दिल्ली चुनाव: अवैध शराब बांटने को लेकर केजरीवाल के मंत्री कैलाश गहलोत के भाई का नाम आया सामने

आचार संहिता का उल्लंघन करने में आम आदमी पार्टी नंबर 1 रही, इस चुनावों के दौरान आचार संहिता का उल्लंघन करने के लिए कुल 45 मामले दर्ज किए गए जिनमें सबसे ज्यादा 28 मामले आप के खिलाफ दर्ज हुए, 9 मामले कांग्रेस के खिलाफ, 4 बीजेपी के खिलाफ और 4 अन्य के खिलाफ दर्ज हुए।

Avatar Written by: February 9, 2020 4:12 pm

नई दिल्ली। दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए वोटिंग तो हो चुकी है लेकिन वोटरों को लुभाने के लिए अवैध शराबों का काफी लालच दिया गया। इसी के चलते दिल्ली के इस चुनाव में भारी मात्रा में अवैध शराब भी पकड़ी गई। इस अवैध शराब को बांटने में केजरीवाल सरकार के मंत्री के भाई का नाम सामने आया है।

Voting

आपको बता दें कि अवैध शराब को लेकर दिल्ली सरकार के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत के भाई हरीश गहलोत का नाम सामने आया है। दरअसल, क्राइम ब्रांच की टीम को जानकारी मिली थी कि दिल्ली के नजफगढ़ इलाके में एक गोदाम में भारी मात्रा में शराब रखी हुई है। सूचना के आधार पर क्राइम ब्रांच की टीम ने उस गोदाम पर नजर रखना शुरू किया 6 फरवरी की शाम करीब 7:15 बजे उस गोदाम से एक बोलेरो कार बाहर निकल रही थी तभी क्राइम ब्रांच की टीम में उस बोलेरो कार को रुकवा लिया और जब उस कार की तलाशी ली गई तो उसमें से 15 पेटी अवैध शराब बरामद की है।

arvind kejriwal

पुलिस ने कार चला रहे रविन्द्र नाम के शख्स को हिरासत में लिया और उससे पूछताछ की गई तो उसने बताया कि शराब यही गोदाम के अंदर रखी है इसके बाद क्राइम ब्रांच की टीम ने गोदाम पर भी छापा मारा, गोदाम के अंदर से 40 पेटी शराब बरामद की गई और गोदाम से पुलिस ने वीरेंद्र नाम के शख्स को हिरासत में लिया।

जब इन दोनों से पूछताछ की गई तो उन्होंने बताया कि यह शराब गुड़गांव से लेकर आए हैं और हरीश गहलोत के लिए लेकर आए हैं, आप बता दें कि हरीश गहलोत दिल्ली सरकार के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत के भाई है।

यह शराब चुनाव में वोटरों को बांटने के लिए लाई गई थी, क्राइम ब्रांच की टीम ने इन दोनों के खिलाफ एक्साइज एक्ट में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है, अब पुलिस हरीश गहलोत को नोटिस देकर पूछताछ के लिए बुलाएगी।

Kailash gahlot and Kailash gahlot

आपको बता दें कि दिल्ली में आचार संहिता लगने के बाद 99 हज़ार लीटर से ज्यादा की शराब बरामद की गई है जिसकी कीमत 2 करोड़ 72 लाख रुपये है, इसके अलावा ड्रग्स की अगर बात करे तो 774 किलो ड्रग्स बरामद की गई है जिसकी कीमत 4 करोड़ 91 लाख रुपए है, इतना ही नहीं 5 करोड़ 65 लाख रुपए का कैश भी बरामद किया गया है।

आचार संहिता का उल्लंघन करने में आम आदमी पार्टी नंबर 1 रही, इस चुनावों के दौरान आचार संहिता का उल्लंघन करने के लिए कुल 45 मामले दर्ज किए गए जिनमें सबसे ज्यादा 28 मामले आप के खिलाफ दर्ज हुए, 9 मामले कांग्रेस के खिलाफ, 4 बीजेपी के खिलाफ और 4 अन्य के खिलाफ दर्ज हुए।