Education

CBSE: सीबीएसई ने दसवीं और बारहवीं कक्षा के पहले चरण की बोर्ड परीक्षा के लिए डेट शीट जारी कर दी है। बारहवीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा 1 दिसंबर से शुरू होगी और 22 दिसंबर को समाप्त होगी। बारहवीं कक्षा के छात्रों के लिए पहली परीक्षा समाजशास्त्र और अंतिम परीक्षा गृह विज्ञान है।

अगले 24 घंटे में सीबीएसई बोर्ड 10वीं-12वीं के लाखों छात्रों के लिए पहले चरण की बोर्ड परीक्षा का कार्यक्रम घोषित करने जा रहा है। पहले चरण में भी छात्रों के लिए परीक्षाएं दो हिस्सों में विभाजित की जा सकती हैं।

JEE Advanced Result: जेईई एडवांस्ड 2021 का रिजल्ट आज को घोषित हो गया। यह परीक्षा इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी खड़गपुर की ओर से आयोजित की गई थी। छात्र आधिकारिक वेबसाइट jeeadv.ac.in पर जाकर अपना रिजल्ट चेक कर सकते हैं

Atal School: उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ सरकार अटल आवासीय विद्यालय खोलने के लिए पूरी तरह तैयार है, जहां मजदूरों के बच्चों को मुफ्त और अच्छी शिक्षा दी जाएगी। यह वंचित वर्गों को बेहतर, समान और सुलभ शिक्षा मुहैया करवाएगा।

नीट परीक्षा के उपरांत दूसरे चरण के आवेदन की प्रक्रिया को पूरा करने के लिए नीट के लगभग 16 लाख छात्रों को कुछ और अतिरिक्त समय उपलब्ध कराया गया है। नीट परीक्षाओं के एक महीने बाद भी यह प्रक्रिया पूरी नहीं हो सकी है।

Job Interview: जॉब इंटरव्‍यू के लिये तैयारी करने वाले उम्‍मीदवारों को सबसे ज्‍यादा इस बात की चिंता सताती है कि इंटरव्‍यू में किस तरह के सवाल पूछे जाएंगे। इंटरव्‍यू एक ऐसी प्रक्रिया है, जिसके आधार पर कंपनी अपने लिए सही और उपयोगी कर्म‍ियों का चुनाव करती है।

UGC NET: मौजूदा शैक्षणिक वर्ष में एक बार फिर यूजीसी नेट की परीक्षा स्थगित करने का फैसला लिया गया है। शिक्षा मंत्रालय के मुताबिक अन्य महत्वपूर्ण परीक्षाओं के साथ तिथियों के टकराव के संबंध में परीक्षा में शामिल होने वाले उम्मीदवारों के कई अनुरोध प्राप्त हुए हैं, इन्हीं अनुरोध को देखते हुए फिलहाल यूजीसी नेट परीक्षा स्थगित करने का निर्णय लिया गया है।

CBSE Exam 2021: सीबीएसई बोर्ड के मुताबिक 10वीं कक्षा का 20 अंक का इंटरनल असेसमेंट, 10-10 अंकों के दो चरण में विभाजित किया गया है। 12वीं कक्षा के लिए प्रैक्टिकल और इंटरनल असेसमेंट को 15-15 अंकों के दो चरण में विभाजित किया गया है।

Delhi University: दिल्ली विश्वविद्यालय में जहां एक ओर अंडर ग्रेजुएट पाठ्यक्रमों के लिए 100 फीसदी तक कट ऑफ जा रही है, वहीं दूसरी ओर दिल्ली विश्वविद्यालय के 20 से अधिक कॉलेजों ऐसे हैं जहां स्थाई प्रिंसिपल के पद खाली पड़े है।