Connect with us

देश

Gyanvapi Case: वाराणसी के जिला जज आज सुनेंगे ज्ञानवापी मस्जिद का केस, जानिए पहले किसकी अर्जी पर होगा फैसला

सुप्रीम कोर्ट ने सिविल जज सीनियर डिविजन के कोर्ट से ये केस जिला जज को ट्रांसफर किया था। मुस्लिम पक्ष ने हिंदू पक्ष के वाद के खिलाफ ऑर्डर 7 रूल 11 के तहत अर्जी दी है। उसने कहा है कि हिंदू पक्ष की अर्जी को खारिज कर देना चाहिए।

Published

on

Gyanvapi Row...

वाराणसी। यूपी के वाराणसी स्थित ज्ञानवापी मस्जिद से जुड़े केस में आज जिला जज के कोर्ट में सुनवाई होगी। इस दौरान जिला जज डॉ. अजय कुमार विश्वेश सबसे पहले मुस्लिम पक्ष की अर्जी पर सुनवाई करेंगे। इसके साथ ही सिविल जज की ओर से मस्जिद के कराए गए सर्वे पर आपत्तियां भी दोनों पक्ष दाखिल कर सकते हैं। पिछली सुनवाई में हालांकि, आपत्तियां दर्ज कराने के लिए एक हफ्ते का वक्त दिया गया था। सुप्रीम कोर्ट ने सिविल जज सीनियर डिविजन के कोर्ट से ये केस जिला जज को ट्रांसफर किया था। मुस्लिम पक्ष ने हिंदू पक्ष के वाद के खिलाफ ऑर्डर 7 रूल 11 के तहत अर्जी दी है। उसने कहा है कि हिंदू पक्ष की अर्जी को खारिज कर देना चाहिए।

हिंदू पक्ष ने पहले मस्जिद में कथित रूप से स्थित मां शृंगार गौरी के पूजा-पाठ की मंजूरी के लिए केस किया था। कोर्ट कमिश्नर के सर्वे रिपोर्ट में मस्जिद के वजूखाने से शिवलिंग जैसी आकृति मिलने के बाद केस ने दूसरा रूप ले लिया। पहले सिविल जज और फिर सुप्रीम कोर्ट ने वजूखाने को सील रखने का आदेश दिया था। मुस्लिम पक्ष इस आदेश को भी रद्द कराना चाहता है। अंजुमन इंतजामिया मस्जिद कमेटी का कहना है कि प्लेसेज ऑफ वर्शिप एक्ट 1991 के तहत हिंदुओं का वाद सुना ही नहीं जा सकता। उसने केस खारिज करने के पक्ष में 7 और बिंदु दिए हैं।

gyanvapi mosque

आज ही जिला जज तीन और अर्जियों पर भी फैसला ले सकते हैं। इसमें हिंदुओं की तरफ से वजूखाने के नीचे की जगह को तोड़कर कमीशन से सर्वे कराने। सरकारी वकील की तरफ से वजूखाने के तालाब में मिली मछलियों को संरक्षित करने और काशी विश्वनाथ मंदिर के पूर्व महंत कुलपति तिवारी के पूजा-पाठ की मंजूरी की अर्जियां हैं। इन तीनों पर सिविल जज सीनियर डिविजन के कोर्ट में सुनवाई नहीं हो सकी थी।

Advertisement
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
waris pathan
देश8 mins ago

Amravati-Udaipur Killings: हिंदुओं की हत्या पर ये कहकर घिरे AIMIM नेता वारिस पठान, राजनीतिक विश्लेषक ने बोलती की बंद

godhra accused rafeeq bhatuk
देश31 mins ago

2002 Godhra Train Carnage: गोधरा में 59 कारसेवकों को जिंदा जलाकर मारने के मामले में 20 साल बाद न्याय, दोषी रफीक भटुक को मिली उम्रकैद

ज्योतिष1 hour ago

Vinayaka Chaturthi 2022: विघ्नहर्ता हर लेंगे आपके सभी दुख, अगर इस तरह से करेंगे पूजा, बनेंगे रुके हुए सारे काम

देश10 hours ago

जान से मारने की धमकी देने वाले इकबाल कासकर के आदमी की साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने निकाली हेकड़ी, कहा- ‘मुझे ठोकना भी आता है’

देश10 hours ago

कन्हैयालाल हत्याकांड में सामने आया बुर्का कनेक्शन, बर्काधारी महिला ने दी थी धमकी, कहा था- ‘तुम्हारा गला काट देंगे’

Advertisement