Connect with us

बिजनेस

Vedanta: वेदांता ने गुजरात में सेमीकंडक्टर स्थापित करने का ऐलान, युवाओं को मिलेगी की भरमार, सरकार ने भी दिया साथ

Vedanta: उधर, गुजरात के मुख्यमंत्री भुपेंद्र पटेल गुजरात में यह संयंत्र लगाने पर 20 बिलियन डॉलर का निवेश करेंगी। इससे एक लाख रोजगार के अवसरों का सृजन होगा। गाँधी नगर में आयोजित समारोह में रेल, संचार, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव की मौजूदगी में एमओयू (MOU) पर हस्ताक्षर किए गए।

Published

on

नई दिल्ली। वो सभी विपक्षी दल जो केंद्र की मोदी सरकार को बेरोजगारी को लेकर आड़े हाथों ले रही है। अब ऐसे ही लोगों का मुंह बंद करने के लिए गुजरात की बीजेपी शासित सरकार और वेदांता कंपनी ने बड़ा कदम उठाया है। दरअसल, वेदांता उपक्रम, जो कि एक माइनिंग कंपनी है, ने प्रदेश सरकार के साथ मिलकर गुजरात में सेमीकंडक्टर स्थापित करने का ऐलान किया है। वेदांता ने इसके लिए ताइवान की कंपनी इलेक्ट्रॉनिक्स मैन्युफैक्चरर फॉक्सकॉन (Foxconn) के साथ 20 बिलियन डॉलर का करार किया है। माना जा रहा है कि आगामी दिनों में वेदांता के इस कदम से कई युवाओं को बेरोजगारी के कहर से निजात मिलेगी। बता दें कि इस संदर्भ में विस्तृत जानकारी किसी और ने नहीं, बल्कि वेदांता समूह के अध्यक्ष अनिल अग्रवाल ने खुद दी है, जिमसें उन्होंने कहा कि, ‘भारत में एक मजबूत विनिर्माण आधार बनाने के लिए वेदांता-फॉक्सकॉन ने अपने सेमीकंडक्टर प्रोजेक्ट के लिए गुजरात को चुना है। लगभग 1.54 लाख करोड़ रुपए की लागत से सेमीकंडक्टर प्लांट स्थापित करने के लिए राज्य सरकार के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए।” उधर, वेदांता के इस कदम का बीजेपी ने भी स्वागत किया है। अब आगामी दिनों में गुजरात सरकार और वेदांता के बीच एमओयू पर भी साइन किया जाना है। बता दें कि आगामी दिनों में वेदांता के इस कदम से कई अन्य लोगों को रोजगार मिलेगा।

अनिल अग्रवाल ने आगे ट्वीट कर कहा कि अनिल अग्रवाल ने कहा, “गुजरात सरकार और केंद्रीय आईटी मंत्री के प्रति मेरी गहरी कृतज्ञता है, जिन्होंने वेदांता को इतनी जल्दी जोड़ने में मदद की है। भारत का तकनीकी तंत्र बढ़ेगा, जिससे हर राज्य नए इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण केंद्रों के माध्यम से लाभान्वित होगा।”

उधर, गुजरात के मुख्यमंत्री भुपेंद्र पटेल गुजरात में यह संयंत्र लगाने पर 20 बिलियन डॉलर का निवेश करेंगी। इससे एक लाख रोजगार के अवसरों का सृजन होगा। गाँधी नगर में आयोजित समारोह में रेल, संचार, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव की मौजूदगी में एमओयू (MOU) पर हस्ताक्षर किए गए।


आपको बता दें कि वेदांता ने सेमीकंडक्टर लगाने के लिए गुजरात सरकार से आर्थिक सहायता और इलेक्ट्रिसिटी की मांग की थी। बहरहाल, अब वेदांता और गुजरात सरकार के इस कदम से युवाओं को रोजगार के मोर्चे पर कितना लाभ मिलता है। यह तो फिलहाल आने वाला वक्त ही बताएगा। तब तक के लिए आप देश-दुनिया की तमाम बड़ी खबरों से रूबरू होने लिए आप पढ़ते रहिए। न्यूज रूम पोस्ट.कॉम

Advertisement
Advertisement
Advertisement