अंग्रेजों के जमाने से चली आ रही प्रथा को रेलवे ने लिया बंद करने का फैसला, अब नहीं होगी खलासी की भर्ती

आपको बता दें कि रेलवे बोर्ड ने इस संबंध में गुरुवार को आदेश जारी किया है। रेलवे बोर्ड ने आदेश में कहा है कि टेलीफोन अटेंडेंट सह डाक खलासी (टीएडीके) संबंधी मामले की समीक्षा की जा रही है।

Avatar Written by: August 7, 2020 1:59 pm

नई दिल्ली। भारतीय रेलवे ने बड़ा फैसला लिया है। रेलवे ने औपनिशेविक काल की खलासी प्रणाली को समाप्त करने का निर्णय किया है। रेलवे द्वारा जारी आधिकारिक आदेश के मुताबिक, अब इस पर पर कोई नई भर्ती नहीं होगी। दरअसल खलासी का काम अंग्रेजों के शासन के काल में रेलवे के अधिकारियों के आवासों में तैनात चपरासियों की तरह होती थी। 6 अगस्त को रेलवे बोर्ड की ओर से जारी आदेश के मुताबिक खलासी के पदों की समीक्षा की जा रही है और फैसला लिया गया है कि अब इन पदों पर कोई भर्ती नहीं की जाएगी।

indian-railways

आपको बता दें कि रेलवे बोर्ड ने इस संबंध में गुरुवार को आदेश जारी किया है। रेलवे बोर्ड ने आदेश में कहा है कि टेलीफोन अटेंडेंट सह डाक खलासी (टीएडीके) संबंधी मामले की समीक्षा की जा रही है। आदेश में कहा गया है, ‘टीएडीके की नियुक्ति संबंधी मामला रेलवे बोर्ड में समीक्षाधीन है, इसलिए यह फैसला किया गया है कि टीएडीके के स्थानापन्न के तौर पर नए लोगों की नियुक्ति की प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ाई जानी चाहिए और न ही तत्काल नियुक्ति की जानी चाहिए।’

Indian Railway

आदेश में कहा गया है, ‘इसके अलावा, एक जुलाई 2020 से इस प्रकार की नियुक्तियों को दी गई मंजूरी के मामलों की समीक्षा की जा सकती है और इसकी स्थिति बोर्ड को बताई जाएगी। इसका सभी रेल प्रतिष्ठानों में सख्ती से पालन किया जाए।’

क्या करते हैं टीएडीके?

इन्हें बंगला प्यून भी कहा जाता है। ये रेलवे के सीनियर अफसरों के घरों पर काम करते हैं। रेलवे में यह व्यवस्था अंग्रेजों के जमाने से चली आ रही है। टीएडीके को शुरुआत में करीब 15 हजार रुपए मिलते हैं। तीन साल बाद इन्हें स्थायी कर दिया जाता है। उसके बाद 20 हजार रुपए और दूसरे फायदे भी मिलते हैं।

Support Newsroompost
Support Newsroompost