Connect with us

देश

Jharkhand: अब झारखंड कांग्रेस में भी संकट!, अब अपने ही 4 मंत्रियों से नाराज विधायक राहुल गांधी से करेंगे मुलाकात

Jharkhand: अंसारी ने पार्टी नेतृत्व पर आरोप लगाते हुए कहा कि जिन नेताओं को लोगों ने पसंद नहीं किया, उन्हें पार्टी की तरफ से मंत्री पद के लिए चुना गया। उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस कोटा के सभी चारों मंत्री काम करने में असफल रहे हैं, क्योंकि लोग उनसे खुश नहीं है और इसलिए पार्टी के युवा नेताओं को मौका दिया जाना चाहिए।’

Published

on

jharkhand congress rahul gandhi

नई दिल्ली। कांग्रेस पार्टी की मुश्किलें खत्म होने का नाम नहीं ले रही हैं। न सिर्फ पंजाब बल्कि कई राज्यों में पार्टी को आंतरिक कलह का सामना करना पड़ रहा है। इसी क्रम में अब झरखंड की गठबंधन सरकार में शामिल कांग्रेस में भी अब आंतरिक कलह की आंधी तेज होने लगी है। खबर है कि पार्टी के कम से कम 4 नाराज विधायकों ने पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात के लिए समय की मांग की है। पार्टी नेता सरकार में शामिल कांग्रेस के चार मंत्रियों पर काम न करने के आरोप लगा रहे हैं। ध्यान हो कि हाल ही में राजधानी दिल्ली में कांग्रेस ने बैठक का आयोजन किया था जिसमें झारखंड के प्रदेश अध्यक्ष समेत कई बड़े नेताओं को तलब भी किया गया था।

congress

एक अंग्रेजी अखबार के अनुसार, जमताड़ा विधायक इरफान अंसारी के नेतृत्व में कम से कम चार विधायक कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और नेता राहुल गांधी से मिलने की तैयारी कर रहे हैं। अंसारी की मानें तो वो पार्टी के पांच और विधायकों के संपर्क में हैं, जो कि दिल्ली में उनके साथ बैठक में हिस्सा लेगें। असंतुष्ट विधायकों उमाशंकर अकेला, नमन विक्सल कोंगारी, राजेश कछप और इरफान अंसारी की बैठक के दौरान राहुल गांधी से मुलाकात का ये फैसला लिया गया है। रिपोर्ट के अनुसार, अंसारी ने ये आरोप लगाया है कि राज्य के मंत्रियों की तरफ से उन्हें दरकिनार करने की कोशिश की जा रही है। किया जा रहा है और वो उनसे मिलने के लिए भी तैयार नहीं हैं। अंसारी ने ये भी कहा कि गठबंधन की सरकार में कांग्रेस के चार मंत्री काम करने में असफल रहे हैं। ऐसे में युवा नेताओं को मौका दिया जाना चाहिए।

rahul gandhi comment

अंसारी ने पार्टी नेतृत्व पर आरोप लगाते हुए कहा कि जिन नेताओं को लोगों ने पसंद नहीं किया, उन्हें पार्टी की तरफ से मंत्री पद के लिए चुना गया। उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस कोटा के सभी चारों मंत्री काम करने में असफल रहे हैं, क्योंकि लोग उनसे खुश नहीं है और इसलिए पार्टी के युवा नेताओं को मौका दिया जाना चाहिए।’ एक दूसरे विधायक कछप ने कहा कि कांग्रेस के मंत्री उनसे मिलने के लिए तैयार नहीं हैं। छोटे से मुद्दों के लिए भी काफी लंबा इंतजार करना पड़ता है।

Advertisement
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Advertisement