगाह

रूसी न्यूज एजेंसियों ने खबर दी है कि यूक्रेन ने खेरसॉन की निप्रो नदी पर बने नोवा काखोव्का बांध पर जमकर गोलाबारी की। इससे बांध को काफी नुकसान पहुंचा है। अमेरिका में बने हिमार्स मिसाइल सिस्टम से ये हमला किया गया। बांध से काफी मात्रा में पानी लगातार बह रहा है। हमले के बाद रूस ने अपने एयर डिफेंस चौकस कर दिया है।

Avatar Written by: November 8, 2022 11:28 am
volodymyr zelensky

कीव। रूस और यूक्रेन की जंग गंभीर रुख अपनाती दिख रही है। यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलिंस्की ने राजधानी कीव के नागरिकों को घर छोड़कर जाने के लिए तैयार रहने को कहा है। इससे पहले रूस ने खेरसॉन के नागरिकों से शहर छोड़कर चले जाने को कहा था। जेलिंस्की की ताजा चेतावनी से साफ है कि रूस अब 8 महीने पुरानी जंग में अपने हमले तेज करने जा रहा है। रूस ने 24 फरवरी को यूक्रेन के खिलाफ सैन्य अभियान शुरू किया था। पिछले महीने से उसने यूक्रेन की राजधानी कीव समेत अन्य शहरों पर मिसाइलों की बारिश शुरू कर दी है। ईरान से मिले ड्रोन से भी रूस लगातार यूक्रेन की फौज को निशाना बना रहा है।

volodymyr zelensky 1

जेलिंस्की ने कहा है कि रूस अब यूक्रेन के ऊर्जा क्षेत्र को खत्म करने में जुट गया है। बिजली और पानी की सप्लाई से 40 लाख लोग महरूम हो गए हैं। रूस के हमलों में और तेजी आ सकती है। ऐसे में राजधानी कीव के लोग घर छोड़ने के लिए तैयारी रखें। जेलिंस्की ने कहा कि रूस का अब निशाना ऊर्जा के ढांचे पर है। सर्दियां शुरू हो गई हैं और बिजली के बगैर लोगों का रहना मुश्किल होगा। जेलिंस्की ने कहा है कि यूक्रेन इन सबके बावजूद मैदान में डटा रहेगा। उन्होंने कहा कि किसी सूरत में हम रूस को अपने देश पर काबिज होने नहीं देंगे।

ukraine

वहीं, रूसी न्यूज एजेंसियों ने खबर दी है कि यूक्रेन ने खेरसॉन की निप्रो नदी पर बने नोवा काखोव्का बांध पर जमकर गोलाबारी की। इससे बांध को काफी नुकसान पहुंचा है। अमेरिका में बने हिमार्स मिसाइल सिस्टम से ये हमला किया गया। बांध से काफी मात्रा में पानी लगातार बह रहा है। इस हमले के बाद रूस ने अपने एयर डिफेंस को और चौकस कर दिया है। रूस ने आरोप लगाया है कि यूक्रेन अब बांध तोड़कर मानवीय तबाही लाना चाहता है। रूस ने इसके साथ ही चेतावनी दी है कि ऐसी किसी भी कोशिश पर यूक्रेन को बड़े पैमाने पर जवाब मिलेगा।