Connect with us

Education

Gujarat Riots: NCERT का बड़ा कदम, कक्षा 12वीं की राजनीति विज्ञान की पुस्तक से हटाए गए गुजरात दंगे के विषय

Gujarat Riots: वहीं, अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा गुजरात दंगे के संदर्भ में दिए गए बयान को भी अध्याय से हटा लिया गया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि एक  शासक को जात, धर्म से ऊपर  उठकर हमेशा एक राजधर्म का पालन करना चाहिए। उसे अपनी प्रजा के हित में फैसले लेते समय किसी भी प्रकार के पूर्वाग्रह से ग्रसित नहीं होना चाहिए।

Published

on

ncert

नई दिल्ली। अगर आपने 12वीं कक्षा की राजनीति विज्ञान की पुस्तक साल 2022 से पहले कभी पढ़ी होगी, तो उसमें आपको गुजरात दंगे व दंगे के संदर्भ में भूतपूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी, इसके अलावा नक्सली इतिहास के बारे में अवश्य पढ़ने को मिला होगा, लेकिन अब अगर आप इस वर्ष से कक्षा 12वीं की एनसीईआरटी से सबद्ध राजनीतिक विज्ञान की पुस्तक का अध्ययन करेंगे, तो उसमें अब आपको उपरोक्त विषय ओझल दिखेंगे, चूंकि उक्त विषयों को हटाने का फैसला एनसीईआरटी की तरफ से ले लिया गया है। बता दें कि एनसीईआरटी की तरफ से उक्त निर्णय के संदर्भ में बाकायदा एक नोट सार्वजनिक किया गया है, जिसमें कहा गया है कि गुजरात दंगे के संदर्भ में अध्याय में उल्लेखित विषयों मसलन, गुजरात की तरह, हमें राजनीतिक उद्देश्यों के लिए धार्मिक भावनाओं का उपयोग करने में शामिल खतरों के प्रति सचेत करते हैं। यह लोकतांत्रिक राजनीति के लिए खतरे के सरीखे विषयों को हटा दिया गया है।

Books की ताज़ा खबरे हिन्दी में | ब्रेकिंग और लेटेस्ट न्यूज़ in Hindi - Zee News Hindi

वहीं, अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा गुजरात दंगे के संदर्भ में दिए गए बयान को भी अध्याय से हटा लिया गया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि एक  शासक को जात, धर्म से ऊपर  उठकर हमेशा एक राजधर्म का पालन करना चाहिए। उसे अपनी प्रजा के हित में फैसले लेते समय किसी भी प्रकार के पूर्वाग्रह से ग्रसित नहीं होना चाहिए। बता दें कि इससे पूर्व कोरोना को ध्यान में रखते हुए एनसीईआरटी ने अपनी पुस्तकों में कई विषयों को हटा दिया था। हालांकि, कई शिक्षाविदों ने उपरोक्त निर्णय को छात्रों के लिए अहितकर बताया था।

Here Is How Book Reading Improves Your Health Know Its Benefits | किताब पढ़ने के होते हैं स्वास्थ्य लाभ के साथ-साथ अनेक फायदे, जानिए कैसे

इसके अलावा आपातकाल के दौरान उपजे विवाद को भी राजनीतिक  पुस्तकों से हटा दिया गया है। हालांकि, अभी तक छात्रों के संदर्भ में लिए गए एनसीईआरटी के इस फैसले पर किसी भी छात्र की कोई प्रतिक्रिया सामने नहीं आई है। लेकिन, आपका बतौर पाठक इस पूरे मसले के संदर्भ में क्या कुछ कहना है। आप हमें कमेंट कर बताना बिल्कुल भी मत भूलिएगा। तब तक के लिए आप देश-दुनिया की तमाम बड़ी खबरों से रूबरू होने के लिए आप पढ़ते रहिए। न्यूज रूम पोस्ट.कॉम

Advertisement
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Advertisement