बीजेपी के संसदीय बोर्ड में खाली 4 पदों पर टिकीं निगाहें, कई नामों पर चल रही चर्चा

भाजपा सूत्रों के मुताबिक, संसदीय बोर्ड में 11 से 12 सदस्यों का कोटा होता है। हालांकि, राष्ट्रीय अध्यक्ष पर निर्भर करता है कि वह इससे कम या अधिक सदस्य बोर्ड में शामिल कर सकते हैं।

Written by: July 10, 2020 8:40 pm

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी की नई राष्ट्रीय टीम तैयार कर ली गई है। किसी भी समय टीम में शामिल चेहरों के नामों की घोषणा हो सकती है। पार्टी के संसदीय बोर्ड में खाली चार पदों पर पार्टी नेताओं सहित सभी की निगाहें टिकीं हैं। वजह कि संसदीय बोर्ड में जगह संगठन में कद बड़ा होने और ताकतवर बनने की निशानी मानी जाती है। सुषमा स्वराज का निधन होने के बाद पार्लियामेंट्री बोर्ड में एक भी महिला नहीं है। ऐसे में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी का नाम चर्चा में है। दोनों में किसी एक महिला नेता को पार्लियामेंट्री बोर्ड में जगह मिल सकती है।

bjp-flags
संसदीय बोर्ड में इस वक्त राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, गृहमंत्री अमित शाह, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, दलित चेहरे और केंद्रीय मंत्री थावर चंद गहलोत, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और संगठन महामंत्री बीएल संतोष सहित कुल आठ चेहरे हैं। वेंकैया नायडू के उपराष्ट्रपति बनने और अरुण जेटली, अनंत कुमार, सुषमा स्वराज के निधन के बाद कुल चार पद खाली हैं। ऐसे में इन पदों पर किन नेताओं को जगह मिलेगी, इसको लेकर कई नाम चर्चाओं में हैं।

dharmendra pradhan
सूत्र बता रहे हैं कि भाजपा के संसदीय बोर्ड में केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, राष्ट्रीय महासचिव भूपेंद्र यादव, महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर, केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद में से कुछ नेताओं को जगह मिल सकती है। अल्पसंख्यक चेहरे मुख्तार अब्बास नकवी को भी संसदीय बोर्ड में प्रतिनिधित्व दिया जा सकता है।

JP Nadda and Amit Shah
भाजपा सूत्रों के मुताबिक, संसदीय बोर्ड में 11 से 12 सदस्यों का कोटा होता है। हालांकि, राष्ट्रीय अध्यक्ष पर निर्भर करता है कि वह इससे कम या अधिक सदस्य बोर्ड में शामिल कर सकते हैं। पार्टी के एक नेता ने आईएएनएस से कहा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा की ओर से तैयार लिस्ट सावन लगने से पहले छह जुलाई तक जारी होनी थी, लेकिन, कुछ कारणों से मामला लटक गया। संभव है कि तीन अगस्त को सावन खत्म होने के बाद राष्ट्रीय टीम की घोषणा हो। राष्ट्रीय टीम की घोषणा के वक्त ही संसदीय बोर्ड के सदस्यों के नामों की भी घोषणा की जाएगी।