Connect with us

देश

Kashi Vishwanath Gyanvapi Masjid: काशी विश्वनाथ मंदिर-ज्ञानपावी मस्जिद पर कोर्ट का बड़ा फैसला, अब 19 अप्रैल को….

आपको बताते चलें कि ज्ञानपावी मस्जिद को लेकर हिंदू पक्ष का दावा है कि इसमें हिंदुओं से जुड़े अवेशष सम्मलित हैं। यही नहीं, हिंदू पक्षों का यह भी दावा है कि पूर्व में यहां मंदिर स्थित था। ज्ञानपावी मंदिर के नीचे ज्योतिलिर्गिंय है। इतना ही नहीं, मंदिर में चस्पे देवी-देवताओं की मूर्ति लगी हुई थी, जिसे साल 1664 में औरंगजेब ने नष्ट कर मस्जिद का निर्माण करवा दिया था।

Published

नई दिल्ली। वाराणसी जिला कोर्ट ने काशी-ज्ञानपावी मंदिर प्रकरण पर बड़ा फैसला लिया है। कोर्ट ने इस विवाद का निस्तारण करने की दिशा में कमिश्नर नियुक्त करने का फैसला लिया है। इस कमीश्नर के नेतृत्व में काशी-ज्ञानपावी परिसर की वीडियोग्राफी कराई जाएगी। इस दौरान कोर्ट ने सुरक्षा-व्यवस्था भी चाकचौंबद करने का भी निर्देश दिया है, ताकि कोई अप्रिय घटना न घटे। बता दें कि जिला अदालत ने उक्त फैसला साल 2020 में दाखिल कई गई जनहित याचिका पर सुनावई के दौरान लिया है। याचिकाकर्ता ने अपनी याचिका में कोर्ट से मांग की है कि उक्त परिसर को हिंदुओं को सौंपा जाए, चूंकि इसमें हिंदू मंदिर से जुड़े अवशेष हैं। तो ये है जिला अदालत का फैसला, लेकिन आइए अब आगे जानते हैं कि आखिर पूरा माजरा क्या है। आखिर कोर्ट ने किस मामले की सुनवाई के दौरान यह फैसला सुनाया है।

kashi vishwanath gyanvapi masjid case court appointed commissioner | काशी  विश्वनाथ मंदिर - ज्ञानवापी मस्जिद विवाद पर कोर्ट का बड़ा फैसला!

आखिर क्या है माजरा

तो आपको बताते चलें कि ज्ञानपावी मस्जिद को लेकर हिंदू पक्ष का दावा है कि इसमें हिंदुओं से जुड़े अवेशष सम्मलित हैं। यही नहीं, हिंदू पक्षों का यह भी दावा है कि पूर्व में यहां मंदिर स्थित था। ज्ञानपावी मंदिर के नीचे ज्योतिलिर्गिंय है। इतना ही नहीं, मंदिर में चस्पे देवी-देवताओं की मूर्ति लगी हुई थी, जिसे साल 1664 में औरंगजेब ने नष्ट कर मस्जिद का निर्माण करवा दिया था। जिसके बाद साल 2020 में जनतिह याचिका दाखिल की गई थी कि यहां मस्जिद को हटाकर मंदिर की स्थापना कीजिए। अब इसी मामले को संज्ञान में लेने के उपरांत हाईकोर्ट ने उक्त फैसला किया है। ऐसे में देखना होगा कि आगे चलकर इस पर क्या कुछ फैसला लिया जाता है।

लाखों लोगों की भावनाएं शामिल है: इलाहाबाद HC में ज्ञानवापी मस्जिद विवाद  मामले की सुनवाई के दौरान भगवान विश्वेश्वर की ओर से हुई बहस - Law Trend

इतिहास के चश्मे से देखे तो यह प्रकरण साल 1991 में ही पहुंच गया था, जब ज्ञानपावी मस्जिद में हिदू देवताओं की पूजा करने की मांग की गई थी, लेकिन कुछ ही माह बाद प्लेस ऑफ वर्शिप एक्ट का हवाला देकर मस्जिद कमेट ने इसे हाईकोर्ट में चुनौती दी थी, लेकिन 1993 में इलाहबाद हाईकोर्ट ने इस प्रकरण को संज्ञान में लेने के बाद इस पर यथास्थिति रखने का निर्देश दिया था। जिसके बाद इस पूरे प्रकरण पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई थी और अभी-भी इस पूरे मसले पर सुनवाई का सिलसिवा जारी है। अब ऐसे में इस बात पर सभी की निगाहें टिकी हुई है कि आखिर इस पर क्या कुछ फैसला लिया जाता है।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
RBI
बिजनेस

RBI Hikes Repo Rate: एक बार फिर आपके लोन की ईएमआई में होगा इजाफा!, आरबीआई ने बढ़ा दिया रेपो रेट

cbi and manish sisodia
देश

Manish Sisodia In Dock: शराब घोटाले में बढ़ी दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया की मुश्किलें, सीबीआई ने उठाया ये बड़ा कदम

Smriti Irani Daughter Wedding
देश

Smriti Irani Daughter Wedding: सिद्धार्थ-कियारा के बाद स्मृति ईरानी की बेटी करने जा रही रॉयल वेडिंग, 500 साल पुराने इस शाही किले में लेंगी फेरे, देखें Video

rahul gandhi and pm modi
देश

BJP Attacks Rahul: अदानी से पीएम मोदी का नाम जोड़ना राहुल गांधी को पड़ सकता है भारी, हो सकती है कार्रवाई, आज प्रधानमंत्री भी देंगे जवाब

मनोरंजन

#SidharthKiaraWedding: सिद्धार्थ मल्होत्रा को शादी पर EX गर्लफ्रेंड आलिया भट्ट ने ‘कैसे’ दी बधाई, अब सोशल मीडिया पर हो रही चर्चा

Advertisement