Covid 19 vaccine: कोरोनावायरस से संग्राम के बीच लोगों तक वैक्सीन की पहुंच कैसे होगी आसान, स्वास्थ्य मंत्री ने समझाया

Covid 19 vaccine: इसके साथ ही स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री डॉ हर्षवर्धन (Dr. Harshvardhan) ने कहा, ‘सरकार की योजना 40 करोड़ से 50 करोड़ COVID-19 वैक्सीन खुराक प्राप्त करने और उपयोग करने की है। राज्यों को अक्टूबर के अंत तक प्राथमिकता के तौर पर जनसंख्या समूहों का विवरण भेजने की सलाह दी गई है। उन्‍होंने कहा कि स्वास्थ्य कर्मियों को अग्रिम पंक्ति में COVID-19 रोग प्रतिरोधक क्षमता उपलब्‍ध कराना सर्वोच्च प्राथमिकता है।

Avatar Written by: October 4, 2020 6:32 pm
Dr. Harshvardhan

नई दिल्ली। कोरोनावायरस का कहर पूरी दुनिया में जारी है। भारत में भी इसके मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच दुनिया में कोविड 19 महामारी की वैक्‍सीन या टीका के प्रति भी लोगों की आशाएं दिनोंदिन बढ़ रही हैं। दुनिया भर में इसके 100 से ज्यादा टीकों पर काम जारी है। 8 से ज्यादा ऐसे टीके हैं जिनका ट्रायल लगभग पूरा होने को है। ऐसे में लोगों का आशा बंधी है कि जल्द ही उनतक भी यह जानलेवा महामारी से बचाने का टीका पहुंच जाएगा। इसको लेकर भारत सरकार की कैसी तैयारी है और सरकार लोगों तक इस वैक्सीन को कैसे पहुंचाएगी इस पर खुलकर बात की केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने।

Sunday Samwad with Dr. Harshvardhan

केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने रविवार को संडे संवाद 4 के जरिये सोशल मीडिया यूजर्स से बातचीत की। इस दौरान उन्‍होंने कहा कि भारत सरकार का लक्ष्‍य है कि जुलाई 2021 तक 20 से 25 करोड़ भारतीयों को कोरोना वैक्‍सीन उपलब्‍ध हो जाए। मतलब साफ था कि भारत सरकार की कोशिश यह है कि पहले टीका उनलोगों को मुहैया हो पाए जिनको इस वायरस से ज्यादा खतरा है। इसके साथ ही स्वास्थ्य मंत्रालय लगातार लोगों को अपने रोग प्रतिरोधक झमता बढ़ाने के बारे में भी जागरूक कर रही है।


इसके साथ ही स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने कहा, ‘सरकार की योजना 40 करोड़ से 50 करोड़ COVID-19 वैक्सीन खुराक प्राप्त करने और उपयोग करने की है। राज्यों को अक्टूबर के अंत तक प्राथमिकता के तौर पर जनसंख्या समूहों का विवरण भेजने की सलाह दी गई है। उन्‍होंने कहा कि स्वास्थ्य कर्मियों को अग्रिम पंक्ति में COVID-19 रोग प्रतिरोधक क्षमता उपलब्‍ध कराना सर्वोच्च प्राथमिकता है।


हर्षवर्धन ने कहा, ‘वैक्सीन की खरीद केंद्रीय रूप से की जाएगी। वैक्‍सीन की प्रत्येक खेप को रियलटाइम में ट्रैक किया जाएगा। भारतीय वैक्सीन निर्माताओं को पूर्ण सरकारी समर्थन दिया जा रहा है।’ उन्‍होंने कहा कि, ‘भारत COVID-19 मानव चुनौती परीक्षणों में उद्यम करने की योजना नहीं बना रहा है। सरकार टीकों के लिए समान पहुंच सुनिश्चित करने के लिए सभी उपाय करने के लिए प्रतिबद्ध है।’


इससे पहले आज सुबह तक देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से 940 मरीजों की मौत हुई जिससे मृतकों की कुल संख्या बढ़कर 1,01,782 हो गई। वहीं एक दिन में 75,829 और लोगों के संक्रमित पाए जाने के बाद संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 65,49,373 हो गई। आंकड़ों के अनुसार संक्रमण से स्वस्थ होने वाले लोगों की संख्या 55,09,966 है। देश में फिलहाल 9,37,625 कोविड-19 मरीजों का इलाज चल रहा है जो कि कुल मामलों का 14.32 फीसदी है। वहीं देश में कोविड-19 मृत्यु दर अब घटकर 1.55 फीसदी रह गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से यह जानकारी दी गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से रविवार सुबह आठ बजे तक के जारी आंकड़ों के अनुसार देश में कोरोनावायरस संक्रमण के मामले जहां 65 लाख से पार पहुंच गये वहीं इससे स्वस्थ होने वाले लोगों की संख्या भी 55 लाख से ज्यादा हो गई। इसके साथ ही देश में इस संक्रमण से स्वस्थ होने की दर 84.13 फीसदी हो गई है।

रूस की कोरोना वैक्सीन की खरीद के बारे में क्या बोले स्वास्थ्य मंत्री

भारत में वैक्सीन के ह्यूमन ट्रायल के बारे में ये बोले डॉ. हर्षवर्धन