Connect with us

देश

BJP: तो अब काशी के सहारे मिशन 2024 को फतह करने की तैयारी में जुटी बीजेपी, जानें मोदी सरकार का अगला मास्टर प्लान

काशी में (H) का मतलब ऑनर से है। बीजेपी यह भी चर्चा करेगी कि दुनिया भर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वजह से भारत और देश के लोगों का काफी सम्मान बढ़ा है। इसके जरिए अंतर्राष्ट्रीय जगत में भारत के बढ़ते कद और यूक्रेन रूस युद्ध के बीच पीएम मोदी का इंटरवेंशन कर अंशकालिक युद्ध विराम वहां फंसे भारतीयों का देश वापसी जैसे मुद्दे को बीजेपी अपने पक्ष में भुनाएगी।

Published

on

नई दिल्ली। 2024 आम चुनाव में बीजेपी का काशी थीम पर फोकस है। इस बार लोकसभा चुनाव में बीजेपी प्रधानमंत्री मोदी की तस्वीर और काशी वर्ड के थीम के साथ चुनावी मैदान में उतरने की तैयारी कर रही है। काशी (KASHI) का मतलब कश्मीर,अयोध्या,स्कीम, ऑनर और इंटीग्रिटी से है। सूत्रों के मुताबिक, इसके तहत एक स्लाइड तैयार किया जाएगा जिसमें पीएम मोदी की बड़ी तस्वीर होगी और उसके नीचे बोल्ड अक्षरों में KASHI लिखा होगा। इस स्लाइड से बने बैनर और पोस्टर को पूरे देश में एक रूप में लगाया जाएगा साथ ही सोशल मीडिया और डिजिटल के तमाम प्लेटफार्म पर भी इसका नैरेटिव एक्सप्लेनर चलाया जायेगा। विस्तार से अगर इसको समझे तो इस बार के लोकसभा चुनाव में K यानि कश्मीर से 370 हटाया जाना और वहां पर विकाश के साथ शांति बहाली। A का मतलब अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण से है। इसका लक्ष्य बीजेपी की सालों पुरानी प्रतिबद्धता को पूरा करने को लेकर कैडर और समर्थकों में उत्साह का संचार करना। S का मतलब स्कीम से है। केंद्र सरकार के द्वारा लाए गए तमाम स्कीम और इससे हो रहे गांव,गरीबों,किसानों और आम आदमी को फायदे को पार्टी अपने पक्ष में भुनाने की कोशिश करेगी।

Maa Ganga called me: Why PM Modi chose Varanasi to contest Lok Sabha election - Elections News

वहीं काशी में (H) का मतलब ऑनर से है। बीजेपी यह भी चर्चा करेगी कि दुनिया भर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वजह से भारत और देश के लोगों का काफी सम्मान बढ़ा है। इसके जरिए अंतर्राष्ट्रीय जगत में भारत के बढ़ते कद और यूक्रेन रूस युद्ध के बीच पीएम मोदी का इंटरवेंशन कर अंशकालिक युद्ध विराम वहां फंसे भारतीयों का देश वापसी जैसे मुद्दे को बीजेपी अपने पक्ष में भुनाएगी। अंत में काशी थीम का आखिरी शब्द (I) है। यहां आई(I) का मतलब इंटीग्रिटी से है। इसके जरिए बीजेपी बताने की कोशिश करेगी कि देश के आम नागरिक का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्र की सरकार के प्रति मजबूत निष्ठा और विश्वास से है। बीजेपी देश की मजबूती और अखंडता के प्रति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सोच और निष्ठा को आम जन तक भुनाने का प्रयास करेगी। सूत्रों का कहना है कि काशी थीम के साथ ही मजबूती से बीजेपी लोकसभा चुनाव में उतरेगी।

UP BJP may get a new president In the next 48 hours Brahmin or Dalit who will be the new face - अगले 48 घंटे में यूपी बीजेपी को मिल सकता है

मोदी थीम के आलावा बीजेपी ने एक 12 सूत्रीय एजेंडे वाला एक माइक्रो आउटरीच प्रोग्राम भी डिजाइन किया है, जिसके जरिए पार्टी के सभी बड़े छोटे नेता आम जनता तक पहुंचने और मोदी सरकार के तमाम कार्यान्वित कार्यक्रमों और उपलब्धियों का प्रचार प्रसार करेंगे। इसी माइक्रो आउटरीच प्रोग्राम के तहत बीजेपी लोकसभा चुनाव के लिए “यात्रा पर चर्चा” कार्यक्रम चलाने की तैयारी कर रही है। जैसे 2014 लोकसभा चुनाव में “चाय पर चर्चा” कार्यक्रम चलाकर पार्टी ने आम लोगों तक अपनी सीधी पहुंच निश्चित की थी उसी तरह यात्रा पर चर्चा कर आम लोगों में केंद्र सरकार अच्छे कामों की चर्चा करवाने का प्लान बना रही है। इस कार्यक्रम के तहत मुख्य तौर पर “ट्रेन पर चर्चा” कार्यक्रम शुरू किया जाएगा। इसके साथ ही लंबी दूरी की बस यात्रा के दौरान भी बीजेपी के कार्यकर्ता चुनावी चर्चा करेंगे। इस “बस पर चर्चा” कार्यक्रम के तहत बीजेपी के नेता और कार्यकर्ता सामान्य बातचीत में केंद्र सरकार के तमाम कामों की चर्चा करेंगे और उससे होने वाले फायदे को भी बताएंगे। बस पर चर्चा के आलावा “ऑटो में चर्चा” जैसे भी कार्यक्रमों को भी बीजेपी चलाएगी।

Narendra Modi: After Modi win, India Inc hopes for speedy development - The Economic Times

बीजेपी के रणनीतिकार माइक्रो आउटरीच प्रोग्राम चलाकर कॉमन आदमी तक नेचुरल ढंग से पहुंचना चाहती है। 12 सूत्रीय आउटरीच प्रोग्राम के एजेंडे के तहत पब्लिक प्लेस, पार्क, मॉल, शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, पब्लिक स्पॉट, चाय की दुकान, नुक्कड़, पब्लिक कॉर्नर जैसे तमाम जगहों पर आम आदमी के बीच कॉमन मैन बनकर अपने कार्यकर्ताओं को भेज मोदी सरकार की अच्छाइयों को तो गिनवाएगी ही साथ ही ग्राउंड से मिले फीडबैक को ऊपर तक यानी शीर्ष नेतृत्व तक भी पहुंचा, मौजूद कमियों को सुधार करने का भी मौका मिलेगा। बीजेपी के कार्यकर्ता ट्रेन में यात्रा के दौरान जनरुचि से जुड़े मुद्दों पर चर्चा शुरू करेंगे और बाद में बहस वाले मुद्दों पर बीजेपी की उपलब्धियों,जातीय-सांप्रदायिक समीकरणों और विशेष इलाको के उम्मीदवारों के विकल्प पर भी सहयात्रियों के साथ चर्चा करेंगे। बीजेपी को लगता है कि ट्रेन में सफर कर रहे अपने कार्यकर्ताओं के जरिए वो मोदी सरकार के द्वारा चलाई जा रही योजनाओं का प्रचार ज्यादा प्रभावी ढंग से जनता के बीच कर सकती है।

इतना ही नही बीजेपी देश भर में इस तरह से कार्यकर्ताओं को तैयार करेगी और इसके लिए पार्टी पूरी टीम भी तैयार करेगी । पार्टी के कार्यकर्ता हर यात्रा के बाद अपनी रिपोर्ट पार्टी के इंचार्ज को देंगे। सभी रिपोर्ट को जोड़ कर,बाद में महत्वपूर्ण बिंदुओं को बीजेपी 2024 चुनाव के लिए तैयार किए जाने वाले अपने घोषणा पत्र में भी शामिल करेगी। “यात्रा पर चर्चा” कार्यक्रम वैसे तो 2024 लोकसभा चुनाव को ध्यान में बनाया जा रहा है लेकिन गुजरात और हिमाचल प्रदेश के विधानसभा चुनावों के साथ ही इसको अमल में लाना शुरू किया जा रहा है। बहरहाल 2024 आम चुनाव को लेकर बीजेपी ने तैयारियां शुरू कर दी है। एक तरफ तमाम आउटरीच प्रोग्राम चलाकर जहां पार्टी आम लोगों से सीधे जुड़ने की तैयारी कर रही है। वहीं, अपने संगठन को दुरुस्त कर पूरी तरह कमर कस लेना चाहती है। इस क्रम में बीजेपी राष्ट्रीय संगठन टीम में बदलाव और केंद्र की मोदी सरकार मंत्रिमंडल में भी अतिशीघ्र ही बदलाव होने के आसार हैं।

Advertisement
Advertisement
Advertisement