Connect with us

देश

G20-Summit: ‘बाइडन से किया मजाक, तो मैक्रो को इशारे में बुलाया’, जी-20 में PM मोदी का जलवा देख उड़े सबके होश

G20-Summit: हालांकि, विश्व बिरदारी के समक्ष बायडन और पीएम मोदी को दोस्ती के किस्से काफी सुर्खियों में रहे हैं। आखिर उन दिनों को कैसे भुलाया जा सकता है, जब अमेरिका में सत्ता परिवर्तन हुआ था, तो बुद्धिजीवियों को इस बात का डर सताने लगा था कि अब अमेरिका और भारत के रिश्तों में खटास उत्पन्न हो सकता है।

Published

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अगर इस नए युग का प्रणेता कहा जाए तो किसी को गुरेज नहीं होना चाहिए, क्योंकि उन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान ना महज वैश्विक मंच पर भारत की साख बढ़ाई है, बल्कि कल तक जो लोग भारत को एक कमजोर राष्ट्र समझने की खता करते थे, आज उन सभी लोगों को भी अपना खता का भी एहसास हो रहा है। जिसकी ताजा बानगी आज हमें तब देखने को मिली, जब पीएम मोदी जी-20 शिखर सम्मेलन में शिरकत करने इंडोनेशिया के बाली पहुंचे। बता दें कि इस बार जी-20 शिखर सम्मेलन का आयोजन इंडोनेशिया के बाली में हो रहा है, जिसमें सभी 20 देशों के राष्ट्रध्यक्ष शामिल हुए हैं। इसमें अमेरिका, फ्रांस सहित अन्य देश शामिल हैं। इसी बीच पीएम मोदी जब जी-20 शिखर सम्मेलन में पहुंचे तो एक ऐसा वाकया हुआ जिसने एक बार फिर से पूरी दुनिया को पीएम मोदी के जलवे का एहसास करा दिया।

आपको बता दें कि जी -20 शिखर सम्मेलन में शिरकत करने पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विभिन्न सदस्यीय देशों के राष्ट्रध्यक्षों से मुखातिब हुए। इस बीच जब दुनिया की महाशक्ति कहे जाने वाले अमेरिका के राष्ट्रपति जो बायडन से मुखातिब हुए, तो वहां मौजूद सभी राष्ट्रध्यक्षों के होश फाख्ता हो गए।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Narendra Modi (@narendramodi)

औपचारिकता की दहलीज को पार कर पीएम मोदी बेहद ही दोस्ताना सलीके से अमेरिका के राष्ट्रपति से ना महज मुखातिब हुए, बल्कि उनके कान में भी कुछ बात कही और बायडन भी पीएम मोदी के साथ बेहद ही चटकारे अंदाज में गुफ्तगू करते हुए दिखें, जिसे देखकर वहां मौजूद लोग पल भर के लिए सकपका गए कि आखिर कैसे पीएम मोदी औपचारिकताओं की सीमाओं को लांघ कर ऐसे किसी राष्ट्रपति से मुखातिब हो रहे हैं, जैसे कि मानो वो दोनों दोस्त हों।

हालांकि, विश्व बिरदारी के समक्ष बाइडन और पीएम मोदी की दोस्ती के किस्से काफी सुर्खियों में रहे हैं। आखिर उन दिनों को कैसे भुलाया जा सकता है, जब अमेरिका में सत्ता परिवर्तन हुआ था, तो बुद्धजीवियों को इस बात का डर सताने लगा था कि अब अमेरिका और भारत के रिश्तों में खटास उत्पन्न हो सकता है, लेकिन पीएम मोदी अपनी कूटनीति का डंका बजाकर इन सभी बुद्धजीवियों को गलत साबित कर दिया और लगे हाथों यह भी एहसास दिया कि मोदी हैं, तो मुमकिन हैं… !

ऋषि सुनक से भी मुखातिब हुए PM मोदी

इस बीच पीएम मोदी भारतीय मूल के ब्रिटिश पीएम ऋषि सुनक से भी मुखातिब हुए। दोनों के बीच यह मुलाकात आत्मीयता से लबरेज रही। इस बीच राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल भी मौजूद थे। ध्यान रहे कि ऋषि सुनक बीते दिनों ब्रिटेन के प्रधानमंत्री पद पर विराजमान रहे हैं। इससे पूर्व सुनक बेरिस जॉनसन सरकार में वित्त मंत्री का कार्यभार भी संभाल चुके हैं। खासकर कोरोना काल में जिस तरह बतौर वित्त मंत्री उन्होंने देश की अर्थव्यवस्था को संभाला था, उसका पूरा देश कायल हो गया था।

इन मुद्दों पर हो सकती चर्चा

वैसे तो जी -20 शिखर सम्मेलन में कई मुद्दों पर चर्चा होने की संभावना जताई जा रही है, लेकिन इस बार चर्चा के केंद्र में रूस-यूक्रेन युद्ध, खाद्य आपूर्ति, आतंकवाद, जलवायु परिवर्तन सहित अन्य मुद्दे शामिल हैं। ध्यान रहे कि सम्मलेन में शिरकत करने से पूर्व ही पीएम मोदी इस बात की ओर संकेत कर चुके हैं कि इस बार वो वैश्विक मंच पर मुद्दों को जोर शोर से उठाएंगे।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement