Connect with us

कोरोनावायरस

Covid: सावधान ! भारत पहुंच गया है कोरोना का नया वैरिएंट, ब्रिटिश स्वास्थ्य सेवा ने दी चेतावनी

ओमिक्रॉन के लक्षण हालांकि हल्के दिखे, लेकिन अब ओमिक्रॉन का भी नया वैरिएंट आ गया है। इसे बीए.2 नाम दिया गया है। इस वैरिएंट की दुनियाभर में जांच चल रही है। बताया जा रहा है कि भारत, फ्रांस, डेनमार्क समेत 40 देशों में नया वैरिएंट पहुंचा है।

Published

on

omicron

लंदन। ओमिक्रॉन वैरिएंट आया तो उससे कोरोना महामारी के नए दौर की शुरुआत हुई। ओमिक्रॉन वैरिएंट से पहले आए डेल्टा वैरिएंट ने दुनिया में अब तक लाखों लोगों को बीमार किया और जानें ली। ओमिक्रॉन के लक्षण हालांकि हल्के दिखे, लेकिन अब ओमिक्रॉन का भी नया वैरिएंट आ गया है। इसे बीए.2 नाम दिया गया है। इस वैरिएंट की दुनियाभर में जांच चल रही है। बताया जा रहा है कि भारत, फ्रांस, डेनमार्क समेत 40 देशों में नया वैरिएंट पहुंचा है। इसमें लोगों को संक्रमित करने की ताकत भी ज्यादा बताई जा रही है। ऐसे में वैज्ञानिकों की चिंता और बढ़ गई है।

OMICRON

ब्रिटिश स्वास्थ्य सेवा के मुताबिक ओमिक्रॉन का बीए.2 वैरिएंट सबसे ज्यादा डेनमार्क में मिला है। यहां जनवरी के दूसरे हफ्ते में ही इस वैरिएंट के 45 फीसदी मामले मिल चुके थे। डेनमार्क के स्टेट सीरम इंस्टीट्यूट के वायरोलॉजिस्ट आंद्रे फोम्सगार्ड का कहना है कि ओमिक्रॉन के बीए.2 वैरिएंट में रोग प्रतिरोधक क्षमता को नष्ट करने की ताकत भी ज्यादा होने के आसार दिख रहे हैं। ऐसे में अब नए वैरिएंट के फैलने की आशंका और बढ़ गई है। ब्रिटेन में अब तक इस वैरिएंट के 426 मरीज मिल चुके हैं। इस वैरिएंट की खास बात ये है कि जिनोम सीक्वेंसिंग में इसके ऐसे म्यूटेशन नहीं मिल रहे, जिससे इसे डेल्टा से अलग करके पहचाना जा सके।

omicron

डेनमार्क के विषाणु मामलों के जानकारों का कहना है कि नए वैरिएंट की वजह से महामारी के दो अलग पीक भी आ सकते हैं। वहीं, अमेरिका की जॉन्स हॉपकिंस यूनिवर्सिटी का कहना है कि ओमिक्रॉन बीए.2 वायरस पूरे यूरोप और अमेरिका में महामारी के पीड़ितों की तादाद और बढ़ा सकता है। बता दें कि कोरोना वायरस के पहले केस दो साल पहले चीन में मिले थे। उसके बाद से ही वायरस पूरी दुनिया में फैल गया। इसके अल्फा और बीटा वैरिएंट ने ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचाया, लेकिन डेल्टा वैरिएंट ने लाखों की जान ले ली। ओमिक्रॉन वैरिएंट सबसे पहले दक्षिण अफ्रीका में बीते नवंबर महीने में मिला था और इसने भी दुनिया के हर देश में लोगों को अपनी चपेट में ले लिया।

Advertisement
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Advertisement