Connect with us

देश

Pegasus Row: मोदी सरकार पर पेगासस से जासूसी कराने का विपक्ष का आरोप निकला झूठा! एक भी फोन में नहीं मिला सबूत

साल 2021 में संसद के मॉनसून सत्र से ठीक एक दिन पहले आरोप लगा था कि दुनियाभर की सरकारों ने इजरायल की कंपनी एनएसओ के इस जासूसी सॉफ्टवेयर से अपने विरोधियों की जासूसी कराई। जिन लोगों का भारत में नाम आया था, उनमें कांग्रेस के नेता राहुल गांधी, चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर और मौजूदा आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव का भी नाम था।

Published

on

pegasus spyware

नई दिल्ली। पेगासस स्पाईवेयर के जरिए विपक्षी नेताओं और मोदी सरकार विरोधी पत्रकारों के फोन की जासूसी का आरोप जांच में टांय-टांय फिस निकल गया है। ये खबर अंग्रेजी अखबार ‘हिंदुस्तान टाइम्स’ ने दी है। अखबार के मुताबिक इस मामले की जांच कर रही सुप्रीम कोर्ट की तकनीकी कमेटी ने 100 से ज्यादा मोबाइल फोन की जांच की और एक में भी पेगासस का कोई निशान नहीं पाया गया। जिन लोगों ने जांच के लिए अपने फोन दिए थे, उनमें शशि मेनन, संदीप शुक्ला, एन. राम, रूपेश कुमार, जगदीप छोकर, जॉन ब्रिटास, सिद्धार्थ वरदराजन, प्रोफेसर डेविड काये, जे. गोपीकृष्णन और परंजॉय गुहा ठाकुरता भी हैं।

pegasus and supreme court

साल 2021 में संसद के मॉनसून सत्र से ठीक एक दिन पहले आरोप लगा था कि दुनियाभर की सरकारों ने इजरायल की कंपनी एनएसओ के इस जासूसी सॉफ्टवेयर से अपने विरोधियों की जासूसी कराई। जिन लोगों का भारत में नाम आया था, उनमें कांग्रेस के नेता राहुल गांधी, चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर और मौजूदा आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव का भी नाम था। प्रियंका गांधी ने भी आरोप लगाया था कि उनके फोन की भी जासूसी हुई। इसके खिलाफ तमाम लोगों ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दी थी। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने सरकार की खिंचाई करते हुए अपने पूर्व जस्टिस आरवी रवींद्रन की अध्यक्षता में तकनीकी विशेषज्ञों की एक कमेटी बनाई थी। हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक अत्याधुनिक तकनीकी से इस कमेटी ने सारे मोबाइल फोन की जांच की, लेकिन किसी में भी पेगासस लोड किए जाने का कोई सबूत नहीं मिला।

PM-Modi-Pegasus

इस मामले में जस्टिस रवींद्रन ने अखबार को कोई और जानकारी देने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि मामला अभी कोर्ट में है। सुप्रीम कोर्ट में इस मामले की सुनवाई चीफ जस्टिस एनवी रमना, जस्टिस सूर्यकांत और जस्टिस हिमा कोहली की बेंच कर रही थी। बेंच को सरकार ने बताया था कि राष्ट्रीय सुरक्षा का मामला होने की वजह से वो इस बारे में कुछ नहीं बता सकती। हालांकि, आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव ने संसद में अपने बयान में कहा था कि सरकार पर जासूसी कराने का जो इल्जाम लग रहा है, वो सही नहीं है।

Advertisement
Advertisement
देश6 hours ago

Gujarat News : ‘बोला विरमगाम, योगी जी को जय श्रीराम’, रोड शो में केसरिया फहरा, यूपी के बाबा का जोरदार इस्तकबाल

Imran Khan 123
दुनिया6 hours ago

Imran Khan : रावलपिंडी में जनसभा के दौरान नवाज परिवार पर बरसे इमरान खान, पाकिस्तान की सभी विधानसभाओं से PTI के इस्तीफे का किया ऐलान

देश7 hours ago

Politics : रेवड़ी संस्कृति’ की राजनीति बंद हो, शिक्षा केन्द्रित राजनीति नए भारत का मुद्दा होगी : याज्ञवल्क्य शुक्ल

देश8 hours ago

RTI On Imam’s Salary : ‘हिंदुओं के साथ विश्वासघात’ है इमामों को सैलरी दिया जाना, दिल्ली सरकार के फैसले पर क्यों भड़के केंद्रीय सूचना आयुक्त?

देश9 hours ago

Gujarat: गुजरात चुनाव के बीच वनवासी व आदिवासी मसले पर जंग, राहुल के बयान से गरमाई सियासत; जानिया क्या है पूरा बवाल

Advertisement