अभिनंदन मामले में क्यों डरा हुआ था पाकिस्तान, बीएस धनोवा ने बताया क्या थी भारतीय वायुसेना की तैयारी…

BS Dhanoa: बीएस धनोवा ने आगे कहा कि बालाकोट(Balakot) एयरस्ट्राइक(Airstrike) के बाद पाकिस्तान पर कूटनीतिक और रणनीतिक तौर पर दबाव था। हमें 1999 में कारगिल की घटना याद है जब पाकिस्तान ने अंतिम समय पर धोखा दिया था, इसलिए हम सतर्क थे।

Avatar Written by: October 29, 2020 3:02 pm
BS dhanoa Abhinandan

नई दिल्ली। पाकिस्तान की संसद में पाक सांसद अयाज सादिक ने दावा किया है कि, ‘भारतीय विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान के पकड़े जाने पर पाकिस्तान में भय का माहौल था। भारत पाकिस्तान पर कहीं हमला ना कर दे, इस खौफ से पाकिस्तान ने अभिनंदन को जल्दबाजी में छोड़ दिया।’ वहीं इसका एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें पाकिस्तान की संसद में उसके सांसद खुद कबूल कर रहे हैं कि भारतीय ताकत के आगे पाकिस्तान के हाथ-पांव कैसे फूल गए थे। इसको लेकर अब भारतीय वायुसेना के पूर्व चीफ बीएस धनोआ ने कहा है कि, वायुसेना ने पाकिस्तान की फॉर्वर्ड ब्रिगेड पर हमले की पूरी तैयारी कर ली थी और उस दौरान भारतीय सैन्य रुख काफी आक्रामक था। उन्होंने कहा, ‘मैंने अभिनंदन के पिता से वादा किया था कि हम निश्चित रूप से अभिनंदन को वापस लेकर आएंगे। पाकिस्तानी सांसद ने जो कहा है, वह इसलिए क्योंकि उस दौरान हमारा रुख बहुत ही आक्रामक था। उन्हें हमारी सैन्य ताकत का अंदाजा था और हम पाक की अग्रिम ब्रिगेडों का सफाया करने के लिए पूरी तरह से तैयार थे।

बीएस धनोवा ने आगे कहा कि बालाकोट एयरस्ट्राइक के बाद पाकिस्तान पर कूटनीतिक और रणनीतिक तौर पर दबाव था। हमें 1999 में कारगिल की घटना याद है जब पाकिस्तान ने अंतिम समय पर धोखा दिया था, इसलिए हम सतर्क थे। उन्होंने कहा कि मैंने अभिनंदन के पिता के साथ काम किया है और मैंने उन्हें वादा किया था कि अभिनंदन को हम वापस लाएंगे।

IAF pilot Wing Commander Abhinandan Varthaman waiting to cross over to India at the Attari-Wagah border on Pakistan side

बता दें कि फरवरी 2019 में पाकिस्तान ने हमले के लिए अपने फाइटर जेट भारत में भेजे थे। जिसका जवाब देने के लिए भारतीय वायु सेना के विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान ने मिग-21 में उड़ान भरी थी। इस दौरान अभिनंदन का विमान क्रैश हो गया और पीओके में जा गिरा। जिसके बाद पाकिस्तान की सेना ने उन्हें अपने गिरफ्त में ले लिया था। इसपर भारत की तरफ से पाकिस्तान पर भारी दबाव बनाया गया जिसके बाद अभिनंदन को अटारी-वाघा बॉर्डर से भारत वापस लौटाया गया था। लेकिन इस पूरे वाकये को लेकर अब एक नया खुलासा हुआ है। और यह खुलासा खुद पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री ख्वाजा मोहम्मद आसिफ ने किया है। वहीं पाकिस्तान असेंबली के पूर्व स्पीकर अयाज सादिक ने बताया कि अभिनंदन जब पाकिस्तान आर्मी के कब्जे में थे तो किस कदर पाक में खौफ का माहौल था।

Pakistani Army chief General Qamar Javed Bajwa

पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री ख्वाजा मोहम्मद आसिफ ने भारत से डर का खुलासा करते हुए कहा है कि भारत के खौफ के कारण पिछले साल विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान की रिहाई हुई थी। भारत को खुश करने के लिए अभिनंदन को छोड़ा गया था। पाकिस्तान असेंबली के पूर्व स्पीकर अयाज सादिक ने कहा, ‘उस समय पाकिस्तान को डर था कि कहीं भारत उस पर हमला न कर दे। भारत के हमले की आशंका से उस समय पाकिस्तान के सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा के पैर कांप रहे थे और चेहरे पर पसीना आ रहा था। बाजवा को भारत के हमले का डर सता रहा था।’