Connect with us

देश

JNU: ‘ब्राह्मण भारत छोड़ो..’ जेएनयू कैंपस की दीवारों पर जाति विरोधी नारे लिखे जाने पर मचा बवाल

JNU: वहीं विवाद बढ़ने पर जेएनयू प्रशासन ने जांच के आदेश दे दिए है। जेएनयू की वाइस चांसलर शांतिश्री पंडित ने इस घटना को गंभीरता से लेते हुए रिपोर्ट मांगी है। जांच के आदेश दे दिए है। हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने जेएनयू कैंपस पर जातिविरोध नारे लिखे जाने पर आक्रोश व्यक्त किया है।

Published

jnu campus

नई दिल्ली। दिल्ली का जवाहरलाल नेहरू नेशनल यूनिवर्सिटी (JNU) का एक बार फिर विवादों में घिर गए है। देश में टुकड़े-टुकड़े गैंग एक बार फिर एक्टिव हो गया है और इस बार हिंदू-मुस्लिम की जगह जातिवाद के नाम पर देश और जएनयू की एकता को तोड़ने की साजिश रची गई है। दरअसलल जेएनयू कैंपस की दीवारों पर जातिविरोधी नारे लिखे गए है। स्कूल ऑफ इंटरनेशल स्टडीज में कुछ प्रोफेसर को निशाना बनाते हुए उनके कमरों के बाहर ना सिर्फ जातिवादी नारे लिखे गए है, बल्कि उन्हें कैंपस छोड़ने और शाखा में लौट जाओ जैसे नारे लिखे गए है। इन नारों में ब्राह्मणों और बनियों को निशाना बनाया गया हैं। जिसको लेकर काफी बवाल देखने को मिल रहा है।  फोटो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही है।

JNU

वायरल फोटो में देखा जा सकता है कि दीवारों में लाल रंग से लिखा गया कि, ब्राह्मण भारत छोड़ो, ब्राह्मण और बनिया हम तुम्हारे लिए आ रहे है। बख्शा नहीं जाएगा जैसे धमकी भरे नारे लिखे गए है। इस घटना के बीच एबीवीपी ने लेफ्ट विंग को जिम्मेदार ठहराया है। वहीं विवाद बढ़ने पर जेएनयू प्रशासन ने जांच के आदेश दे दिए है। जेएनयू की वाइस चांसलर शांतिश्री पंडित ने इस घटना को गंभीरता से लेते हुए रिपोर्ट मांगी है। जांच के आदेश दे दिए है।

jnu campus

हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने जेएनयू कैंपस पर जातिविरोध नारे लिखे जाने पर आक्रोश व्यक्त किया है। अनिल विज ने इस घटना पर ट्वीट करते हुए लिखा, ”जेएनयू की दीवारों पर ब्राह्मण और बनिया विरोधी नारे बहुत ही घातक है क्योंकि ब्राह्मण हमारे देश के धर्म और संस्कृति को जिंदा रखे हैं और बनिया देश के व्यापार में अहम भूमिका अदा कर रहा है नारे लिखने वाले ने देश की संस्कृति और व्यापार पर प्रहार किया है ऐसी सोच को कुचल देना चाहिए।”

गीतकार मनोज मुंतशिर ने भी जेएनयू में ब्राह्मण और बनिया विरोधी नारे लिखे पर रोष प्रकट किया है। इसके साथ ही उन्होंने ये भी जानकारी दी कि कल इस मसले पर अपने यूट्यूब चैनल पर राय रखूंगा।

लोगों के रिएक्शन-

उधर सोशल मीडिया पर जेएनयू कैंपस के अंदर लिखे जाति विरोधी नारे को लोगों का भी आक्रोश देखने को मिल रहा है।

Advertisement
Advertisement
Advertisement