बंगाल में बरसे अमित शाह, ममता को दी चुनौती, कहा राजनीति का मैदान तय कर लो, दो-दो हाथ हो जाए

बंगाल सरकार पर केंद्र की योजनाएं लागू न करने का आरोप लगाते हुए अमित शाह ने ममता बनर्जी को चुनौती दी और कहा कि ये राजनीति की चीज नहीं है, राजनीतिक के कई और मैदान हैं आप मैदान तय कर लो, दो-दो हाथ जाए। 

Written by: June 9, 2020 11:36 am

नई दिल्ली। गृह मंत्री अमित शाह आज  जन संवाद वर्चुअल रैली के जरिए पश्चिम बंगाल के कार्यकर्ताओं और लोगों को संबोधित किया। इस दौरान अमित शाह ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर जमकर निशाना साधा। बंगाल सरकार पर केंद्र की योजनाएं लागू न करने का आरोप लगाते हुए अमित शाह ने ममता बनर्जी को चुनौती दी और कहा कि ये राजनीति की चीज नहीं है, राजनीतिक के कई और मैदान हैं आप मैदान तय कर लो, दो-दो हाथ जाए।  अमित शाह ने कहा कि बंगाल में सत्ता बदलेगी और शपथ के एक मिनट के अंदर आयुष्मान भारत योजना बंगाल में लागू हो जायेगी।

Amit Shah

पश्चिम बंगाल चुनाव के लिये चुनावी कैंपेन की शुरुआत करते अमित शाह ने मंगलवार को कहा कि बंगाल विकास के रास्ते पर काफी पीछे चला गया है। कानून व्यवस्था जर्जर हो गई है। सांसदों को रोका जा रहा है। विधायकों को बंधक बनाया जा रहा है। बम धमाके, नारकोटिक्स, भ्रष्टाचार और अपहरण का नंगा नाच हो रहा है। लिहाजा बंगाल को आगे लाने के लिए यहां सत्ता परिवर्तन करना बेहद जरूरी है।

अमित शाह ने कहा कि हम अपनी सरकार का हिसाब दे रहे हैं, ममता जी आप भी 10 साल का हिसाब बताइये, लेकिन बम धमाकों और भाजपा कार्यकर्ताओं की मौत का आंकड़ा मत बताइयेगा।

Amit Shah

दिल्ली से पश्चिम बंगाल के लिए पहली वर्चुअल रैली को संबोधित करते हुए शाह ने कहा, “भाजपा की सरकार ने बिहार, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश और राजस्थान जैसे बीमारू राज्यों को विकास के रास्ते पर आगे लाकर कर दिखाया है । आपने तृणमूल कांग्रेस और वामपंथियों की सरकार देखी है, एक बार भाजपा को मौका दे।”

अमित शाह ने कहा, “भाजपा की सरकार आते ही प्रदेश से से बेरोजगारी, भ्रष्टाचार ,आतंकवाद, परिवारवाद और तुष्टीकरण की राजनीति खत्म हो जाएगी। न कोई नारदा स्कैम होगा और न शारदा । घोटाला और भ्रष्टाचार से मुक्त बंगाल बनाया जाएगा।”

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर तृणमूल कांग्रेस के विरोध पर हमलावर होते हुए अमित शाह ने कहा, “जब नागरिकता संशोधन कानून देश भर में लागू किया गया था, तो ममता दीदी काफी गुस्से में थी। उन्होंने अपने राजनीतिक विरोधियों के लिए गलत भाषा का इस्तेमाल किया था। संसद से लेकर सड़क तक उनकी पार्टी ने विरोध किया। बांग्लादेश से आये हिंदू शरणार्थियों ने आपका क्या बिगाड़ा था, जो उनको नागरिक बनाये जाने का विरोध कर रही हैं।”

Amit Shah
शाह ने ममता सरकार पर तुष्टिकरण की राजनीति के चलते नागरिकता संशोधन कानून का विरोध करने का भी आरोप लगाया। साथ ही भविष्यवाणी की जब बंगाल में विधानसभा चुनाव के बाद मत की पेटियां खुलेगी तो आपकी पार्टी खुद शरणार्थी बन जाएगी।

अमित शाह ने कहा, मोदी जी 2014 में देश के प्रधानमंत्री बनें और 2019 में फिर से जनादेश प्राप्त किया और मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का एक वर्ष समाप्त हुआ है। ये 6 साल भारत को हर तरीके से आगे बढ़ाने के 6 साल रहे हैं। ये 6 साल भारत की समस्याओं का समाधान करने के रहे हैं।

अमित शाह ने कहा कि मैं बंगाल की जनता को ये कहना चाहता हूं कि भले ही भाजपा को 303 सीटें देशभर से मिली है। लेकिन मेरे जैसे कार्यकर्ता के लिए सबसे महत्वपूर्ण है बंगाल की 18 सीटों पर मिली विजय।