Connect with us

देश

Tension For Mamata: बंगाल में फुरफुरा शरीफ दरगाह के पीरजादा ने बढ़ाई ममता बनर्जी की टेंशन, दे दी ये बड़ी चुनौती

कासिम सिद्दीकी ने न्यूज चैनल रिपब्लिक बांग्ला से बात करते हुए कहा कि हम मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के लिए स्टियरिंग हैं। जिधर घुमाएंगे, लोग उधर ही जाएंगे। कासिम सिद्दीकी ने न्यूज चैनल के रिपोर्टर को दिखाते हुए कहा कि देखिए मुसलमान ही नहीं, हिंदू भी फुरफुरा शरीफ को मानते हैं।

Published

Mamata Banerjee

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में पंचायत चुनाव होने हैं। इससे ठीक पहले फुरफुरा शरीफ दरगाह के पीरजादा ने सीएम और टीएमसी सुप्रीमो ममता बनर्जी की टेंशन बढ़ाने वाला बयान दिया है। हुगली जिले में मुस्लिमों के प्रसिद्ध स्थल फुरफुरा शरीफ के पीरजादा कासिम सिद्दीकी ने कहा है कि वो जिधर चाहेंगे, बंगाल के लोग उसी तरफ जाएंगे। कासिम सिद्दीकी ने न्यूज चैनल रिपब्लिक बांग्ला से बात करते हुए कहा कि हम मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के लिए स्टियरिंग हैं। जिधर घुमाएंगे, लोग उधर ही जाएंगे। कासिम सिद्दीकी ने न्यूज चैनल के रिपोर्टर को दिखाते हुए कहा कि देखिए हमारे फुरफुरा शरीफ में कितने हिंदू भी आते हैं। उन्होंने कहा कि सिर्फ मुसलमान ही नहीं, हिंदू भी फुरफुरा शरीफ को मानते हैं।

दरअसल, कासिम सिद्दीकी 21 जनवरी को अपनी समर्थित पार्टी इंडियन सेक्युलर फ्रंट (आईएसएफ) के विधायक की गिरफ्तारी से नाराज हैं। 21 जनवरी को कोलकाता के एस्प्लेनेड इलाके में आईएसएफ ने विरोध प्रदर्शन किया था। उस दौरान कार्यकर्ताओं की पुलिस से जमकर झड़प हुई थी। आईएसएफ के कई कार्यकर्ता इसमें घायल हुए थे। पुलिस ने प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे आईएसएफ के विधायक नौशाद सिद्दीकी और पार्टी के 100 समर्थकों को गिरफ्तार किया था। ये सभी भांगर इलाके में टीएमसी कार्यकर्ताओं की तरफ से किए जा रहे हमले का विरोध कर रहे थे। पुलिस ने उनसे इलाका खाली करने को कहा था, लेकिन उन्होंने इनकार कर दिया था। इसी से फुरफुरा शरीफ के पीरजादा नाराज हैं।

furfura sharif peerzada

फुरफुरा शरीफ के मौलवी अब्बास सिद्दीकी की फाइल फोटो।

आईएसएफ का गठन फुरफुरा शरीफ के मौलवी अब्बास सिद्दीकी ने साल 2021 के विधानसभा चुनाव से पहले किया था। आईएसएफ ने ममता की टीएमसी के खिलाफ वामदलों और कांग्रेस से गठबंधन किया था। उस चुनाव में आईएसएफ का तो विधायक चुन लिया गया, लेकिन वामदलों और कांग्रेस को एक भी सीट नहीं मिली थी। आईएसएफ और टीएमसी के बीच तभी से काफी तनातनी है। अब कोलकाता में हुए संघर्ष और विधायक की गिरफ्तारी से दोनों के बीच टकराव और बढ़ गया है। पश्चिम बंगाल में करीब 27 फीसदी मुस्लिम आबादी है। इनमें से ज्यादातर फुरफुरा शरीफ दरगाह को काफी मानते हैं। फुरफुरा शरीफ दरगाह में बंगाल के अलावा आसपास के राज्यों से भी लोग आते हैं।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement