भारत के लिए खुशखबरीः कोरोना वैक्सीन के मानव परीक्षण को मिली मंजूरी, देशभर में होगा क्लिनिकल ट्रायल

भारतीय औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा विकसित कोरोना के वैक्सीन के तीसरे चरण के मानव परीक्षण के लिए सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) को मंजूरी दे दी है।

Avatar Written by: August 3, 2020 4:57 pm

नई दिल्ली। कोरोनावायरस के वैक्सीन को लेकर भारत के लिए एक अच्छी खबर है। भारतीय औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा विकसित कोरोना के वैक्सीन के तीसरे चरण के मानव परीक्षण के लिए सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) को मंजूरी दे दी है। सरकारी अधिकारियों ने बताया कि एसआईआई को यह मंजूरी औषधि महानियंत्रक डॉ. वीजी सोमानी ने रविवार देर रात दी।

russia corona vaccine

अधिकारी ने बताया कि इससे पहले उन्होंने कोविड-19 के विषय विशेषज्ञ समिति (एसईसी) की अनुशंसाओं पर गहन विचार-विमर्श किया था। उन्होंने कहा कि कंपनी को तीसरे चरण के क्लिनिकल ट्रायल से पहले सुरक्षा संबंधी वह डेटा केन्द्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) के पास जमा करना होगा जिसका मूल्यांकन डेटा सुरक्षा निगरानी बोर्ड (डीएसएमबी) ने किया हो।

corona vaccine

अधिकारी ने जानकारी दी, ‘इस शोध की रूपरेखा के मुताबिक, शोध में शामिल हर व्यक्ति को चार हफ्ते के अंतर पर दो डोज दिए जाएंगे (अर्थात पहले डोज के 29वें दिन दूसरा डोज दिया जाएगा)। इसके बाद तय अंतराल पर सुरक्षा और प्रतिरक्षाजनत्व का आकलन होगा।’ अधिकारियों ने बताया कि सीडीएससीओ के विशेषज्ञ पैनल ने पहले और दूसरे चरण के परीक्षण से मिले डेटा पर गहन विचार विमर्श करने के बाद ‘कोविशिल्ड’ के भारत में स्वस्थ वयस्कों पर दूसरे और तीसरे चरण के परीक्षण की मंजूरी दी।

corona vaccine

ऑक्सफोर्ड द्वारा विकसित इस टीके के दूसरे एवं तीसरे चरण का परीक्षण अभी ब्रिटेन में चल रहा है। तीसरे चरण का परीक्षण ब्राजील में और पहले तथा दूसरे चरण का परीक्षण दक्षिण अफ्रीका में चल रहा है।

coronavirus

दूसरे और तीसरे चरण के परीक्षण के लिए एसआईआई के आवेदन पर विचार करने के बाद एसईसी ने 28 जुलाई को इस संबंध में कुछ और जानकारी मांगी थी तथा प्रोटोकॉल में संशोधन करने को कहा था। एसआईआई ने संशोधित प्रस्ताव बुधवार को जमा करवा दिया। पैनल ने यह भी सुझाव दिया है कि क्लिनिकल ट्रायल के लिए स्थलों का चुनाव पूरे देशभर से किया जाए। ह्यूमन ट्रायल सफल होने के बाद कोरोना की वैक्सीन के जल्द बाजार में आने का रास्ता साफ हो जाएगा।

Support Newsroompost
Support Newsroompost