Web Series ‘Tandav’: तांडव पर विवाद, डायरेक्टर अली अब्बास जफर ने बिना शर्त मांगी माफी, यूपी पुलिस पूछताछ के लिए मुंबई रवाना

Web Series ‘Tandav’: वहीं इस वेब सीरीज तांडव (Tandav) को लेकर विवाद बढ़ता देखकर इसके डायरेक्टर अली अब्बास जफर (Ali Abbas Zafar) ने बिना शर्त माफी मांगी है। इसको लेकर सोशल मीडिया पर एक पोस्ट भी लिखा है। उन्होंने इस माफीनामे में अपनी सीरीज के कास्ट और क्रू का भी जिक्र किया है। जिसमें साफ लिखा गया है कि उनका उद्देश्य किसी भी धर्म, संप्रदाय या समुदाय की भावना को आहत करने का नहीं था। अगर ऐसा हुआ है तो वह इसके लिए बिना शर्त माफी मांगते हैं।

Avatar Written by: January 18, 2021 8:00 pm
tandav boycott

नई दिल्ली। वैसे तो ओटीटी प्लेटफॉर्म पर वेब सीरीज का आना और उसका विवादों से बच पाना नामुमकिन सा ही लगता है। क्योंकि यहां सेंसरशीप नाम की कोई चीज नहीं हैं। इन प्लेटफॉर्म पर धड़ाधड़ ऐसी चीजें परोसी जा रही हैं। जिसे टीवी के छोटे पर्दे और सिल्वर स्क्रीन पर परोसना थोड़ा मुश्किल है। विवाद तो छोटे और बड़े पर्दे पर परोसे जा रहे कंटेंट को लेकर भी होता है। लेकिन वेब सीरीज ‘तांडव’ के ओटीटी प्लेटफॉर्म पर आने के साथ जो राजनीतिक, धार्मिक, सामाजिक और सांस्कृति विरोध का तांडव शुरू हुआ है उसके पीछे एक नहीं बल्कि कई वजहे हैं। इस वेब सीरीज की पूरी कहानी को गौरव सौलंकी ने लिखा है वहीं इसे डायरेक्ट अली अब्बास जफर किया है और इसमें सैफ अली खान, डिंपल कपाड़िया, मोहम्मद जीशान अयूब, सुनील ग्रोवर, तिग्मांशु धूलिया, गौहर खान सहित कई अन्य ने मुख्य भूमिका निभाई है। सीरीज के आउट होते ही बवाल इतना बढ़ा कि मेकर्स तक इसकी आग पहुंच गई। इस सीरीज के खिलाफ मुंबई और लखनऊ में एफआईआर तक दर्ज हो गया। इसमें Amazon की हेड इंडिया अपर्णा पुरोहित, डायरेक्टर अली अब्बास जफर, प्रोड्यूसर हिमांशू कृष्ण मेहरा, राइटर गौरव सौलंकी एवं अन्य का नाम शामिल है।

tandav

वहीं इस वेब सीरीज को लेकर विवाद बढ़ता देखकर इसके डायरेक्टर अली अब्बास जफर ने बिना शर्त माफी मांगी है। इसको लेकर सोशल मीडिया पर एक पोस्ट भी लिखा है। उन्होंने इस माफीनामे में अपनी सीरीज के कास्ट और क्रू का भी जिक्र किया है। जिसमें साफ लिखा गया है कि उनका उद्देश्य किसी भी धर्म, संप्रदाय या समुदाय की भावना को आहत करने का नहीं था। अगर ऐसा हुआ है तो वह इसके लिए बिना शर्त माफी मांगते हैं।


इसमें लिखा गया है कि, ‘वेबसीरीज की कास्‍ट और क्रू का किसी भी व्‍यक्ति, जाति, समुदाय, संस्‍थान, धर्म या धार्मिक विचार का अपमान करने का कोई इरादा नहीं था। ‘तांडव’ की स्‍टार कास्‍ट और क्रू ने लोगों की ओर से इस बारे में जताई गई चिंताओं का संज्ञान लिया है और यदि इससे किसी की भावनाओं को ठेस पहुंची है तो हम बिना शर्त माफी मांगते हैं।’

tandav 2

वहीं इस पूरे सीरीज में विवादास्पट कंटेंट को लेकर यूपी के लखनऊ में जो एफआईआर दर्ज की गई है उसके बाद से यूपी पुलिस एक्शन में आ गई है। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के मीडिया सलाहकार शलभ मणि त्रिपाठी ने इस मामले को लेकर ट्वीट कर जानकारी दी कि यूपी पुलिस की एक टीम मुंबई के लिए रवाना हो चुकी है। जहां आरोपियों से पूछताछ की जाएगी।


वहीं वेब सीरीज तांडव को लेकर पटियाला हाउस कोर्ट में शिकायत दायर की गई है। आरोप लगाया गया है कि इस वेब सीरीज में बदनीयती की भावना से हिन्दू देवताओं का मज़ाक़ उड़ाया गया, जिससे हिंदू धर्म की भावनाएं आहत हुई है, ये समाज के विभिन्न समुदायों के बीच वैमनस्य फैलाने की साजिश है। हिंदू सेना के विष्णु गुप्ता को ओर कोर्ट में दायर शिकायत में तांडव वेब सीरीज के डायरेक्टर अली अब्बास ज़फ़र, प्रोड्यूसर हिमांशु कृष्ण मेहरा, लेखक गौरव सोलंकी, अभिनेता सैफ अली खान, मोहम्मद जीशान अयूब, गौहर खान के खिलाफ FIR दर्ज किये जाने की मांग की गई है।

आपको बता दें कि इस बात का भी बार-बार खुलासा होता रहा है कि ऐसे बोल्ड और विवादास्पद कंटेंट के लिए इन प्लेटफॉर्म के जरिए मेकर्स पर दवाब बनाया जाता है। यही वजह होती है कि ऐसे विवादास्पद दृश्य और कंटेंट से भरे सीरीज इन प्लेटफॉर्म के जरिए लोगों तक पहुंचते हैं। हालांकि इन सब के साथ यह भी सही है कि किसी फिल्म और सीरीज में सैफ अली खान हों और उसके रिलीज के बाद बवाल ना हो यह कैसे हो सकता है। इससे पहले सैफ अली खान को तान्हा जी के समय भारत को लेकर दिए गए बयान और फिर आदिपुरुष के लिए रावण को महान बताने को लेकर भी जमकर बवाल हुआ था लेकिन इस सीरीज में हुए बवाल की वजह सैफ अली खान नहीं बल्कि सीरीज में धार्मिक आस्था को निशाना बनाया जाना है।

tandav

अब Amazon पर दिखाई जानेवाली इस वेब सीरीज को लेकर विवाद गहराता जा रहा है। इसके जरिए एक विशेष समुदाय की भावनाओं को आहत करने का आरोप लगा है। ऐसे में Amazon से भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के द्वारा जवाब तलब किया गया है। सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने Amazon से इस बावत सवाल किया है कि क्या इस सीरीज के जरिए सामाजिक सौहार्द को बिगाड़ने की कोशिश नहीं की गई है। क्या एक समुदाय विशेष को इसमें निशाना नहीं बनाया गया है। क्या हिंदू धर्म के मानने वालों की भावना इस सीरीज की वजह से आहत नहीं हुई है। इस सीरीज में पुलिस और प्रशासन के काम करने के तरीके को गलत ढंग से दिखाया गया है और प्रधानमंत्री पद की गरिमा को भी इसमें ठेस पहुंचाई गई है। इस पर भी जवाब मांगा गया है। वहीं दूसरी तरफ लोग सोशल मीडिया पर इस सीरीज ‘Tandav’ पर बैन लगाने की मांग कर रहे हैं। Twitter पर इसके विरोध में #Ban_or_Not_to_ban_tandav ट्रेंड कर रहा है जिसपर लोग जमकर अपनी प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं। ऐसे में एक सवाल यह उठता है कि क्या OTT PLATFORM पर सेंसरशीप होनी चाहिए या नहीं?, इस सवाल के जवाब में कुछ लोगों का मानना है कि अगर OTT PLATFORM पर भी सेंसरशीप लगा दी गई तो फिर कहानीकार एक दायरे में अपनी कहानी की पृष्ठभूमि के साथ सिमट जाएंगे और वह जो दर्शकों के सामने परोसना चाहते हैं वह कभी संभव नहीं हो पाएगा। वहीं दूसरी तरफ ओटीटी को अगर फ्री छोड़ दिया गया और इसपर लगाम लगाने की जरूरत नहीं महसूस की गई तो एक वक्त ऐसा भी आएगा जब इसको संभालना मुश्किल हो जाएगा।

Ali Abbas Zafar

क्योंकि आम फिल्मों से अलग ओटीटी पर जो सीरीज या फिल्में प्रसारित की जा रही हैं उनके कंटेंट इतने विवादास्पद और बोल्ड नजर आ रहे हैं जिसकी वजह से सामाजिक सौहार्दता और धार्मिक आस्था को बार-बार निशाने पर लिया जा रहा है। हालांकि इनके विरोध के नाम पर राजनीतिक रोटियां भी खूब सेंकी जा रही है। फिर भी इन सीरीज के निर्माताओं को अपने अंदर के कलाकार के साथ ही मानवीयता को भी जिंदा रखना होगा ताकि किसी खास, धर्म, समुदाय या जाति विशेष के लोगों की भावनाएं इससे आहत ना हों।

Support Newsroompost
Support Newsroompost