Connect with us

देश

Punjab: फरीदकोर्ट के सत्र न्यायाधीश के आवास के बाहर दिखे खालिस्तानी समर्थित पोस्टर, एक्शन में आई पंजाब पुलिस

Punjab: मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, सत्र न्यायाशीध के आवास की दीवारों पर खालिस्तानी समर्थित पोस्टर लगें हैं। वहीं, फरीदकोट की SSP ने कहा, “SFJ कार्यकर्ता गुरपतवंत सिंह पन्नू का एक वीडियो सामने आया है और दीवारों पर नारे लिखे गए हैं। CCTV कैमरों की जांच की जा रही है।” उधर, खबरों की मानें तो पंजाब के फरीदकोट में सेशन जज की कोठी के बाहर ‘खालिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लिखे मिले हैं।

Published

on

khalistan

नई दिल्ली। पंजाब की राजनीति में आए दिन खालिस्तानी से जुड़ा मसला हमेशा सुर्खियों में रहता है। ये मसला कभी सूबे के सियासी पारा गरमा देता है, तो कभी सियासी सूरमाओं को सक्रिय कर देता है। बीते दिनों केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीनों कृषि कानूनों के विरोध में हुए किसान आंदोलन के दौरान भी खालिस्तान से जुड़ा एंगल प्रकाश में आया था, जिसे लेकर जोरदार बहस देखने को मिली थी। जिसके बाद किसान आंदोलन की विश्वनियता को भी सवालिया कठघरे में खड़ा किया था। खैर, छोड़िए उन बात को, उन मसलों पर किसी और दिन किसी और रिपोर्ट में बात करेंगे। फिलहाल तो हम आपको फरीदकोर्ट के सत्र न्यायाशीध के आवास पर लगे खालिस्तानी समर्थित पोस्टरों के बारे में विस्तार से बताते हैं।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, सत्र न्यायाशीध के आवास की दीवारों पर खालिस्तानी समर्थित पोस्टर लगें हैं। वहीं, फरीदकोट की SSP ने कहा, “SFJ कार्यकर्ता गुरपतवंत सिंह पन्नू का एक वीडियो सामने आया है और दीवारों पर नारे लिखे गए हैं। CCTV कैमरों की जांच की जा रही है।” उधर, खबरों की मानें तो पंजाब के फरीदकोट में सेशन जज की कोठी के बाहर ‘खालिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लिखे मिले हैं। हालांकि, इसका पता चलते ही पुलिस ने काले रंग के पेंट से नारे मिटा दिए। फरीदकोट में इससे पहले भी पार्क की दीवार पर यही नारे लिखे हुए थे। पंजाब में लगातार माहौल बिगाड़ने की साजिश की जा रही।

बताया जा रहा है कि माहौल को बिगाड़ने और शांति व्यवस्ता को भंग करने हेत इस तरह का कुकृत  किया गया है। लेकिन, पंजाब पुलिस ने साफ कर दिया है कि आगामी दिनों में इस पूरे मसले को संज्ञान में लेने के उपरांत समुचित कार्रवाई की जाएगी और ऐसे करने वाले लोगों को चिन्हित कर इनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। कोशिश रहेगी कि फिर कभी ऐसे कृत्यों की पुनरावृत्ति न हो सकें। ध्यान रहे कि इससे पहले भी प्रदेश में खालिस्तानियों से जुड़े मसले खासा सुर्खियों में रहे थे। लेकिन, अभी तक इस  कोई भी कड़ा एक्शन नहीं लिया गया है। अब ऐसे में देखना होगा कि प्रदेश सरकार की तरफ से इस संदर्भ में क्या कुछ कार्रवाई की जाती है। इस पर सभी की निगाहें टिकी रहेंगी। तब तक के लिए आप देश-दुनिया की तमाम बड़ी खबरों से रूबरू होने के लिए आप पढ़ते रहिए। न्यूज रूम पोस्ट.कॉम

Advertisement
Advertisement
Advertisement