Connect with us

दुनिया

Giorgia Meloni: जानिए कौन हैं जियोर्जिया? जो बन सकतीं हैं इटली की नई प्रधानमंत्री 

आपको बता दें कि जियोर्जिया का जन्म 15 जनवरी 1977 को हुआ। वह एक इतालवी पत्रकार और राजनीतिज्ञ हैं। द्वितीय विश्व युद्ध के बाद तानाशाह बेनिटो मुसोलिनी के समर्थकों ने एक आंदोलन शुरू किया था। उन्होंने 15 साल की उम्र में यूथ विंग में काम किया था। 19 साल की उम्र में मेलोनी ने दक्षिणपंथी राष्ट्रीय गठबंधन के लिए खूब प्रचार किया।

Published

on

नई दिल्ली। कांग्रेस नेता राहुल गांधी के ननिहाल में बड़ा सत्ता परिवर्तन देखने को मिल रहा है। इटली में रविवार को आम चुनाव संपन्न हो चुके हैं। बता दें कि एग्जिट पोल के रिपोर्ट सामने आ चुकी है। हालिया एग्जिट पोल के मुताबिक, पीएम पद की उम्मीदवार जियोर्जिया मेलोनी की पार्टी ब्रदर्स ऑफ इटली सबसे ज्यादा वोट पाती दिख रही है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, अगर जार्जिया चुनाव जीतने में सफल रही तो वो इटली की पहली महिला प्रधानमंत्री होंगी। बता दें कि राजनीतिक गलियारों में जियोर्जिया खासा सुर्खियों में रहती हैं। वहीं, अगर उनके राजनीतिक विचारधारा की बात करें, तो वो दक्षिणपंथी विचारधारा की मानी जाती है। इसके साथ ही वे इस्लामिक विरोधी भी मानी जाती हैं।

Giorgia Meloni: Meet the woman who could become Italy's new prime minister | World News - Hindustan Times

आपको बता दें कि जियोर्जिया का जन्म 15 जनवरी 1977 को हुआ। वह एक इतालवी पत्रकार और राजनीतिज्ञ हैं। द्वितीय विश्व युद्ध के बाद तानाशाह बेनिटो मुसोलिनी के समर्थकों ने एक आंदोलन शुरू किया था। उन्होंने 15 साल की उम्र में यूथ विंग में काम किया था। 19 साल की उम्र में मेलोनी ने दक्षिणपंथी राष्ट्रीय गठबंधन के लिए खूब प्रचार किया। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, 2006 में वो पहली संसद चुनीं गईं थीं। इसके बाद वो मेलोनी सिल्वियो बर्लुस्कोनी की चौथी सरकार में युवा मंत्री रह चुकी है। इस मंत्रिमंडल वे सर्वाधिक कम उम्र की मंत्रियों में से एक थी। इस दौरान उन्होंने फ्रांसीसी टेलीविजन को बताया कि मुसोलिनी एक अच्छे राजनेता थे। उन्होंने जो कुछ भी किया, वह इटली के लिए किया।

Giorgia Meloni: The far-right party leader set to be Italy's first female prime minister | Euronews

मेलोनी के पिता अकाउंटेंट थे। उधर, अगर राजनीतिक पंडितों की मानें तो जियोर्जिया एक दक्षिणपंथी राजनेता हैं। उन्होंने इटली के लोगों का समर्थन किया था। उन्होंने कई बार इस्लामिक कट्टरता को लेकर खुलकर बात की थी। बहरहाल, अब आगामी दिनों में इटली की कमान संभालने के बाद वहां की राजनीति में क्या कुछ परिवर्तन देखने को मिलते हैं। इस पर सभी की निगाहें टिकी रहेंगी। तब तक के लिए आप देश दुनिया की तमाम बड़ी खबरों से रूबरू होने के लिए पढ़ते रहिए। न्यूज रूम पोस्ट.कॉम

Advertisement
Advertisement
Advertisement