Connect with us

देश

Surgical Strike के 6 साल: 1998 में भी मोदी ने PAK के प्रॉक्सी वार की थी घोर निंदा, सुनें वायरल ऑडियो क्लिप

PM Narendra Modi: एक मिनट 30 सेकंड के इस ऑडियो क्लिप में पीएम मोदी कह रहे है कि देश के करोड़ों लोगों के मन में निरतंर डर पैदा करने का योजनाबद्ध प्रयास चल रहा है कभी गौरी के के नाम पर, कभी गजनी के नाम पर, तरह-तरह के मिसाइल का प्रयोग कर भारत को भयभीत करने का सुनियोजित प्रयास चल रहा है।

Published

on

नई दिल्ली। 29 सितंबर का दिन भारत के लिए हमेशा के लिए यादगार बनकर रह गया है। देश गुरुवार को सर्जिकल स्ट्राइक की छठीं बरसी  मना रहा है। बता दें कि जम्‍मू-कश्‍मीर के उरी में हुए आतंकी हमले में भारतीय सेना के 19 जवान शहीद हो गए थे। जिसके बाद भारतीय सेना ने अपने जवानों की मौत का बदला लेने के लिए 28-29 की देर रात को पाकिस्तान के घर में घुसकर सर्जिकल स्ट्राइक की थी। पाकिस्तान के 50 से अधिक आतंकियों को मौत की नींद सुला दिया था। सेना ने इस सर्जिकल स्ट्राइक ने पूरी दुनिया को चौंका दिया था। इसी बीच सर्जिकल स्ट्राइक की छठीं बरसी पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ऑडियो क्लिप वायरल हो रहा है। पीएम मोदी का ये भाषण उस वक्त का है जब तत्कालीन अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार ने 11 मई 1998 में सफल परमाणु परीक्षण किया था। इसमें पीएम मोदी ने पाकिस्तान के नापाक मंसूबों की समझ और इसका मुकाबला करने के संकल्प का प्रदर्शन किया गया है। इसके अलावा वो भाषण में पाकिस्तान के प्रॉक्सी युद्ध की निंदा कर रहे है।

एक मिनट 30 सेकंड के इस ऑडियो क्लिप में पीएम मोदी कह रहे है कि देश के करोड़ों लोगों के मन में निरतंर डर पैदा करने का योजनाबद्ध प्रयास चल रहा है कभी गौरी के के नाम पर, कभी गजनी के नाम पर, तरह-तरह के मिसाइल का प्रयोग कर भारत को भयभीत करने का सुनियोजित प्रयास चल रहा है। इस देश के 90 करोड़ लोगों के भविष्य की चिंता करने की कोई जिम्मेदारी नहीं है क्या? एक के बाद एक प्रयोग चल रहे हैं और पाकिस्तान की पूरी राजनीति भारत के विरोध पर चल रही है हिंदुस्तान को जितनी अधिक गालियां देंगे उतने ज्यादा वोट मिलेंगे। ऐसे समीकरण वहां पर पैदा किए गए है। पाकिस्तान की राजनीतिक शक्तियां अपने यहां सत्ता हासिल करने के लिए भारत की शांति भंग करने के प्रयास करती हैं। प्रॉक्सी युद्ध निरंतर लड़ रहे हैं।

इससे पहले विश्व शांति दिवस के पीएम मोदी की डायरी के कुछ अंश सोशल मीडिया पर वायरल हुए थे। जिसमें उन्होंने नए भारत का सपना बहुत पहले ही बुन लिया था। प्रधानमंत्री की इस डायरी के नोट में जिसे हिंदी में लिखा गया, ”युवा दिमाग में एकता और सद्भाव के लिए एक अंतरराष्ट्रीय दृष्टि के बीज बोए जा रहे हैं।”

Advertisement
Advertisement
Advertisement