Haryana: हरियाणा सरकार का फैसला, प्राइवेट जॉब में स्थानीय युवाओं को मिलेगा 75 प्रतिशत आरक्षण

Haryana: हरियाणा (Haryana) के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने डेढ़ लाख युवाओं को रोजगार का सपना दिखाया था, जो कि अब हकीकत में बदलने जा रहा है। हालांकि निजी कंपनियों में स्थानीय युवाओं को रोजगार में 75 फीसदी आरक्षण के फैसले से उद्योगपति नाराज हैं।

Avatar Written by: November 5, 2020 9:26 pm

नई दिल्ली। हरियाणा विधानसभा ने राज्य के युवाओं के लिए प्राइवेट सेक्टर में 75 प्रतिशत का आरक्षण दिए जाने संबंधी बिल को पास कर दिया है। इससे पहले बीती 6 जुलाई को हरियाणा मंत्रिमंडल ने निजी क्षेत्र की नौकरियों में राज्य के लोगों को 75 प्रतिशत आरक्षण दिए जाने संबंधी अध्यादेश लाने के प्रस्ताव को मंजूरी दी थी। बता दें कि भारतीय जनता पार्टी के साथ प्रदेश में गठबंधन सहयोगी दुष्यंत चौटाला की जननायक जनता पार्टी ने चुनावों में मुख्य रूप से निजी क्षेत्र की नौकरियों में प्रदेश के युवाओं को 75 प्रतिशत आरक्षण दिलाने का वादा किया था।

इसको लेकर हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा, ‘हम उम्मीद करते हैं कि जल्द महामहिम भी इस पर स्वीकृति देंगे और हरियाणा में आने वाले समय में जितना भी रोजगार आएगा उसके अंदर हम हमारे युवाओं को तीन चौथाई आरक्षण दे पाएंगे।

manohar

हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने डेढ़ लाख युवाओं को रोजगार का सपना दिखाया था, जो कि अब हकीकत में बदलने जा रहा है। हालांकि निजी कंपनियों में स्थानीय युवाओं को रोजगार में 75 फीसदी आरक्षण के फैसले से उद्योगपति नाराज हैं।

manohar

एक आधिकारिक बयान में कहा गया था कि मसौदा अध्यादेश के तहत विभिन्न निजी प्रबंधन वाली कंपनियों, समितियों, न्यासों, सीमित देयता साझेदारी फर्मों, साझेदारी फर्मों आदि में 50 हजार रुपये प्रति महीने से कम वेतन वाली 75 प्रतिशत नौकरियां स्थानीय युवाओं को दी जाएंगी। अध्यादेश के मुताबिक नियोक्ता को हालांकि एक जिले से सिर्फ 10 प्रतिशत स्थानीय उम्मीदवारों की नियुक्ति का विकल्प मिलेगा। किसी खास श्रेणी के उद्योग में यदि उपयुक्त उम्मीदवार नहीं मिलते हैं तो छूट का प्रावधान भी उपलब्ध होगा।

Support Newsroompost
Support Newsroompost