गुजरात सरकार कोरोना काल में कर रही लोगों की देखभाल, प्रवासी श्रमिकों का भी रख रही ख्याल

वहीं गुजरात सरकार की मानें तो अहमदाबाद के लोगों ने ऑनलाइन शॉपिंग के द्वारा 30 हजार के लगभग ऑर्डर किये और 8.5 करोड़ रुपए का कैशलेश पेमेन्ट किया। 7 दिनों के बाद आवश्यक वस्तुओं की दुकानें खुलने के बाद भी अहमदाबाद के लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पूर्ण रूप से पालन किया।

Written by: May 20, 2020 3:24 pm

नई दिल्ली। पूरे देश में कोरोना का कहर जारी है। महाराष्ट्र के बाद गुजरात देश का ऐसा राज्य है जहां कोरोना ने अपने पैर तेजी से पसारे हैं। लेकिन इस सबके बीच गुजरात सरकार का प्रयास काफी सराहनीय रहा है। गुजरात सरकार अपनी जनता के साथ-साथ प्रवासी मजदूरों का भी खास ख्याल रख रही है।

Vijay Rupani

गुजरात की विजय रुपाणी सरकार के आंकड़ों की मानें तो पिछले 50 दिनों में एस टी निगम के द्वारा 10 हजार से भी ज्यादा ट्रिप करके श्रमिकों को उनके जिले तक पहुंचाया गया है। इसके लिए गुजरात सरकार की तरफ से एस टी निगम के ड्राइवर, कंडक्टर और अन्य कर्मचारियों का अभिनंदन किया गया।

वहीं गुजरात सरकार की मानें तो वह श्रमिकों के साथ खड़ी है। 17 मई की मध्य रात्री तक समग्र देश में 1382 ट्रेनों का परिचालन किया गया जिसमें से गुजरात से केवल 476 ट्रेनें चली जिसके द्वारा देश के विभिन्न हिस्सों में श्रमिकों को पहुंचाया गया। इसमें से यूपी के लिए 335 ट्रेन, बिहार के लिए 53, ओडिशा के लिए 37, मध्य प्रदेश के लिए 25, झारखंड के लिए 14, छत्तीसगढ़ के लिए 7 और उत्तराखंड के लिए 5 श्रमिक ट्रेनों के जरिए प्रवासी मजदूरों को उनके राज्य वापिस भेजा गया।

 

वहीं गुजरात सरकार की मानें तो अहमदाबाद के लोगों ने ऑनलाइन शॉपिंग के द्वारा 30 हजार के लगभग ऑर्डर किये और 8.5 करोड़ रुपए का कैशलेश पेमेन्ट किया। 7 दिनों के बाद आवश्यक वस्तुओं की दुकानें खुलने के बाद भी अहमदाबाद के लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पूर्ण रूप से पालन किया।

बता दें कि देश में कोरोना के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। कोरोना के मरीजों की संख्या एक लाख के आंकड़े को मंगलवार को ही पार कर गई थी। वहीं बुधवार को स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने जानकारी देते हुए बताया कि देश में कोरोना संक्रमित लोगों की कुल संख्या 1,06,750 हो चुकी है। वहीं मरने वालों की संख्या 3303 हो गई है।