Farmers Bill : कृषि बिल को लेकर संसद परिसर में विपक्ष का हंगामा, आज शाम 5 बजे विपक्षी पार्टियां करेंगी राष्ट्रपति से मुलाकात

Farmers Bill : कांग्रेस(Congress) कृषि विधेयकों(Farmers Bill) के खिलाफ पूरे देश में विरोध प्रदर्शन करेगी। इस मुद्दे को वो आसानी से नहीं जाने देगीष इसीलिए कांग्रेस ने राष्ट्रव्यापी विरोध-प्रदर्शन करने कमन बनाया है।

Avatar Written by: September 23, 2020 3:25 pm
Parliament MP Play card

नई दिल्ली। कृषि विधेयक को लेकर सदन और सदन के बाहर विपक्ष का हंगामा जारी है। बुधवार को सदन परिसर में विपक्षी सांसदों ने खूब हंगामा किया। संसद से पारित हो चुके किसान बिल को लेकर विपक्ष लगातार सरकार को निशाने पर ले रही है। इस बिल को लेकर राज्यसभा में हंगामा हुआ था। स्थिति उपसभापति के साथ बदसलूकी तक आ चुकी है। जिसके बाद 8 सांसदों को निलंबित कर दिया गया था। उसके बाद से ही समूचे विपक्ष ने संसद के दोनों सदनों का बहिष्कार किया हुआ है। इस बिल को लेकर विपक्षी पार्टियां आज शाम 5 बजे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंदसे मुलाकात करेंगी। इस बीच संसद परिसर में सभी विपक्षी पार्टियां प्रदर्शन कर रही हैं। इस दौरान सभी के हाथ में किसान बचाओ के प्लेकार्ड भी हैं। प्रदर्शन में कांग्रेस के जयराम रमेश, गुलाम नबी आजाद, तृणमूल कांग्रेस के डेरेक ओ ब्रायन समेत विपक्ष के कई नेता मौजूद हैं। संसद परिसर में विपक्षी पार्टियों के नेताओं ने गांधी मूर्ति से लेकर अंबेडकर मूर्ति तक मार्च भी निकाला।

 

बता दें कि किसान बिल के खिलाफ कुल 16 दलों ने राष्ट्रपति को चिट्ठी लिखी है। इसी कड़ी में बुधवार शाम में 5 पार्टियों के नेता राष्ट्रपति से मुलाकात करेंगे। संख्या इसलिए सीमित है क्योंकि कोरोना संकट है, ऐसे में राष्ट्रपति से अधिक लोगों के मिलने की मंजूरी नहीं मिली है। हालांकि, ये सभी नेता सभी विपक्षी पार्टियों की चिंताएं व्यक्त करेंगे। इनमें कांग्रेस, टीएमसी, सपा, डीएमके और टीआरएस के प्रतिनिधि शामिल होंगे।

Agriculture Bill Rajyasabha Sanjay Singh

बता दें कि कांग्रेस कृषि विधेयकों के खिलाफ पूरे देश में विरोध प्रदर्शन करेगी। इस मुद्दे को वो आसानी से नहीं जाने देगीष इसीलिए कांग्रेस ने राष्ट्रव्यापी विरोध-प्रदर्शन करने कमन बनाया है। सोमवार को कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के साथ बैठक के बाद के सी वेणुगोपाल ने कहा था कि इन विधेयकों के खिलाफ किसानों और गरीब लोगों के दो करोड़ हस्ताक्षर जुटाने के लिए पार्टी अभियान चलाएगी। उन्होंने कहा कि इसके बाद राष्ट्रपति को एक ज्ञापन भी सौंपा जाएगा। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि कृषि विधेयकों के खिलाफ देशभर में श्रृंखलाबद्ध तरीके से प्रेसवार्ता भी आयोजित की जाएगी।

Rajyasabha

उन्होंने कहा कि पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और अन्य वरिष्ठ नेता अपने-अपने राज्यों में रैली निकालेंगे और संबंधित राज्यपाल को ज्ञापन भी सौंपेंगे। इस दौरान, कांग्रेस ने कृषि विधेयकों के संबंध में शिरोमणि अकाली दल पर ”दोहरे नीति” का आरोप लगाते हुए पूछा कि वे सत्तारूढ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से अलग क्यों नहीं हो रहे हैं? कांग्रेस समेत कई विपक्षी दल संसद में पारित किए गए कृषि विधेयकों को किसान विरोधी करार दे रहे हैं।