निर्भया के हत्यारों की फांसी पर लटकी तलवार, अब विनय ने दायर की दया याचिका

निर्भया के चारों हत्यारे फांसी की सजा से बचने के लिए हर कानूनी दांव पेंच अपनाने की कोशिश कर रहे हैं। दरअसल निर्भया दोषी विनय ने नया पैतरा चला है।

Written by: January 29, 2020 6:44 pm

नई दिल्ली। निर्भया के चारों हत्यारे फांसी की सजा से बचने के लिए हर कानूनी दांव पेंच अपनाने की कोशिश कर रहे हैं। दरअसल निर्भया दोषी विनय ने नया पैतरा चला है। विनय के वकील एपी सिंह ने दया याचिका दाखिल कर दी है। बुधवार को राष्ट्रपति के पास दया याचिका दाखिल की गई। हालांकि विनय की क्यूरेटिव याचिका सुप्रीम कोर्ट खारिज कर चुका है।

Nirbhaya convict Mukesh Singh

वहीं दूसरी ओर निर्भया गैंग रेप और हत्याकांड के दोषी मुकेश के फांसी से बचने का आखिरी विकल्प भी आज खत्म हो गया। बता दें, सुप्रीम कोर्ट ने दया याचिका खारिज करने के राष्ट्रपति के फैसले की समीक्षा से मना कर दिया है। कोर्ट ने कहा है कि राष्ट्रपति ने पूरी तरह विचार के बाद फैसला लिया है।

Vinay Mukesh Nirbhaya

आपको बता दें, विनय की दया याचिका खारिज होने के बाद मुकेश की तरह वो भी चुनौती याचिका दायर कर सकता है। ऐसे में अब लगभग तय है कि 1 फरवरी को इनकी लाइफ लीज थोड़ी बढ़ जाएगी। साल 2012 में दिल्ली में सामूहिक दुष्कर्म और हत्या मामले में चार दोषियों को तीन दिन बाद फांसी की सजा दी जानी है।

President Ramnath Kovind

न्यायमूर्ति आर. भानुमति, अशोक भूषण और ए.एस. बोपन्ना की सदस्यता वाली पीठ ने कहा कि इस मामले से संबंधित सभी मामले राष्ट्रपति के समक्ष पेश किए गए थे और इसके बाद उसकी (मुकेश की) दया याचिका पर फैसला किया गया।