West Bengal: गृहमंत्री अमित शाह से मिले राज्यपाल जगदीप धनखड़, कहा चिंताजनक है प्रदेश में बढ़ते अलकायदा का कद

West Bengal: पश्चिम बंगाल (West Bengal) में कानून व्यवस्था को लेकर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) और राज्य के राज्यपाल जगदीप धनखड़ (Jagdeep Dhankar) के बीच लगातार टकराव जारी है। ऐसे में आज राज्यपाल जगदीप धनखड़ गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) से मिलने दिल्ली पहुंचे। इस मुलाकात के बाद राज्यपाल ने प्रेस के सामने राज्य की स्थिति के बारे में जो कहा वह बेहद हीं चिंता जनक है।

Avatar Written by: January 9, 2021 7:09 pm
Amit Shah Jagdeep Dhankar

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव होना है। हालांकि इसके लिए अभी अधिसूचना जारी नहीं की गई है। लेकिन पूरे प्रदेश में सियासी गर्माहट जारी है। भाजपा और टीएमसी इस पूरे मामले में अपनी पूरी ताकत झोंक चुकी हैं। वहीं AIMIM की तरफ से भी पश्चिम बंगाल में अपनी सियासी जमीन तलाश करने के उद्देश्य से पार्टी के उम्मीदवारों को भी उतारने की पूरी तैयारी कर ली गई है। दूसरी तरफ कांग्रेस और वामपंथी दल भी राज्य में गठबंधन बनाकर चुनाव लड़ने की कोशिश में लगी हैं और उनके बीच बातचीत जारी है।

Jagdeep Dhankhad And Mamta banarjee

इस सब के बीच पश्चिम बंगाल में कानून व्यवस्था को लेकर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और राज्य के राज्यपाल जगदीप धनखड़ के बीच लगातार टकराव जारी है। ऐसे में आज राज्यपाल जगदीप धनखड़ गृहमंत्री अमित शाह से मिलने दिल्ली पहुंचे। इस मुलाकात के बाद राज्यपाल ने प्रेस के सामने राज्य की स्थिति के बारे में जो कहा वह बेहद हीं चिंता जनक है। आपका बता दें कि अमित शाह से मिलने के लिए देर रात शुक्रवार को ही जगदीप धनखड़ दिल्ली पहुंचे थे। यहां आज उन्होंने गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की और उसके बाद वह भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) बीएल संतोष से मिलने पहुंचे।

राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने गृहमंत्री से मुलाकात में पश्चिम बंगाल की कानून व्यवस्था के बारे में जानकारी दी। गृहमंत्री से मुलाकात के बाद जगदीप धनखड़ ने जो कहा उससे प्रशासन की चिंता ज्यादा बढ़नेवाली है। मीडिया के सामने जगदीप धनखड़ ने कहा- 2021 पश्चिम बंगाल के लिए एक चुनौतीपूर्ण वर्ष है क्योंकि यहां विधानसभा चुनाव होना है। ऐसे में राज्य की छवि के बदलाव का एक बड़ा अवसर है। क्योंकि अभी तक प्रदेश में चुनावों में बड़े पैमाने पर हिंसा हुई है, मतदाताओं के बुनियादी अधिकारों से समझौता करने का साथ, नौकरशाहों और पुलिस की भूमिका भी यहां सही नहीं है।

जगदीप धनखड़ ने कहा कि यह हमारे लिए ऐसा वक्त है जब हमें एक उच्च मापदंड स्थापित करने की जरूरत है। ताकि प्रदेश के हर मतदाता स्वतंत्र रूप से एक शांतिपूर्ण माहौल में अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकें, जहां हिंसा की कोई भूमिका नहीं हो। उन्होंने कहा कि मेरा दिल तब दुखता है कि जब संवैधानिक प्रावधानों की अनदेखी करते हुए, ‘मां भारती’ के एक बच्चे को पश्चिम बंगाल में बाहरी कहा जाता है क्योंकि वह राज्य से संबंधित नहीं है। हम सभी ‘माँ भारती’ के बच्चे हैं और हम अपनी एकता में विश्वास करते हैं। इस भूमि में रहने वाला कोई भी व्यक्ति बाहरी व्यक्ति नहीं हो सकता है।

इसके साथ ही धनखड़ ने आगे जो कहा वह सच में चिंता का विषय है उन्होंने कहा कि प्रदेश में सुरक्षा का वातावरण खतरे में है। अलकायदा प्रदेश में फैल रहा है, अवैध बम बनाने का काम चल रहा है। मैं जानना चाहता हूं कि राज्य में प्रशासन क्या कर रहा है? WB में DGP की स्थिति एक खुला रहस्य है। इसलिए मैं कहता हूं कि हमारे पास राजनीतिक पुलिस है।

Support Newsroompost
Support Newsroompost