Connect with us

देश

Uttar Pradesh: यूपी में बदमाशों के लिए काल बन गए हैं सीएम योगी, धड़ाधड़ मारे जा रहे अपराधी, माफिया की भी तोड़ दी कमर

दंगा करने और सरकारी और निजी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वालों के अवैध घरों को बुलडोजर से ढहाने का काम भी देश में पहली बार योगी सरकार ने शुरू किया। जिसकी वजह से सीएम योगी को अब ‘बुलडोजर बाबा’ के नाम से पहचाना जाने लगा है। हर तरफ कानून और व्यवस्था के लिए उठाए कदमों की सराहना हो रही है।

Published

CM YOGI

लखनऊ। साल 2017 में पहली बार यूपी की सत्ता संभालने के बाद ही सीएम योगी आदित्यनाथ ने गुंडों और माफिया के खिलाफ अभियान शुरू करने का एलान किया था। उन्होंने साफ कह दिया था कि जो सुधर नहीं सकता, उसे यूपी छोड़ने या जान गंवाने के लिए तैयार रहना होगा। उनसे पहले की सरकारों के दौर में बदमाशों ने पुलिस के इकबाल को चुनौती देने में कोई कसर नहीं छोड़ी थी। आए दिन बड़े अपराध होते थे। अब वो दिन इतिहास बन चुके हैं। अब यूपी में बदमाशों को पुलिस छोड़ती नहीं है। या तो वे जेल जाते हैं, या मुठभेड़ों में बदमाशों को जान गंवाना पड़ता है। अपराध के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की सीएम योगी की इस नीति का ही नतीजा है कि अब तक 168 बदमाश पुलिस से मुठभेड़ में मारे जा चुके हैं। 20 मार्च 2017 से अब तक के आंकड़े देखें, तो मुठभेड़ों में 22234 बदमाश पकड़े गए हैं। वहीं, बदमाशों की फायरिंग में 1375 पुलिसकर्मी घायल हुए और 13 को शहीद भी होना पड़ा है।

up criminal

प्रदेश में जोन के हिसाब से देखें, तो आगरा जोन में 2095 मुठभेड़ों में 19 बदमाश मारे गए। प्रयागराज जोन में 436 मुठभेड़ हुईं। इनमें 10 बदमाश ढेर हो चुके हैं। बरेली जोन में 1440 मुठभेड़ों में 7 बदमाश मारे गए हैं। गोरखपुर जोन में 374 मुठभेड़ और 7 बदमाश मारे गए। कानपुर जोन में 455 मुठभेड़ों में 7 बदमाशों की जान गई। कानपुर कमिश्नरेट में 131 मुठभेड़ों में 1 बदमाश मारा जा चुका है। लखनऊ जोन में 481 मुठभेड़ में 11 बदमाश ढेर हुए हैं। वहीं, लखनऊ कमिश्नरेट में 81 मुठभेड़ों में 8 बदमाश मारे गए। वाराणसी जोन में 656 मुठभेड़ों में 19 बदमाश मारे जा चुके हैं। वाराणसी कमिश्नरेट में 105 मुठभेड़ों में 7 बदमाश मारे गए हैं। गौतमबुद्धनगर यानी नोएडा कमिश्नरेट में पुलिस ने 644 मुठभेड़ में 8 बदमाशों को मार गिराया है। सबसे ज्यादा बदमाश मेरठ जोन में मारे गए हैं। इस जोन में 3459 मुठभेड़ हुईं। जिनमें 64 बदमाशों को ढेर किया गया।

Atiq Ahmed And Mukhtar Ansari

इसके अलावा योगी सरकार में माफिया के खिलाफ भी जमकर अभियान चलाया जा रहा है। माफिया मुख्तार अंसारी और अतीक अहमद जैसों की कभी तूती बोलती थी, लेकिन दोनों लंबे अर्से से जेल में हैं। इनकी करोड़ों की संपत्ति को योगी सरकार ने या तो बुलडोजर से ध्वस्त करा दिया है। या इनकी संपत्ति जब्त कर ली गई है। मुख्तार अंसारी की 448 करोड़ और अतीक अहमद की 959 करोड़ की संपत्ति जब्त हुई है। वहीं, दंगा करने और सरकारी और निजी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वालों के अवैध घरों को बुलडोजर से ढहाने का काम भी देश में पहली बार योगी सरकार ने शुरू किया। जिसकी वजह से सीएम योगी को अब ‘बुलडोजर बाबा’ के नाम से पहचाना जाने लगा है। हालत ये है कि गुजरात या अन्य प्रदेशों में जब योगी चुनाव प्रचार करने जाते हैं, तो उनकी जनसभाओं में समर्थकों ने बुलडोजर से पहुंचना भी शुरू कर दिया है।

Advertisement
Advertisement
Advertisement