निर्भया केस में दोषी मुकेश ने राष्ट्रपति को भेजी अपनी दया याचिका

मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने निर्भया केस के दो दोषियों की क्यूरेटिव याचिका को खारिज कर दिया। इस याचिका के खारिज के होने के बाद दोषी मुकेश राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के पास अपनी दया याचिका भेजी है।

Written by: January 14, 2020 7:33 pm

नई दिल्ली। मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने निर्भया केस के दो दोषियों की क्यूरेटिव याचिका को खारिज कर दिया। इस याचिका के खारिज के होने के बाद दोषी मुकेश राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के पास अपनी दया याचिका भेजी है। निर्भया गैंगरेप केस में दोषी मुकेश सिंह के पास ये आखिरी दांव है।

Mukesh singh Nirbhya

राष्ट्रपति के पास भेजी दया याचिका

इससे पहले विनय शर्मा और मुकेश की तरफ से क्यूरेटिव याचिका दायर की गई थी, जिसपर जस्टिस एनवी रमना, जस्टिस अरुण मिश्रा, जस्टिस रोहिंटन फली नरीमन, जस्टिस आर. भानुमति और जस्टिस अशोक भूषण की पांच जजों वाली पीठ ने सुनवाई की। उनकी इस याचिका के खारिज होने के बाद अब उम्मीद की जा रही है कि दोषियों को 22 जनवरी की सुबह 7 बजे फांसी दी जाएगी।

Nirbhaya case

पटियाला हाउस कोर्ट का फैसला

फांसी की सजा को लेकर पटियाला हाउस कोर्ट ने निर्भया गैंगरेप केस के चारों दोषियों का डेश वारंट जारी किया था। कोर्ट ने इस मामले में चार दोषियों को 22 जनवरी की सुबह सात बजे फांसी देने का समय तय किया है। बीते दिनों तिहाड़ जेल में डमी ट्रायल भी हुआ। दोषियों को उत्तर प्रदेश का पवन जल्लाद फांसी के फंदे पर लटकाएगा।

nirbhaya_kand-rape-

क्या था मामला

बता दें कि 16 दिसंबर, 2012 को एक 23 वर्षीय महिला के साथ बेहरमी से सामूहिक दुष्कर्म किया गया और दोषियों की ओर से पीड़िता को काफी अत्याचार भी झेलना पड़ा, जिसके बाद उसकी मौत हो गई। इसके बाद अपराध में शामिल सभी छह आरोपियों को गिरफ्तार कर दुष्कर्म व हत्या का मामला दर्ज किया गया।