Connect with us

देश

Rajasthan: ‘अशोक गहलोत को CM पद से इस्तीफा दे देना चाहिए’..!, इस बयान को लेकर सचिन पायलट ने तोड़ी चुप्पी, बताया सच

दरअसल, अभी कुछ दिनों पहले कांग्रेस आलाकमान ने पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए होने जा रहे चुनाव में मुख्यमंत्री अशोक गहलोक के नाम को प्रस्तावित किया था। इस बीच राहुल गांधी लगातार ‘एक व्यक्ति एक पद’ सिद्धांत की वकालत करते आ रहे हैं। सरल शब्दों में कहें तो कोई भी शख्स किसी एक ही पद पर विराजमान रहेगा।

Published

on

Rajasthan

नई दिल्ली। राजस्थान की राजनीति में जारी सियासी उथल-पुथल के बीच अफवाहों का बाजार भी अब इस कदर गर्म हो चुका है कि नेताओं को खुद मीडिया से मुखातिब होकर यह कहना पड़ रहा है कि साहब बंद करिए यूं खबरों की आड़ में अफवाहों को तूल देना अन्यथा अनहोनी हो जाएगी। अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर ऐसा क्या हो गया राजस्थान की राजनीति में कि अब वहां अफवाहों के बादल भी गरजने लगे हैं। जरा कुछ खुलकर बताएंगे। तो चलिए अब हम आपको पूरा माजरा विस्तार से बताते हैं। लेकिन, उससे पहले यह जान लीजिए कि आखिर राजस्थान की राजनीति में आए सियासी तूफान की असल वजह क्या है? दरअसल, अभी कुछ दिनों पहले कांग्रेस आलाकमान ने पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए होने जा रहे चुनाव में मुख्यमंत्री अशोक गहलोक के नाम को प्रस्तावित किया था। इस बीच राहुल गांधी लगातार ‘एक व्यक्ति एक पद’ सिद्धांत की वकालत करते आ रहे हैं। सरल शब्दों में कहें तो कोई भी शख्स किसी एक ही पद पर विराजमान रहेगा। दरअसल, यही सिद्धांत सारी समस्याओं की जननी बन गई है। अब अगर अशोक गहलोत सर्वसम्मति से कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्य़क्ष चुने जाते हैं, तो उन्हें मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना होगा। अब सवाल यह है कि आखिर गहलोत के इस्तीफा देने के बाद मुख्यमंत्री की बागडोर किसे सौंपी जाएगी?

Rajasthan political crisis sog sent notice to sachin pilot and ashok gahlot  for investigate - राजस्थान में सियासी उथलपुथल तेज, गहलोत और पायलट को एसओजी  का नोटिस

पिछले कुछ दिनों से सचिन पायलट के नाम को लेकर चर्चा है कि उन्हें राजस्थान का मुख्यमंत्री बनाया जा सकता है। बस…यहीं से राजस्थान में जारी राजनीतिक तूफान की शुरुआत होती है, क्योंकि गहलोत गुट के विधायक पायलट के मुख्यमंत्री बनाने के प्रस्ताव से नाराज हैं। जिसके विरोध में बीते रविवार को गहलोत गुट के करीबन 90 विधायकों ने विधानसभा अध्य़क्ष सीपी जोशी को इस्तीफा सौंप दिया है। जिसके बाद राजस्थान में जारी राजनीतिक घमासान को लेकर कांग्रेस आलाकमान सक्रिय हो चुकी है। बीती सोमवार को इस पूरे मसले को लेकर सोनिया के आवास पर बैठक भी हुई थी। लेकिन, अब इस पूरी राजनीतिक घमासान के बीच सचिन पायलट का बयान भी सामने आया है। आइए, अब आपको बताते हैं कि आखिर उन्होंने क्या कुछ कहा है।

सचिन पायलट ने क्या कहा ?

दरअसल, न्यूज एजेंसी एएनआई के हवाले से खबर आई कि सचिन पालयट ने कहा कि, ‘अशोक गहलोत को मुख्यमंत्री पद पर बने रहने का कोई अधिकार नहीं है, अगर वे कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव लड़ने जा रहे हैं’। अब राजस्थान में जारी राजनीतिक घमासान के बीच सचिन पायलट का यह बयान खासा मायने रखता है। जिसे ध्यान में रखते हुए तरह-तरह की चर्चाएं शुरू हो गई थी। लेकिन, अब सचिन पायलट खुद उपरोक्त बयान के संदर्भ में ट्वीट कर पूरी स्थिति स्पष्ट कर दी है।

आइए, आगे आपको बताते हैं कि आखिर उन्होंने क्या कुछ कहा है। सचिन पायलट ने उक्त बयान के संदर्भ में कहा कि यह खबर पूर्णत: झूठी है। इसमें किसी भी प्रकार की सत्यता नहीं है। बहरहाल, अब आगामी दिनों में राजस्थान में जारी सियासी उठापटक क्या रुख अख्तियार करती है। इस पर सभी की निगाहें टिकी रहेंगी। तब तक के लिए आप देश दुनिया की तमाम बड़ी खबरों से रूबरू होने के लिए पढ़ते रहिए। न्यूज रूम पोस्ट.कॉम

Advertisement
Advertisement
Advertisement