Connect with us

मनोरंजन

Boycott Bollywood: बॉलीवुड निर्देशक हंसल मेहता हुए बॉयकॉट बॉलीवुड से परेशान, बोले – हमें जो कहानी कहना है हम वो फिल्म बनाएंगे

Boycott Bollywood: लगातार, बॉयकॉट बॉलीवुड करने वालों पर आरोप लगते रहते हैं। हंसल मेहता ने बॉयकॉट बॉलीवुड पर क्या कहा है यहां हम इसी बारे में बात करेंगे।

Published

on

नई दिल्ली। बॉयकॉट बॉलीवुड (Boycott Bollywood) लगातार चलन में बना रहता है। आजकल ऋचा चड्ढा (Richa Chadha) के एक बयान पर बॉयकॉट बॉलीवुड जोरों से चल रहा है। ऋचा चड्ढा ने भारतीय सेना पर विवादित टिप्पणी कर दी जिसके बाद से उनका और उनकी फिल्म का विरोध तेज़ हो गया। बॉयकॉट बॉलीवुड पर अब हंसल मेहता (Hansal Mehta) ने अपनी चुप्पी तोड़ी है और इंडियन एक्सप्रेस को दिए गए एक इंटरव्यू में बॉयकॉट बॉलीवुड पर अपनी बात रखी है। पहले भी बॉयकॉट बॉलीवुड के चलन पर कई कलाकारों ने, लोगों को बुरा कहा है और उन्होंने बॉयकॉट करने वालों को एक गैंग और बिका हुआ बताया है।

लगातार, बॉयकॉट बॉलीवुड करने वालों पर आरोप लगते रहते हैं। यहां पर विचार करने वाली बात यही है कि दर्शक उन्ही फिल्मों का बहिष्कार करते हैं जिस फिल्म ने या उस फिल्म में काम कर रहे कलाकार ने किसी तरह से, जनता की भावनाओं को ठेस पहुंचाया हो, लेकिन फिर भी कुछ बॉलीवुड वाले जनता की आवाज़ को बिकी हुई और एक गैंग कहकर पुकारने लगते हैं। हंसल मेहता ने बॉयकॉट बॉलीवुड पर क्या कहा है यहां हम इसी बारे में बात करेंगे।

इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए हंसल मेहता ने कहा है, “सोशल मीडिया पर जो कुछ लिखा जाता है कुछ चोरी छिपे लिखा जाता है और कुछ हमारे ही साथियों के संरक्षण में लिखा जाता है। ये सब परेशान करने वाला है। ये सब जो हो रहा है इन सबके बावजूद हम उस तरह की फिल्म लिखते रहेंगे और बनाते रहेंगे जैसा हम चाहते हैं। यह एक समय है। हम इससे जरूर बाहर निकलेंगे।

मुख्य बात ये है कि हमें अपने मुद्दे से भटकना नहीं चाहिए। चाहे हम एक प्रोपगैंडा के तहत फिल्म का निर्माण कर रहे हों और चाहे प्रोपगैंडा के बाहर फिल्म का निर्माण कर रहे हों हमें ये नहीं भूलना चाहिए कि हम दोनों ही तरीके से दर्शकों के लिए फिल्म बना रहे हैं जो हमें करते रहना चाहिए।”

हमने लोगों से सुना है की वो फिल्में सांस्कृतिक और सामजिक गहराई से जुडी हों। इन सबका अर्थ यही है कि हमें जड़ों से जुड़ी हुई फिल्म बनाना चाहिए। हमें बिना डरे हुए ऐसी फिल्म बनानी चाहिए जो सामाजिक और सांस्कृतिक रूप से दिखाए। उन्होंने कहा की जो भी हो दर्शकों को ध्यान में रखते हुए अच्छी फिल्में बनाते रहना चाहिए। हंसल मेहता जो हमेशा मुखर होकर अपनी बात रखते हैं तमाम तरह के राजनीतिक विषयों पर भी अपनी राय रखते रहते हैं और उनके हिसाब से बॉयकॉट ट्रेंड उन्हें परेशान करता है लेकिन कोई वर्ग कर रहा है और कुछ वक़्त बाद वो खत्म हो जाएगा।

Advertisement
Advertisement
Advertisement