परीक्षा के समय विद्यार्थियों के लिए प्रभावी और लाभकारी है ये उपाय

इस समय बच्चों की परीक्षाएं चलने वाली हैं आइए जानते हैं ज्योतिषाचार्य पण्डित दयानन्द शास्त्री से विद्यार्थियों हेतु कुछ विशेष उपाय जो सभी के लिए बहुत कारगर होगी खुद भी करें और दूसरे बच्चों तक भी इस सन्देश को पहुंचाएं।

इस समय बच्चों की परीक्षाएं चलने वाली हैं आइए जानते हैं ज्योतिषाचार्य पण्डित दयानन्द शास्त्री से विद्यार्थियों हेतु कुछ विशेष उपाय जो सभी के लिए बहुत कारगर होगी खुद भी करें और दूसरे बच्चों तक भी इस सन्देश को पहुंचाएं। किसी भी जन्मकुंडली में चन्द्रमा मन का कारक होता है चंद्र, बुध व् गुरु ग्रह विद्या प्राप्ति में मुख्य सहायक होते है, जन्मकुंडली में अगर चंद्र के साथ राहु, केतू का योग है अथवा चन्द्रमा 6,8 या 12 भाव में है तो चांदी के गिलास में पानी पिए, घर में बारिश का पानी रखे।

भारतीय सनातन संस्कृति में मां सरस्वती को ज्ञान और विद्द्या की प्राप्ति के लिए पूजा जाता है, अतः माता पिता गुरु और ईश्वर का आशीर्वाद प्रतिदिन अवश्य ले कर पढ़ाई करें। ऐसा करने से उस छात्र पर हमेशा ईश्वर की कृपा बनी रहती है।

कई बार लोग प्रश्न करते है हमारे बच्चों का मन पढ़ाई में नहीं लगता है या पढ़ाई करने के बाद सब भूल जाते हैं ऐसे लोगों के लिए वास्तु प्रयोग अवश्य कारगर होगा ।

इन वास्तु टिप्स से होगा लाभ

माता पिता बच्चों के अध्ययन कक्ष का चयन खुले और स्वस्छ जगह में करें जिससे उनका पढ़ाई में मन लगे  इसके लिए दिशाओं का बहुत प्रभाव होता है

पढ़ाई करते समय पूर्व या उत्तर दिशा में मुंह करके अध्ययन करें। आप की कुर्सी -मेज इस तरह से हो की पढ़ाई के समय मुंह ईशान कोण की तरफ ही।

अध्ययन कक्ष में पढ़ाई करने के बाद कभी भी कोई कॉपी किताबें पेन को खुला न रखें पढ़ने के बाद उन्हें बैग या आलमारी में रखें।

पढ़ाई करते समय हमेशा बैठ कर पढ़ाई करें कभी भी बिस्तर या लेट कर पढ़ाई न करें।

अध्ययन करते समय आचार विचार शुद्ध होना चाहिए इसके लिए सात्विक भोजन करें , जहा पर आप पढ़ाई करते है वहां बैठ कर या टेबल कुर्सी पर खाना नहीं खाना चाहिए।

खाना खाते समय पड़ाई की टेबिल पर कॉपी किताबें बंद करके, खाना खाने के लिए बनाये गए स्थान पर ही खाना चाहिए।

पढ़ाई करते समय अपने इष्ट देव का ध्यान करते हुए कॉपी किताबों को अपने मस्तक से लगाकर पढ़ाई करें, यही प्रक्रिया पड़ाई को समाप्त करते समय भी दोहराएं।

विद्या प्राप्ति का सबसे उपयुक्त समय ब्रह्म मुहूर्त अर्थात सुबह के 4 बजे का माना गया है उस काल में पड़ाई करते समय हमें कई गुना ज्यादा और तेजी से अपना पाठ याद होता है इसलिए पड़ने वाले छात्रों को सुबह सवेरे पड़ाई की आदत अवश्य ही डालनी चाहिए।

भूलकर भी विद्यार्थियों को घर पर पढ़ते समय जूते – मोज़े नहीं पहनने चाहिए ।

मोर का पंख अध्ययन  रूम में लगाए व् मोर पंख अपने पास रखने से विधार्थी का मन पढ़ाई में लगता है ।

ब्राम्ही औषधि का नित्य सेवन करने से विधार्थियों की बुद्धि त्रीव होती है स्मरण शक्ति बडती है।

जिन विद्यार्थियों को परीक्षा में उत्तर भूल जाने की आदत हो, उन्हें परीक्षा में अपने पास कपूर और फिटकरी रखनी चाहिए। इससे मानसिक रूप से

मजबूती बनी रहती है और यह नकारात्मक ऊर्जा को भी हटाती हैं ।

girl study

सावधानी रखें, भूलकर भी सीढ़ियों के निचे या बीम के नीचे कभी भी बैठ कर पढ़ाई या भोजन न करें, पढ़ाई करते समय प्रकाश या लाइट सामने या दाहिने तरफ से हो।

जिन विद्यार्थियों की वाणी में हकलाना, तुतलाना जैसे दोष हों, ऐसे लोग बांसुरी में शहद भरकर नदी के किनारे जमीन में गाड़ें। ऐसा करने से लाभ होगा।

परीक्षा में अच्छे अंक लाने के उपाय (जानिए परीक्षा में अच्छे अंक कैसे लाए)

navratri 2020

यह मन्त्र भी देगा लाभ

या देवी सर्वभूतेषु बुद्धिरूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

तुलसी के पत्तों को मिश्री के साथ पीसकर प्रतिदिन उसका रस विधार्थी को पिलाने से भी उसकी स्मरण शक्ति का विकास होता है ।

किसी भी प्रतियोगी परीक्षा में सफलता प्राप्ति हेतु हर गुरुवार को नियम से किसी भी गाय को पीले पेड़े अवश्य खिलाएं।

विद्यार्थी को चहिये की वह गणेश चालीसा का पाठ करें और बुधवार को गणपति जी को बेसन के लड्डू और दूर्वा अर्पित करें,  विद्यार्थी को चाहिए की वह अपनी पड़ाई की मेज या कमरे की ईशान की दीवार पर मां सरस्वती की तस्वीर जरुर लगायें और रोज उनसे बेहतर विद्या प्राप्ति के लिए आग्रह करें।

परीक्षा देने जाते समय यदि छात्र मीठा दही या अन्य कोई भी मीठा खाकर जाये तो उसे निश्चित ही सफलता प्राप्त होती है।

किसी भी विद्यार्थी छात्र छात्रा को कभी भी भूलकर परीक्षा में नकल नहीं करनी चाहिए , चाहे उसे कुछ नंबरों का नुकसान ही क्यों न उठाना पड़े ,नकल करने पर विद्या की देवी माँ सरस्वती उससे कुपित हो जाती है , और उसे लगातार पड़ाई में कठनाइयों का सामना करना पड़ता है ।

परीक्षा के लिए घर से निकलते समय पहले दायाँ पैर घर से बाहर निकाले और परीक्षा कक्ष में भी पहले दायाँ पैर ही अन्दर रखे ।परीक्षा/प्रतियोगी परीक्षा में

विद्यार्थियों के कमरे में यथा संभव हरे रंग के परदे लगवाने चाहिए इससे एकाग्रता आती है और मन भी शांत रहता है ।

योग व् आसान

साधारणतया मस्तिष्क का केवल 3 से 7 प्रतिशत भाग ही सक्रिय हो पाता है। शेष भाग सुप्त रहता है, जिसमें अनंत ज्ञान छिपा रहता है। ऐसी विलक्षण शक्ति को जाग्रत करने के दोनों कानों के नीचे के भाग को अंगूठे और अंगुलियों से दबाकर नीचे की ओर खीचें। पूरे कान को ऊपर से नीचे करते हुए मरोड़ें। सुबह 4-5 मिनट और दिन में जब भी समय मिले, कान के नीचे के भाग को खींचे।

सिर व गर्दन के पीछे बीच में मेडुला नाड़ी होती है। इस पर अंगुली से 3-4 मिनट मालिश करें। इससे एकाग्रता बढ़ती है और पढ़ा हुआ याद रहता है।

अष्टमी के रक्त चन्दन से अनार की कलम से “ॐ ऐं ´´ को भोजपत्र पर लिख कर नित्य पूजा करने से अपार विद्या, बुद्धि की प्राप्ति होती है।

सोते समय सिरहाना हमेशा पूर्व या दक्षिण दिशा में रखे।

सफलता के लिए कुछ विशेष रत्न उपाय

सर्वसिद्धि मुहूर्त में आनेक्स ,हरा हकीक या सुलेमानी हक़ीक को धारण करने से भी दिमाग तेज़ होता है निर्णय लेने में आसानी रहती है।

सफलता प्राप्ति के लिए पुष्य नक्षत्र के दिन दो पंचमुखी रुद्राक्ष व् एक छः मुखी रुद्राक्ष लाएं और लाल धागे में धारण करें कि छः मुखी रुद्राक्ष बीच में रहे।